बाल कविता : गुड़िया का पेट...


 
 
 
मेरी गुड़िया का छोटा सा,
चिड़ियों जैसा पेट।
 
रोटी, कभी एक खाती है,
कभी-कभी तो आधी। 
दादी जब देती तो कहती,
ना-ना अब न दादी।
साफ मना कर देती सबको, 
बिना ही लॉग-लपेट। 
 
कहती, खाने को ना जीती,
खाती हूं जीने को।
उसकी दीदी ने बोला है,
गुस्सा, गम पीने को।
उठती सुबह पांच पर, 
जाती रात दस बजे लेट।
 
नहीं किसी झगड़े-झंझट में,
पाठ नियम से पढ़ती।
कर्म करो तो फल मिलता है,
कहकर खूब चहकती।
कहती चिड़िया रामलला की,
रामलाल के खेत।
साभार - देवपुत्र   

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :