शक्ति पम्प्स ने पॉवर इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों का निर्माण शुरू किया

Last Updated: शनिवार, 14 जुलाई 2018 (18:57 IST)
पीथमपुर। भारत के अग्रणी एनर्जी एफीशिएंट स्टेनलेस स्टील और सोलर इंटीग्रेटेड पम्प बनाने वाली (इंडिया) लिमिटेड ने शनिवार को पीथमपुर के सेक्टर-3 में अपने पॉवर इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों के संयंत्र का उद्घाटन किया। भारत के सभी बड़े सोलर इंटीग्रेटर्स और पॉवर इलेक्ट्रॉनिक्स में अनुसंधान करने वाले 5 आईआईटी के प्रोफेसर इस मौके पर मौजूद थे।

एसजीएसआईटीएस के प्रो. बीएम शर्मा एवं राकेश कुमार डायरेक्टर, आईएसए ने एमडी शक्ति पम्प्स (इंडिया) लिमिटेड, शैलेन्द्र शुक्ल चेयरमैन एचएआरईडीए, भुवनेश पटेल चीफ इंजीनियर, एमपी यूवीएन और मनोज मोदी शक्ति पम्प्स (इंडिया) लिमिटेड की उपस्थिति में फीता काटकर प्लांट का उद्घाटन किया गया।
शक्ति पम्प इंडिया लिमिटेड कृषि, औद्योगिक, घरेलू और बागवानी जैसे विभिन्न क्षेत्रों के पम्पिंग समाधान के लिए जाना जाता है। इस नए संयंत्र के माध्यम से कंपनी भारत में निर्मित नए उत्पाद बाजार में लाएगी।

नई इकाई सौरचलित ड्राइव (variable frequency drives), हाइब्रीड इन्वर्टर, मोटर स्टार्टर्स और अन्य पॉवर इलेक्ट्रॉनिक उत्पादों का निर्माण करेगी। संयंत्र में सालाना 1 लाख वीएफडी और इन्वर्टर के निर्माण की क्षमता है। कंपनी इस वित्त वर्ष में 10,000 वीएफडी उत्पादन करके पहले वर्ष में लगभग 10 प्रतिशत क्षमता का उपयोग करने की योजना बना रही है।
प्रबंध निदेशक, शक्ति पम्प (इंडिया) लिमिटेड दिनेश पाटीदार ने बताया कि यह संयंत्र अद्वितीय है, क्योंकि हमारे पास अनुसंधान और विकास इकाई और उत्पादन इकाई एक ही स्थान पर है। यह अन्य प्रमुख उत्पादकों से अलग है जिनकी डिजाइन इकाई (अनुसंधान और विकास) और निर्माण अलग-अलग स्थानों पर है। नया संयंत्र मध्यभारत में इलेक्ट्रॉनिक और पॉवर इलेक्ट्रॉनिक के क्षेत्र में रोजगार के अवसर भी पैदा कर इस क्षेत्र में कुशल श्रमिकों को भी बढ़ावा देगा।
शक्ति पम्प का अनुसंधान और विकास भारत सरकार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय और वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त है। वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान विभाग एवं विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय (भारत सरकार) ने शक्ति पम्प को इन हाउस रिसर्च एंड डेवलपमेंट यूनिट के लिए सम्मानित किया।

आगे पाटीदार ने बताया कि कंपनी इस नई सुविधा से 3 तरह के उत्पादों का निर्माण करेगी- इलेक्ट्रिक मोटर ड्राइव (वीएफडी) (1-10 एचपी)- विभिन्न प्रकार के मोटर्स के लिए एक सार्वभौमिक ड्राइव श्रृंखला है, इलेक्ट्रॉनिक मोटर स्टार्टर्स (1-100 एचपी)- सॉफ्ट स्टार्टर और अन्य डिजिटल स्टार्टर्स और हाइब्रीड इन्वर्टर (1-10 केवीए)।
शक्ति पम्प द्वारा बनाया गया यह ड्राइव सौर पम्पिंग उद्योग, प्रोसेस उद्योग और कपड़ा उद्योग क्षेत्रों में इस्तेमाल किया जा सकेगा, जहां भी गति नियंत्रण की आवश्यकता होती है, जैसे कन्वेयर, एक्सट्रूडर, पम्प, पंखे, कंप्रेशर इत्यादि वहां यह उपयोगी सिद्ध होगा। वैश्विक चर आवृत्ति ड्राइव बाजार 2016 से 2021 तक 5.94% के सीएजीआर में बढ़ने का अनुमान है। 2021 तक यह बाजार कुल 24.8 अरब डॉलर का होगा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :