आईपीएल के मीडिया राइट के लिए मारामारी

Last Updated: शुक्रवार, 25 अगस्त 2017 (23:30 IST)
नई दिल्ली। दुनिया की सबसे चर्चित इंडियन प्रीमियर (आईपीएल) टी-20 लीग के 11वें संस्करण के मीडिया अधिकार हासिल करने के लिए अब तक देसी और विदेशी कुल 24 कंपनियों ने आवेदन कर इस रेस को रोमांचक बना दिया है, जिसके बाद बोली प्रक्रिया की अंतिम तारीख को पुन: चार सितंबर के लिए निर्धारित किया गया है।


आईपीएल के प्रसारण अधिकार प्राप्त करने के लिए बड़ी-बड़ी कंपनियों में मारामारी मची हुई है और अब दूरसंचार कंपनी एयरटेल और इंटरनेट सेवा प्रदाता याहू ने भी बोली से जुड़े दस्तावेजों को खरीदा है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने मई में ही निर्णय किया था कि वर्ष 2018 से 2022 तक पांच वर्षों के लिए आईपीएल के प्रसारण और डिजीटल राइट बेचे जाएंगे।





आईपीएल अपने 10 वर्ष पूरे कर चुका है और इसकी लोकप्रियता समय के साथ और भी बढ़ी है। देसी तथा दुनियाभर से डिस्कवरी, एमेज़न, टि्वटर जैसी दिग्गज विदेशी कंपनियों ने इसके प्रसारण अधिकार प्राप्त करने के लिए बोली के लिए आधिकारिक दस्तावेज़ों को खरीदा है। इसके अलावा स्टार इंडिया और रिलायंस जैसी भारतीय कंपनियों ने भी इसमें अपनी दिलचस्पी दिखाई है।



इसके अलावा ब्रिटेन स्थित स्काई नेटवर्क और ईएसपीएन डिजीटल मीडिया भी इस सूची का हिस्सा है। गौरतलब है कि ने मीडिया अधिकारों को तीन भागों में बांटा है, जिसमें भारतीय उपमहाद्वीप के टीवी अधिकार, डिजीटल अधिकार और विदेश में टीवी तथा डिजीटल अधिकार शामिल हैं। इन तीनों वर्गों में पांच वर्षों के लिए मीडिया अधिकार दिए जाएंगे।

इससे पहले आईपीएल के मीडिया अधिकार सोनी पिक्चर्स नेटवर्क इंडिया के पास थे जबकि स्टार इंडिया के पास लीग के डिजीटल अधिकार हैं। दोनों कंपनियों के अधिकार 2017 आईपीएल सत्र में समाप्त हो गए
हैं।









गत सितंबर बीसीसीआई ने अपने अधिकारिक अगले पांच वर्ष के लिए खुली निविदा प्रक्रिया के तहत बेचने का निर्णय किया था। इस दौरान 18 कंपनियों ने अपनी दिलचस्पी दिखाई थी और प्रक्रिया में शामिल हुई थीं, जिस पर गत वर्ष 25 अक्टूबर को बोली लगाई जानी थी।







हालांकि सर्वोच्च अदालत ने 21 अक्टूबर को बीसीसीआई को इस बोली प्रक्रिया को रोकने का दबाव डाला। इसके बाद बोर्ड का संचालन कर रही प्रशासकों की समिति (सीओए) के आने के बाद फिर से इस प्रक्रिया को शुरू किया गया जिन्होंने 17 जुलाई को बोली के लिए अपनी रज़ामंदी प्रदान कर दी।

वर्ष 2008 में सिंगापुर स्थित वर्ल्ड स्पोर्ट्स ग्रुप ने आईपीएल के टीवी अधिकार 91.8 करोड़ डॉलर में 10 वर्षों के लिए खरीदे थे। उसने साथ ही मल्टी स्क्रीन मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ करार किया था कि सोनी लीग का आधिकारिक प्रसारक होगा। इस करार को लेकिन वर्ष 2009 में फिर से नए सिरे तैयार किया गया जिसमें एमएसएम ने नौ वर्षों के लिए फिर 1.63 अरब डॉलर का भुगतान कर अधिकार प्राप्त करने पर सहमति दे दी।



आईपीएल के 11वें संस्करण के लिए
मीडिया अधिकार प्राप्त करने के लिए
जो कंपनियां मैदान में कूदी हैं, उनमें फॉलोऑन इंटरैक्टिव मीडिया, ताज टीवी इंडिया, स्टार इंडिया, सोनी पिक्चर्स नेटवर्क, टाइम्स इंटरनेट, सुपर स्पोर्ट इंटरनेशनल, रिलायंस जियो डिजीटल सर्विस, गल्फ डीटीएच, ग्रुप एम मीडिया इंडिया ,बीइनआईपी, इकोनेट मीडिया, स्काई यूके, बीटीजी लीगल सर्विसेज, बीटी पीएलसी, एमेज़न, फेसबुक, टि्वटर, ईएसपीएन डिजीटल मीडिया, डिस्कवरी, एयरटेल, बैमटैक, यप टीवी, डीएजेडएन/परफार्म ग्रुप, याहू। (वार्ता)

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :