तीन करोड़ फेसबुक उपयोगकर्ताओं के डाटा में सेंधमारी

पुनः संशोधित शनिवार, 13 अक्टूबर 2018 (17:34 IST)
वॉशिंगटन। सोशल मीडिया कंपनी ने कहा है कि हाल में उसके सिस्टम को हैक किए जाने से उसके करीब 3 करोड़ उपयोगकर्ता प्रभावित हुए हैं। फेसबुक के उपयोगकर्ताओं का सबसे बड़ा आधार भारत में है।

फेसबुक प्रोडक्ट मैनेजमेंट के उपाध्यक्ष गाय रोसेन ने शुक्रवार को बताया कि साइबर हमलावरों ने फेसबुक के कोड में भेद्यता का फायदा उठाया। कोड में यह कमी जुलाई 2017 और सितंबर 2018 के बीच रही। इस कमी को अब दूर कर दिया गया है।

हालांकि इससे पहले हमलावरों ने एकाउंट से एकाउंट जाने के लिए स्वचालित तकनीक का इस्तेमाल किया जिससे वे उपयोगकर्ताओं, उनके दोस्तों, दोस्तों के दोस्तों के एक्सेस टोकन को चुरा सके और इस तरह उन्होंने लगभग 4,00,000 लोगों के एकाउंट में सेंधमारी की।
रोसेन ने बताया कि हमलावरों ने दोस्तों की इन 4,00,000 लोगों की सूची के एक हिस्से का इस्तेमाल करीब 3 करोड़ लोगों का एक्सेस टोकन चुराने में किया। 1.5 करोड़ लोगों से हमलावरों ने 2 तरह की सूचनाएं हासिल कीं। इसमें नाम और संपर्क का ब्योरा जैसे फोन नंबर, ई-मेल या दोनों। यह इस पर निर्भर करता था कि लोगों ने अपने प्रोफाइल में क्या डाल रखा था?

अन्य 1.4 करोड़ लोगों के लिए हमला संभावित रूप से अधिक हानिकारक था, क्योंकि हैकरों ने उनके नाम और संपर्क विवरण के साथ-साथ यूजर नेम, लिंग, स्थान, भाषा, रिश्ते की स्थिति, धर्म, गृहनगर, जन्मतिथि, फेसबुक का इस्तेमाल करने के लिए उपयोग किए जाने वाले उपकरण, शिक्षा, कार्य विवरण, उन स्थानों पर जहां हाल में वे गए, लोग या पेज जिन्हें वे फॉलो करते हैं और 15 सबसे हाल के सर्च भी हासिल कर लिए थे।
रोसेन ने बताया कि शेष 10 लाख लोग जिनके एक्सेस टोकन चोरी हो गए थे, हमलावरों ने उनके बारे में कोई भी जानकारी नहीं हासिल की। उन्होंने कहा कि फेसबुक ने 2 हफ्ते पहले ही उपयोगकर्ताओं के एकाउंट को सुरक्षित कर लिया है और उन्हें फिर से लॉग आउट करने या अपने पासवर्ड बदलने की आवश्यकता नहीं है।

कंपनी ने कहा कि इस हमले ने फेसबुक के स्वामित्व वाले मैसेंजर, मैसेंजर किड्स, इंस्टाग्राम, व्हॉट्सएप, ऑकुलस, वर्कप्लेस, थर्ड पार्टी ऐप, भुगतान, पेज और विज्ञापन या डेवलपर एकाउंट को प्रभावित नहीं किया। (भाषा)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
विज्ञापन

और भी पढ़ें :