डॉ शकील अफरीदी की रिहाई पर डील नहीं हुई: पाक

पुनः संशोधित शुक्रवार, 4 मई 2018 (15:36 IST)
का कहना है कि अल कायदा नेता ओसामा का पता लगाने में मदद करने वाले डॉक्टर शकील अफरीदी को रिहाई के बारे में अमेरिका के साथ कोई "डील" नहीं हुई है। 2012 से जेल में बंद डॉ. शकील अफरीदी की रिहाई भी पाकिस्तान और अमेरिका के बीच संबंधों में तनाव की वजह रही है। पाकिस्तान के एबटाबाद शहर में विशेष अमेरिकी दस्ते के अभियान में ओसामा बिन लादेन मारा गया।

जब पता चला कि अफरीदी ने ओसामा बिन लादेन का पता लगाने में अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए की मदद की है तो उन पर देशद्रोह के आरोप लगे। अमेरिकी दस्ते के ऑपरेशन के चंद दिनों बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। पाकिस्तान ने इस ऑपरेशन को अपनी संप्रभुता का उल्लंघन करार दिया था। अफरीदी पर आतंकवादियों की मदद करने के आरोप तय किए गए। 2012 में पाकिस्तान की अदालत ने अफरीदी को चरमपंथियों के साथ संबंध रखने का दोषी करार दिया और 33 साल की सजा सुनाई।
गुरुवार को पाकिस्तानी अधिकारियों ने अफरीदी को पेशावर की जेल से रावलपिंडी की जेल में ट्रांसफर कर दिया। इससे उनकी रिहाई की अटकलों को हवा मिली। लेकिन पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता फैसल मोहम्मद ने कहा है कि इस बारे में अभी तक अमेरिका के साथ कोई "डील" नहीं हुई है।

अमेरिका अफरीदी की रिहाई चाहता है लेकिन पाकिस्तान का कहना है कि उन्होंने देश के कानून का उल्लंघन किया है। अमेरिका पाकिस्तान पर उन तालिबान चरमपंथियों को लगातार पनाह देने के आरोप लगाता है जो सीमापार अफगान और अमेरिकी सैनिकों पर हमले करते हैं। इसी के चलते उसने पाकिस्तान को दी जाने वाली बड़ी सैन्य मदद रोक दी है। लेकिन पाकिस्तान इन आरोपों को पूरी तरह खारिज करता है।
पेशावर जेल के एक अधिकारी ने नाम ना जाहिर करने की शर्त पर समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि अफरीदी को राजधानी इस्लामाबाद के पास रावलपिंडी की अडियाला जेल में ट्रांसफर किया गया है। अधिकारी का कहना है कि वह नहीं जानते कि ऐसा क्यों किया जा रहा है, हो सकता है कि सुरक्षा कारणों से ऐसा किया गया हो।

अफरीदी के वकील कमर नदीम ने भी अपने मुवक्किल के ट्रांसफर की पुष्टि की है लेकिन उन्हें इस बारे में अभी पक्की जानकारी नहीं है कि डॉ अफरीदी कहां हैं। अभी तक इस बारे में पाकिस्तान में स्थित अमेरिकी दूतावास का कोई बयान सामने नहीं आया है जो सालों से उनकी रिहाई के लिए प्रयास कर रहा है।
अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर बताया, "हमें रिपोर्टों से पता चला है कि डॉ अफरीदी को एक अन्य जेल में ट्रांसफर किया गया है और हम पाकिस्तान सरकार से उनकी सुरक्षा को सुनिश्चित करने की अपील करते हैं।" अमेरिकी अधिकारी का कहना है कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि अफरीदी को क्यों ट्रांसफर किया गया है। उनके मुताबिक इस बारे में पाकिस्तान सरकार ही कोई जानकारी दे सकती है।
जनवरी 2017 में पाकिस्तान के तत्कालीन कानून मंत्री ने कहा था कि पाकिस्तान अमेरिका के दबाव में अफरीदी को रिहा नहीं करेगा। उस वक्त जाहिद हामिद ने कहा था, "अफरीदी ने कानून और राष्ट्रीय हितों के खिलाफ काम किया है। और पाकिस्तान ने बार बार अमेरिका से कहा है कि हमारे कानून के मुताबिक उसने अपराध किया है और उसी के मुताबिक कार्रवाई हो रही है।"

एके/एनआर (एपी, रॉयटर्स)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'

मुंगेर के निसार हैं 'लावारिस शवों के मसीहा'
जहां धर्म और मजहब के नाम पर हिंदू और मुसलमानों के बीच तनाव की खबरें सुर्खियों में आती ...

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह

शवों के साथ एकांत का शौक रखने वाला यह तानाशाह
चार अगस्त, 1972, को बीबीसी के दिन के बुलेटिन में अचानक समाचार सुनाई दिया कि युगांडा के ...

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?

तो क्या खुल गया स्टोनहेंज का राज?
शायद आपने फिल्मी गानों में इन रहस्यमयी पत्थरों को देखा हो। इंग्लैंड में प्राचीन पत्थरों ...

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला

कैंसर ने इरफान खान को बदल डाला
अपने एक्टिंग से बॉलीवुड और हॉलीवुड को हिलाने वाले इरफान खान ने कैंसर की खबर के बाद पहला ...

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं

दिल्ली का जीबी रोड: जिस सड़क का अंत नहीं
दिल्ली की एक सड़क है, जिसका नाम सुनते ही लोगों की भौंहें तन जाती हैं और वे दबी जुबान में ...

वियना दुनिया का सबसे रहने लायक शहर, दिल्ली 112वें, मुंबई ...

वियना दुनिया का सबसे रहने लायक शहर, दिल्ली 112वें, मुंबई 117वें पायदान पर
लंदन। दुनिया के रहने लायक शहरों की सूची में भारत समेत दक्षिणी एशियाई देशों का प्रदर्शन ...

ब्रिटिश संसद के बाहर आतंकी हमला, तेज रफ्तार कार ने ढाया कहर

ब्रिटिश संसद के बाहर आतंकी हमला, तेज रफ्तार कार ने ढाया कहर
लंदन। ब्रिटेन में संसद के बाहर एक आतंकी हमले में आज एक व्यक्ति ने तेज रफ्तार कार पैदल ...

स्वतंत्रता बरकरार रखने के लिए रुका नहीं है कुर्बानियों का ...

स्वतंत्रता बरकरार रखने के लिए रुका नहीं है कुर्बानियों का सिलसिला
अंबाला का विक्रमजीत सिंह 5 साल पहले सेना में भर्ती होने के बाद कश्मीर में शहादत पा गया। ...