बेघर लोगों का गांव

Last Updated: शनिवार, 2 जून 2018 (11:17 IST)
जिन लोगों के पास घर और स्थायी पता नहीं होता, वो अपनी जिंदगी कैसे संवारें? इसी सवाल के साथ जबाव खोजते हुए में बेघर लोगों के लिए एक बसाया गया।

मिल गई छत
यह है "सोशल बाइट विलेज" नाम का स्कॉटिश गांव। बेघर लोग यहां रह सकते हैं, खाना पीना खा सकते हैं। बेघर लोगों के हकों की आवाज बुलंद करने वाले लोग खाने पीने का खर्च उठाते हैं।

डेढ़ साल तक टेंशन फ्री
12 से 18 महीने तक बेघर लोग इन घरों में मुफ्त में रह सकते हैं। इस दौरान संस्था उनके लिए नौकरी और नया घर खोजने की कोशिश करती है। एडिनबरा शहर में है।

हर तरह की सुविधा
हर घर में एक बेडरूम, ओपन किचन और बाथरूम है। किचन में सारे बर्तन और औजार मौजूद हैं। मनोरंजन के लिए एक टेलिविजन भी है।


लकड़ी के घर
सारे मकान टिकाऊ ढंग से उगाए गए जंगल की लकड़ी से बने हैं। बाहरी दीवारें 25 सेंटीमीटर मोटी हैं। घर सर्दियों में गुनगुने और गर्मियों में ठंडे रहते हैं।


सुकून भरा कोना
बेडरूम बहुत बड़ा नहीं है लेकिन आरामदायक है। मकानों को इस ढंग से बनाया गया है कि ज्यादा से ज्यादा जगह बचाई जा सके।

मानवीय मदद
सोशल बाइट का मकसद बेघर लोगों को फिर से अपने पैरों पर खड़ा करना है। 18 महीने तक यहां रहने के दौरान बेघर लोगों की छत की चिंता दूर हो जाती है। फाउंडेशन के कर्मचारी सोनी मरे (बाएं) कॉलिन चाइल्ड्स (दाएं) भी कभी बेघर थे।


सामाजिक पहल के जनक
सोशल बाइट विलेज प्रोजेक्ट के लिए पहल करने वालों में जोश लिटिल जॉन की अहम भूमिका है। वह मानते हैं कि गरीबी से घिरे इंसान में भी प्रतिभा होती है, उसे बस सहारे की जरूरत पड़ती है। लिटिल जॉन इस प्रोजेक्ट को दुनिया भर के शहरों में फैलाना चाहते हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

चूहों के कारण खतरे में पड़े कोरल रीफ

चूहों के कारण खतरे में पड़े कोरल रीफ
दिखने में खूबसूरत और समुद्री इकोसिस्टम में संतुलन बनाए रखनी वाले कोरल रीफ यानी मूंगा ...

बेटियों को नहीं पढ़ाने की कीमत 30,000 अरब डॉलर

बेटियों को नहीं पढ़ाने की कीमत 30,000 अरब डॉलर
दुनिया के कई सारे हिस्सों में बेटियों को स्कूल नहीं भेजा जाता। वर्ल्ड बैंक का कहना है कि ...

बेहतर कल के लिए आज परिवार नियोजन

बेहतर कल के लिए आज परिवार नियोजन
अनियंत्रित गति से बढ़ रही जनसंख्या देश के विकास को बाधित करने के साथ ही हमारे आम जनजीवन को ...

मछली या सी-फ़ूड खाने से पहले ज़रा रुकिए

मछली या सी-फ़ूड खाने से पहले ज़रा रुकिए
अगली बार जब आप किसी रेस्टोरेंट में जाएं और वहां मछली या कोई और सी-फ़ूड ऑर्डर करें तो इस ...

आरएसएस से विपक्षियों का खौफ कितना वाजिब?

आरएसएस से विपक्षियों का खौफ कितना वाजिब?
साल 2014 में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद से ही विपक्षी दलों समेत कई आलोचक राष्ट्रीय ...

अमेरिका चाहता है तुर्की रूस से नहीं बल्कि उससे मिसाइलें ...

अमेरिका चाहता है तुर्की रूस से नहीं बल्कि उससे मिसाइलें खरीदे
वॉशिंगटन। अमेरिका अपने नाटो साझेदार तुर्की को प्रतिद्वंद्वी रूस से रक्षा उपकरण खरीदने के ...

सुप्रीम कोर्ट सख्त, गोरक्षा के नाम पर भीड़ को हिंसा की ...

सुप्रीम कोर्ट सख्त, गोरक्षा के नाम पर भीड़ को हिंसा की इजाजत नहीं दे सकती है सरकार
नई दिल्ली। गोरक्षा के नाम पर होने वाली भीड़ की हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार ...

मशहूर अभिनेत्री रीता भादुड़ी का निधन, निमकी मुखिया में निभा ...

मशहूर अभिनेत्री रीता भादुड़ी का निधन, निमकी मुखिया में निभा रही थीं दादी का किरदार
मुंबई। जानी मानी अदाकारा रीता भादुड़ी का निधन हो गया है। उनकी उम्र 62 वर्ष थी। 'हीरो नंबर ...