'एक वोट से दो सरकार' के वादे को करेंगे पूरा, गोपाल भार्गव बोले- तैयारी के बाद फ्लोर टेस्ट की करेंगे मांग

विकास सिंह| Last Updated: मंगलवार, 21 मई 2019 (08:17 IST)
भोपाल। लोकसभा चुनाव के दौरान भाजपा ने मध्य प्रदेश में 23 मई के बाद सरकार के गिरने का जो दावा किया था वो एग्जिट पोल की नतीजों
के बाद ही पूरे उफान पर आ गया है। चुनाव नतीजे आने से पहले ही मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार के भविष्य को लेकर अटकलें तेज हो गई है।

इस बीच राज्यपाल को पत्र लिखकर विधानसभा सत्र बुलाने की मांग करने वाले नेता प्रतिपक्ष ने वेबदुनिया से बातचीत में कहा कि लोकसभा चुनाव के वक्त जनता से‘एक वोट से दो सरकार’ का जो वादा किया था उसको पूरा करेंगे। वेबदुनिया के एक वोट से दो सरकार के सवाल पर गोपाल भार्गव ने साफ कहा कि लोगों ने हमारी बात मानी हैं तो हम लोग भी उनकी बात मानेंगे।
सरकार गिराने के लिए हॉर्स ट्रेडिंग नहीं – मुख्यमंत्री कमलनाथ के सरकार गिराने की कोशिश करने वाले बयान पर पलटवार करते हुए गोपाल भार्गव ने कहा कि सरकार को गिराने के लिए भाजपा हॉर्स ट्रेडिंग (विधायकों की खरीद फरोख्त ) का सहारा नहीं लेगी। गोपाल भार्गव ने मुख्यमंत्री के आरोपों को झूठा बताते हुए कहा कि जब हमने चुनाव के बाद बहुमत नहीं मिलने वाली पार्टी की सरकार बनने पर फ्लोर टेस्ट करने की मांग की तो अब सरकार गिराने का गंदा काम नहीं करेंगे, कांग्रेस सरकार खुद अपने बोझ से गिर जाएगी।
तैयारियों के साथ करेंगे फ्लोर टेस्ट की बात – मुख्यमंत्री कमलनाथ के फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार होने पर गोपाल भार्गव ने वेबदुनिया से बातचीत में साफ किया कि भाजपा ने अभी फ्लोर टेस्ट की कोई मांग नहीं की है। राज्यपाल को पत्र लिखकर जनसमस्याओं पर चर्चा करने के लिए विशेष सत्र बुलाने की मांग की गई है। इसके साथ ही गोपाल भार्गव ने साफ किया कि फ्लोर टेस्ट की जब आवश्यकता होगी तो फ्लोर टेस्ट भी कराएंगे इसमें पार्टी पीछे नहीं रहेगी। जब सभी चीजें सुनिश्चित कर लेंगे तभी फ्लोर टेस्ट की बात करेंगे।
कमलनाथ सरकार असफल सरकार – वेबदुनिया से बातचीत में गोपाल भार्गव ने कहा कि प्रदेश की ज्वलंत समस्याओं पर सरकार जवाब देने बच रही है इसलिए पार्टी ने विधानसभा सत्र बुलाने की मांग राज्यपाल से की है। उन्होंने कहा कि सरकार कर्जमाफी पर लोगों के बीच भ्रम फैला रही है इसलिए कर्जमाफी की सच्चाई लाने के लिए विधानसभा सत्र में इस पर चर्चा जरूरी है।

गोपाल भार्गव ने कहा कि कमलनाथ सरकार एक असफल सरकार और इस सरकार ने देश भर में राज्य की बदनामी कराई है। इस सरकार के कार्यकाल में चारों तरफ भष्टाचार हो रहा है लोगों के घरों से बोरे भर भऱकर नोट निकल रहे है । इसलिए सत्र के जरिए विपक्ष सरकार की सच्चाई को जनता के सामने लाएगा।

 

और भी पढ़ें :