रायुडू का शतक, चेन्नई सुपरकिंग्स प्लेऑफ में

Last Updated: रविवार, 13 मई 2018 (21:02 IST)
पुणे। सलामी बल्लेबाज अम्बाती रायुडू (नाबाद 100) के शतक और (57) के अर्द्धशतक तथा दोनों के बीच पहले विकेट के लिए 134 रन की भागीदारी से ने यहां के खिलाफ इंडियन प्रीमियर लीग टी-20 मैच में आठ विकेट की जीत से प्लेऑफ में अपनी जगह लगभग सुनिश्चित की।

पहले ही प्लेऑफ में जगह पक्की कर चुकी सनराइजर्स हैदराबाद 12 मैचों में 18 अंक से शीर्ष पर बरकरार है जबकि चेन्नई सुपरकिंग्स इतने ही मैचों में सात जीत से 16 अंक लेकर दूसरे स्थान पर बनी हुई है। हैदराबाद ने धीमी शुरुआत से उबरने के बाद सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (79) और कप्तान (51) के अर्द्धशतकों तथा दोनों के बीच दूसरे विकेट के लिए 123 रन की साझेदारी की मदद से चार विकेट पर 179 रन बनाकर चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया था।


रायुडू ने 62 गेंद में सात चौके और इतने ही छक्के जड़ित शतक और वॉटसन (35 गेंद में पांच चौके और तीन छक्के) की अर्द्धशतकीय पारी की बदौलत चेन्नई सुपरकिंग्स ने यह लक्ष्य 19 ओवर में दो विकेट पर 180 रन बनाकर हासिल कर लिया। वॉटसन और रायुडू ने बड़ी खूबसूरती से सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ रन जोड़ना जारी रखा। पावरप्ले के छ: ओवर में टीम ने बिना विकेट गंवाए 53 रन बना लिए थे।
अगले ही ओवर में रायुडू ने सिद्धार्थ कौल की दो गेंदों को सीमारेखा के पार कराया और एक को हैदराबाद सनराइजर्स के डगआउट की ओर छक्के के लिए भेजा जिससे इसमें सर्वाधिक 16 रन खाते में जुड़े। दोनों में वॉटसन ने पहले अर्द्धशतक पूरा किया, उन्होंने संदीप शर्मा की धीमी गेंद पर स्क्वायर कट चौका जमाकर 31 गेंद में चार चौके और तीन छक्के से 50 रन बनाए।
जल्द ही रायुडू भी अपने अर्द्धशतक पर पहुंच गए। उन्होंने कौल की गेंद को मिडविकेट पर छक्के के लिए भेजकर अपने 50 और टीम के 100 रन पूरे कराए। सनराइजर्स को तब राहत मिली जब वॉटसन को विलियम्सन और विकेटकीपर श्रीवत्स गोस्वामी ने मिलकर रन आउट किया, जिससे पहले विकेट के लिए 137 रन की शानदार भागीदारी समाप्त हुई।


सुरेश रैना आते ही संदीप शर्मा की गेंद पर खराब शॉट खेलकर पवेलियन लौटे। उनका कैच मिडऑफ पर खड़े विलियम्सन ने लपका। कप्तान महेंद्रसिंह धोनी ने अंत में 14 गेंद में एक चौके और एक छक्के से नाबाद 20 रन की पारी खेलकर टीम को जीत दिलाई।

धोनी ने टॉस जीतकर क्षेत्ररक्षण का फैसला किया और दीपक चाहर ने गेंदबाजी की शुरुआत की। उन्होंने चार ओवर में 16 रन देकर एक विकेट जबकि शारदुल ठाकुर ने 32 रन देकर दो विकेट प्राप्त किए। धवन (49 गेंद में 10 चौके और तीन छक्के) और एलेक्स हेल्स को हालांकि शुरू के दो ओवर में शॉट लगाने में थोड़ी परेशानी हुई। धवन ने तीसरे ओवर में डेविड विली की लगातार दो गेंदों को सीमारेखा के बाहर भेजकर हाथ खोले।

हैदराबाद को हालांकि अगले ही ओवर में हेल्स के आउट होने से झटका लगा जो महज दो रन ही बना पाए। आईपीएल में शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए चाहर ने हेल्स को बैकवर्ड प्वाइंट पर सुरेश रैना के हाथों कैच आउट कराया। कप्तान विलियम्सन अब क्रीज पर थे, उन्होंने और धवन ने संयमित होकर बीच बीच में शॉट लगाकर धीरे- धीरे रन जोड़ने की रणनीति अख्तियार की।



सनराइजर्स हैदराबाद ने पावरप्ले के छ: ओवर में एक विकेट पर महज 29 रन ही जोड़े थे। विलियम्सन ने अगले ओवर में अपनी पारी का सातवां रन जोड़कर इस आईपीएल चरण में 500 रन पूरे किए, उनके अब कुल 544 रन हो गए हैं जिससे वे सबसे ज्यादा रन जुटाने वाले खिलाड़ियों में ऋषभ पंत (582) के बाद दूसरे नंबर पर हैं। हैदराबाद की धीमी रन गति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता था कि 10 ओवर में उसका स्कोर एक विकेट पर 62 रन था, जिसमें ब्रेक के बाद इसी 10वें ओवर में 11 रन जुड़े थे।


धवन ने भी थोड़ी तेजी रन जुटाने की कोशिश में रविंद्र जडेजा के ओवर में एक चौके और एक छक्के से 13 रन जोड़े। फिर विलियम्सन ने शेन वॉटसन की पहली गेंद को स्लाइस करते हुए चौका जबकि अगली ही गेंद को डीप स्क्वायर लेग पर छक्के के लिए भेजा।फिर दोनों ने मिलकर रन गति की रफ्तार बढ़ाई और इसी दौरान धवन ने 38 गेंद में सात चौके और दो छक्के से पचासा पूरा किया।

दोनों ने दूसरे विकेट के लिए शतकीय साझेदारी पूरी की, लेकिन ड्वेन ब्रावो ने धवन और विलियम्सन के बीच दूसरे विकेट की 123 रन की शानदार शतकीय भागीदारी का अंत किया। धवन ने उनकी अंतिम गेंद को शॉर्ट फाइन लेग की ओर उठा दिया और यह सीधे वहां खड़े हरभजन सिंह के हाथों में समां गई। अगले ओवर में ठाकुर की पहली ही गेंद पर विलियम्सन भी पवेलियन लौट गये, उन्होंने 39 गेंद में पांच चौके और दो छक्के से 51 रन बनाए। अब दीपक हुड्डा (नाबाद 21 रन) और मनीष पांडे क्रीज पर उतरे। पर पांडे (5) भी जल्द ही ठाकुर का शिकार बने। शाकिब अल हसन आठ रन बनाकर नाबाद रहे। (भाषा)


और भी पढ़ें :