ढाई रुपए की कटौती बेअसर, डीजल के दामों में फिर लगी आग, त्योहारों पर बढ़ सकती है महंगाई

पुनः संशोधित सोमवार, 15 अक्टूबर 2018 (14:40 IST)
नई दिल्ली। के दाम में सोमवार को लगातार 10वें दिन वृद्धि हुई। इसके साथ इस महीने उत्पाद शुल्क में कटौती तथा तेल कंपनियों की सब्सिडी के जरिए दाम में 2.50 रुपए प्रति लीटर की कमी का प्रभाव समाप्त हो गया है। आशंका जताई जा रही है कि डीजल के दामों में वृद्धि से त्योहारों पर बढ़ सकती है।
सरकार ने 5 अक्टूबर से और डीजल पर उत्पाद शुल्क में 1.50 रुपए प्रति लीटर की कटौती की, वहीं सरकारी तेल कंपनियों से एक रुपए लीटर की सब्सिडी देने को कहा था। हालांकि उसके अगले दिन से ईंधन का बिक्री मूल्य लगातार बढ़ रहा है।

सार्वजनिक क्षेत्र की खुदरा ईंधन कंपनियों की कीमत अधिसूचना के मुताबिक पेट्रोल के दाम सोमवार को स्थिर रहे वहीं डीजल की कीमत में 8 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई। इस वृद्धि के साथ डीजल का मूल्य पिछले 10 दिनों में 2.51 रुपए प्रति लीटर बढ़ चुका है। तेल कंपनियां पिछले साल जून के मध्य से रोजाना कीमतों की समीक्षा कर रही हैं। उस समय से डीजल के दाम में यह सबसे तीव्र वृद्धि है।
इस वृद्धि के बाद दिल्ली में डीजल 75.46 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया, वहीं उत्पाद शुल्क में कटौती और एक रुपए की सब्सिडी लागू होने के एक दिन पहले 4 अक्टूबर को यह 75.45 रुपए प्रति लीटर था, वहीं पेट्रोल का भाव 82.72 रुपए प्रति लीटर पर आ गया है। 4 अक्टूबर के बाद इसमें 1.22 रुपए प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। चार अक्टूबर को पेट्रोल की कीमत 84 रुपए प्रति लीटर थी।

दिल्ली में डीजल की दर अब तक के सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गई है, वहीं कुछ राज्यों में इसके भाव कुछ कम हैं क्योंकि राज्य सरकारों ने केंद्र के उत्पाद शुल्क में कटौती तेल कंपनी की सब्सिडी के बराबर बिक्री कर या वैट में कमी की है।

मुंबई में डीजल 79.11 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया, जो 4 अक्टूबर के 80.10 रुपए प्रति लीटर से कम है। पेट्रोल भी सोमवार को 88.18 रुपए प्रति लीटर रहा जो 4 अक्टूबर को 91.34 रुपए प्रति लीटर था।


और भी पढ़ें :