जानिए महावीर स्वामी के पूर्व भवों के वर्णन की 8 विशेष बा‍तें...


Last Updated: शुक्रवार, 15 अप्रैल 2016 (15:19 IST)
1. कल्पसूत्र आदि ग्रंथों में भगवान के 26 पूर्व भवों का वर्णन है, तिलोयपण्णत्ति आदि ग्रंथों में 32 पूर्व भवों का वर्णन है।
 
2. कल्पसूत्र के अनुसार 72 वर्ष जीवित रहे। उत्तर पुराण के अनुसार वे 72वें वर्ष में कुछ माह तक ही जीवित रहे।

3. भगवान महावीर का जन्म स्थान एक परंपरा 'कुंडलपुर' तथा दूसरी परंपरा 'छत्रिय कुंड' मानती है।

>

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine



और भी पढ़ें :