भचक्र किसे कहते हैं?

अनिरुद्ध जोशी|
क्या है? भचक्र को ही कहते हैं। राशि या राशि चक्र को समझने के लिए नक्षत्रों को समझना आवश्यक है। क्योंकि राशियां नक्षत्रों से ही निर्मित होती है। राशियों का अपना कोई अस्तित्व नहीं। में राशि और राशिचक्र निर्धारण के लिए धरती के आकाश मंडल में 360 डिग्री के एक आभाषीय पथ का निर्धारण किया गया है।
इस आभाषीय पथ पर आने वाले तारा समूहों को 27 भागों में विभाजित किया गया है। प्रत्येक तारा समूह एक है। यानि की इस आभाषीय पथ से 27 नक्षत्र एक के बाद एक गुजरते जाते हैं। इस 27 नत्रों को भी सुविधानुसार 12 भागों में विभाजित कर दिया गया है। ये 12 भाग ही राशियां कहलाती हैं। यदि हम नक्षत्रों की 360 डिग्री में विभाजित करें तो प्रत्येक नक्षत्र 13 डिग्री और 20 मिनट का होता है और यदि हम 12 राशियों को 360 डिग्री में विभाजित करें तो प्रत्येक राशि 30 डिग्री की होती है।
वैदिक ज्योतिष में राशिचक्र को 360 डिग्री में बांटा गया है इस आधार पर प्रत्येक राशि 30 डिग्री की होती है। इस राशिचक्र को ही भचक्र कहते हैं। राशिचक्र में पहला नक्षत्र है अश्विनी नक्षत्र इसलिए इसे पहला तारा भी कहते हैं। इसके बाद है भरणी नक्षत्र, फिर कृतिका आदि कुल 27 नक्षत्र होते हैं। पहले दो नक्षत्र अश्विनी और भरणी से मेष राशि का निर्माण होता है। मतलब यह कि एक राशि ढाई नक्षत्र से बनती है।
प्रत्येक ग्रह-राशि का विस्तार 30 अंश निर्धारित किया गया है। इसी 360 अंश के क्रांतिवृत के दोनों और 9 9 अंश विस्तार की कुल 18 अंश की चौड़ी पट्टी है जिसे भचक्र कहते हैं। इस भचक्र पर सभी ग्रह और नक्षत्र बारी बारी से पूर्व में उदित होकर पश्चिम में अस्त होते हैं।

27 नक्षत्रों के नाम: आश्विन, मघा, मूल, भरणी, पूर्वा फाल्गुनी, पूर्वाषाढ़ा, कार्तिक, उत्तरा फाल्गुनी, उत्तराषाढ़ा, रोहिणी, हस्त, श्रवण, मृगशिरा, चित्रा, धनिष्ठा, आर्द्रा, स्वाति, शतभिषा, पुनर्वसु, विशाखा, पूर्वा भाद्रपद, पुष्य, अनुराधा, उत्तरा भाद्रपद, आश्लेषा, ज्येष्ठा और रेवती।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

राशिफल

गोमती चक्र के यह 5 टोटके आपको हिला कर रख देंगे,शुभता के लिए ...

गोमती चक्र के यह 5 टोटके आपको हिला कर रख देंगे,शुभता के लिए अवश्य आजमाएं
आइए जानते हैं, गोमती चक्र के यह 5 चमत्कारी टोटके जो आपके जीवन की दिशा बदल देंगे।

सुख, चैन और प्रेम के लिए यह 6 चांदी की शुभ चीजें रखें अपने ...

सुख, चैन और प्रेम के लिए यह 6 चांदी की शुभ चीजें रखें अपने घर में...
चांदी के इन उपायों से धन, समृद्धि, शांति और सेहत बढ़ती है। घटना-दुर्घटना, गृहकलह और ...

परीक्षा से पहले अंडा खाएंगे तो अंडा ही मिलेगा... पढ़ें ...

परीक्षा से पहले अंडा खाएंगे तो अंडा ही मिलेगा... पढ़ें कैसे-कैसे अंधविश्वास प्रचलित हैं विदेशों में
विदेशों में कई तरह की अजीबोगरीब मान्यताएं है, जिन्हें पढ़कर कभी आप हैरत में पड़ जाएंगे तो ...

ज्योतिष के अनुसार सूर्य की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार सूर्य की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार ग्रह की परिभाषा अलग है। भारतीय ज्योतिष और पौराणिक कथाओं में नौ ग्रह ...

घर को पेंट करवाने से पहले पढ़ें ये 5 वास्‍तु टिप्स

घर को पेंट करवाने से पहले पढ़ें ये 5 वास्‍तु टिप्स
क्या आप अपने नए घर को पेंट करवाने का सोच रहे हैं? या अपने पुराने आशियाने को ही नई रंगत ...

ज्योतिष के अनुसार राहु की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते ...

ज्योतिष के अनुसार राहु की खास विशेषताएं, जो आप नहीं जानते होंगे...
ज्योतिष के अनुसार हर ग्रह की परिभाषा अलग है। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत है राहु के बारे ...

सूर्य आए मिथुन में, यह 3 राशियां हैं खतरे में.. सावधानी ...

सूर्य आए मिथुन में, यह 3 राशियां हैं खतरे में.. सावधानी बरतें
सूर्य ने वृष राशि से मिथुन में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के राशि बदलते ही समस्त राशियों पर ...

20 जून 2018 का राशिफल और उपाय...

20 जून 2018 का राशिफल और उपाय...
किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का मौका मिलेगा। बौद्धिक कार्य सफल रहेंगे। व्यवसाय ठीक चलेगा।

20 जून 2018 : आपका जन्मदिन

20 जून 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 20 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 2 होगा। ग्यारह की संख्या आपस में मिलकर दो होती है इस ...

20 जून 2018 के शुभ मुहूर्त

20 जून 2018 के शुभ मुहूर्त
शुभ विक्रम संवत- 2075, अयन- उत्तरायन, मास- ज्येष्ठ, पक्ष- शुक्ल, हिजरी सन्- 1439, मु. ...