बारिश पर कविता : बरसे बादल...




- परमानंद शर्मा 'अमन'


झूम-झूम कर बरसे बादल।
गरज-गरज कर बरसे बादल॥
समन्दर से भर कर पानी।
घूमड़-घूमड़ कर बरसे बादल॥

काले, भूरे और घने ये।
सब हिल-मिलकर बरसे बादल॥

खेत, खलिहान, नदी, नालों पर।
ठहर-ठहर कर बरसे बादल॥

जीवन, जहीर और जॉन के।
खुले सिर पर बरसे बादल॥

और अमन चैन का।
आंचल भर कर बरसे बादल॥

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :