बाल कविता : चंदा पीछा करता है



अभिषेक कुमार अंबर
मईया अब तुम ही समझाओ
मन में प्रश्न अखरता है
रात होते ही चंदा क्यों
मेरा पीछा करता है।
मैं जो चलूं तो चलने लगता
रुक जाऊं तो रुक जाता है
मैं जो हंसू तो हंसने लगता
शरमाऊं तो शरमाता है।

मईया बोली सुन रे बेटा,
इसमें नहीं दुराहा है
वैसे भी चंदा तो बेटा
लगता तेरा मामा है।

जैसे भौरा रस की खातिर
फूलों पर मंडराता है
अंबर अवनी को बांहों में
भरने को हाथ बढ़ाता है।

वैसे ही चंदा भी तुझपर
अपना प्यार लुटाता है
इसलिए वह हर पल
तेरे पीछे-पीछे आता है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :