बच्चों की जान बचाएगी नकली कोख

पुनः संशोधित बुधवार, 3 मई 2017 (11:43 IST)
अमेरिकी वैज्ञानिकों मे द्रव्य से भरी ऐसी बनाने में सफलता पायी है, जिससे समय से पहले पैदा होने वाले बच्चों को बाकी समय के लिए मां के गर्भ जैसे माहौल में रहने का मौका मिलेगा।
एक बैग जो भीतर से द्रव्य से भरे नकली गर्भ जैसा माहौल देता हो। यह एक तरह का एक्स्ट्रा-यूटराइन सपोर्ट डिवाइस है, जिससे कई प्रीमेच्योर पैदा होने वाले बच्चों की देखभाल के क्षेत्र में क्रांति आ सकती है और उनके जीवित रहने की संभावना बढ़ायी जा सकती है।

वैज्ञानिकों ने प्री-क्लिनिकल स्टडी भेड़ों के ऊपर की। उनके बच्चों के लिए वे कृत्रिम गर्भ का माहौल और प्लेसेंटा का सपोर्ट देने में कामयाब रहे, जिससे नवजातों के फेफड़े और अन्य अंग ठीक से विकसित हो सके।
केवल अमेरिका में ही हर साल करीब 30,000 बच्चे समय के काफी जल्दी पैदा होते हैं। अक्सर 23वे से 26वें हफ्त के बीच जन्मे इन बच्चों में एक फुल टर्म यानि करीब 36 हफ्तों के मुकाबले काफी चीजें अल्पविकसित होती हैं। इस समय बच्चों का वजन केवल 500 ग्राम के आसपास होता है और फेफड़े हवा में सांस लेने लायक नहीं होते और उनके जीवित बचने की संभावना काफी कम होती है। ऐसे करीब 70 फीसदी बच्चे जीवित नहीं बचते और जो बच भी जाते हैं उनमें कई बार जीवन भर सेहत से जुड़ी परेशानियां लगी रहती हैं।
फिलाडेल्फिया के बच्चों के अस्पताल में बनायी गयी इस डिवाइस में बच्चे को एक द्रव्य से भरे चैंबर में कुछ हफ्तों के लिए वैसे ही लटका के रखने की व्यवस्था है, जैसा वो मां के गर्भ में होता। अगर ऐसे बच्चों को कम से कम 28 हफ्ते तक ठीक से जिन्दा रखा जा सके, तो उसके बाद उनके जीवित रहने की संभावना काफी बढ़ जाती है।

वैज्ञानिकों के लगता है कि ऐसी डिवाइस को लाइसेंस मिलने और अस्पतालों में उपलब्ध होने में शायद सालों लग जाएंगे। अभी ऐसे बच्चों को वेंटिलेटर में रखा जाता है। टीम को इसे विकसित करने में तीन साल लगे। इसमें छह भेड़ के बच्चों को सकुशल रखा गया। इंसान के बच्चों और इन जानवरों के बच्चों के फेफड़ों के विकास की प्रक्रिया में काफी समानता है। यह रिसर्च नेचर कम्युनिकेशन में प्रकाशित हुआ है।
- आरपी/ओएसजे (रॉयटर्स)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

भारत में इंसानी मल को ढोते हजारों लोग

भारत में इंसानी मल को ढोते हजारों लोग
भारत में 21वीं सदी में भी ऐसे लोग मौजूद हैं जो इंसानी मल को उठाने और सिर पर ढोने को मजबूर ...

क्या होगा जब कंप्यूटर का दिमाग पागल हो जाए

क्या होगा जब कंप्यूटर का दिमाग पागल हो जाए
क्या होगा अगर कंप्यूटर और मशीनों को चलाने वाले दिमाग यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पागल हो ...

चंद हज़ार रुपयों से अरबपति बनने वाली केंड्रा की कहानी

चंद हज़ार रुपयों से अरबपति बनने वाली केंड्रा की कहानी
गर्भ के आख़िरी दिनों में केंड्रा स्कॉट को आराम के लिए कहा गया था। उसी वक़्त उन्हें इस ...

सिंगापुर डायरी: ट्रंप-किम की मुलाकात की जगह बसता है 'मिनी ...

सिंगापुर डायरी: ट्रंप-किम की मुलाकात की जगह बसता है 'मिनी इंडिया'
सिंगापुर का "लिटिल इंडिया" दो किलोमीटर के इलाक़े में बसा एक मिनी भारत है। ये विदेश में ...

जर्मन बच्चे कितने पढ़ाकू, कितने बिंदास

जर्मन बच्चे कितने पढ़ाकू, कितने बिंदास
जर्मनी में एक साल के भीतर कितने बच्चे होते हैं, या बच्चों को कितनी पॉकेट मनी मिलती है, या ...

विश्व कप में जीत से इंग्लैंड में 1.83 करोड़ लोगों ने ...

विश्व कप में जीत से इंग्लैंड में 1.83 करोड़ लोगों ने टेलीविजन देखने का नया रिकॉर्ड बनाया
लंदन। इंग्लैंड की टीम को भले ही फुटबॉल विश्व कप के मजबूत दावेदारों में नहीं गिना जा रहा ...

सद्‍गुरु जग्गी वासुदेव योग दिवस पर सिया‍चीन में सैनिकों को ...

सद्‍गुरु जग्गी वासुदेव योग दिवस पर सिया‍चीन में सैनिकों को सीखाएंगे योग
जम्मू। पृथ्वी की सबसे उच्ची चोटी सियाचिन ग्लेशियर पर तैनात सेना के कर्मियों का योग दिवस ...

FIFA WC 2018 : जापान ने कोलंबिया को 2-1 से हराकर तहलका ...

FIFA WC 2018 : जापान ने कोलंबिया को 2-1 से हराकर तहलका मचाया, रचा इतिहास
सारांस्क। विश्व रैंकिंग में 61वें नंबर की टीम जापान ने एशियाई झंडा बुलंद रखते हुए 16वीं ...