गोवा घूमने जा रहे हैं, तो यह ज़रूर जान लें...

goa
आखिरकार काउंटडाउन शुरू हो गया है। दिसंबर का महीना खत्म होने वाला है और नया साल आने में बस कम ही दिन बचे हैं। जहां तक मुझे लगता है, आप लोगों ने अभी से प्लानिंग शुरू कर दी होगी इस साल
को बिदा और नए साल का
का स्वागत कैसे करेंगे, कहां सेलीब्रेट करेंगे, कहां पार्टी करेंगे या कहां घूमने जाएंगे। अगर आप भारत मेंकोई जगह चुनना चाहते हैं तो गोवा एक ऐसा शहर है, जहां हर कोई घूमने की ख्वाहिश रखता है क्योंकि...

ईसाइयों की बहुलता के कारण क्रिसमस के समय गोवा में बहुत सारे सांस्कृतिक आयोजन होते हैं जिनका आनंद लेने के लिए पर्यटक इस समय विशेष तौर पर गोवा आते हैं और यह रौनक 31st दिसंबर तक गोवा में बनी रहती हैं। तो आइए, आज मैं आपको गोवा के बारे में दिलचस्प बातें बताती हूं कि कैसे यहां पहुंचें, कहा रुकें, यहां पहुंचकर कहां-कहां घूमें और क्या-क्या एक्टिविटीज यहां आप कर सकते हैं?

तो आइए पहले जानते हैं गोवा से जुड़ी कहानी के बारे में...

गोवा की रचना भगवान परशुराम ने की थी। उन्होंने अपने बाणों से समुद्र को कई योजन पीछे धकेल दिया था। आज भी गोवा के कई स्थानों के नाम वाणावली, वाणस्थली इत्यादि हैं। उत्तरी गोवा में हरमल के पास भूरे रंग का एक पर्वत है। इसे परशुराम के यज्ञ करने का स्थान माना जाता है। ऐतिहासिक दृष्टि से गोवा के बारे में सबसे पहले महाभारत में लिखा गया था। उस समय गोवा का नाम 'गोपराष्ट्र' यानी 'गाय चराने वाले का देश' हुआ करता था। माना जाता है कि गोवा, 'गोपराष्ट्र' का ही अपभ्रंश है।

गोवा राज्य प्रमुखत: 3 भागों में बंटा हुआ है- (1) पणजी या पंझिम, (2) मडगांव और (3) वास्को डी गामा।

यह एक ऐसा राज्य है जिसका नाम सुनते ही याद आता है दूर-दूर तक फैला समुद्र का किनारा, आधुनिक जीवनशैली, थिरकते कदम और काजू से बनी लाजवाब फेणी। लेकिन गोवा सिर्फ यहीं तक सीमित नहीं। हो-हल्ले के इस राज्य में कई ऐसे बेहतरीन रिसॉर्ट्स हैं, जहां लोग शांति की तलाश में भी आते हैं। यहां सिर्फ खूबसूरत इलाके ही नहीं, बल्कि पर्यटन से जुड़ी हर तरह की सुविधाएं भी हैं। यहां जगह-जगह पर ट्रैवल एजेंसियों के छोटे-छोटे दफ्तर बने हुए हैं, जो पर्यटकों को गोवा के सारे इलाकों की सैर कराते हैं। यहां की सेवाएं इतनी उम्दा हैं कि देशी तो क्या, विदेशी पर्यटकों को भी किसी तरह की तकलीफ नहीं होती। इसीलिए इसे 'पर्यटकों का शहर' भी कहा जाता है। यहां के लोगों की आधिकारिक भाषा कोंकणी हैं।

गोवा जाने का सबसे बेहतरीन समय अक्टूबर से मार्च तक का होता है। इस मौसम में यहां बहुतायत में पर्यटक आते हैं। जून से सितंबर तक यहां बहुत अधिक वर्षा होने के कारण इस मौसम में यहां पर्यटक कम ही आते हैं। की पार्टी के लिए खासतौर पर गोवा को विशेष और आकर्षक स्थल माना जाता है। इसलिए आप भी न्यू ईयर पार्टी का मजा लेने के लिए गोवा जा सकते हैं।

अब बात करते हैं बजट की

आपका बजट कैसा हो? : गोवा एक ऐसा राज्य है, जहां का पर्यटन आपकी जेब के मुताबिक बदलता रहता है। यहां आप 5-10 हजार से लेकर 5 लाख तक जैसा चाहे वैसा बजट बना सकते हैं। यहां सस्ते होटलों से लेकर महंगे रिसॉर्ट तक सब उपलब्ध हैं। वैसे यदि आप गोवा पीक सीजन में घूमने जा रहे हैं तो बुकिंग पहले से करवा लें, क्योंकि आखिरी समय में बुकिंग आपको महंगी पड़ सकती है, साथ में मन-मुताबिक हर चीज ना भी मिले। और क्रिसमस, न्यू ईयर पर यहां सबसे ज्यादा रश होता है।

आप कहां ठहरें? : गोवा पर्यटन विभाग ने समुद्र किनारे-किनारे अनेक टूरिस्ट होम और हट बना रखे हैं, इसके साथ ही बेड सुविधा भी उपलब्ध है। साथ ही कई सस्ते से महंगे हर बजट के होटल्स और रिसॉर्ट्स भी उपलब्ध हैं।

यदि आप गोवा जाने की सोच रहे हैं तो किसी भी ट्रैवल एजेंसी से अग्रिम टिकट ले लें ताकि गोवा पहुंचने के दूसरे ही दिन से गोवा की सैर शुरू हो जाए। अच्छा होगा कि आप अपने सफर की शुरुआत (उत्तरी) नॉर्थ गोवा से करें और दूसरे दिन पहुंच जाएं पणजी के लिए एलथीनो हिल।

गोवा में देखने योग्य स्थान- पणजी, वास्को डी गामा, मडगांव, मापुसा, पोंडा, ओल्ड गोवा, छापोरा, वेगाटोर, बेनॉलिम, दूधसागर झरने आदि हैं।

गोवा पहुंचकर इन सभी पर घूमने जाएं- डोना पॉला, मीरमार, बोग्मालो, अंजुना, वेगाटोर, कोल्वा, केलनगुट, बांगा, पालोलेम, आराम बोल, अंजुना।

गोवा सबसे खूबसूरत जगह है वॉटर स्पोर्ट्स के लिए : बीचेस पहुंचकर ये सारे वॉटर स्पोर्ट्स आप कर सकते हैं- बनाना राइड्स, पैरासैलिंग, बंपर राइड, जेटस्की, बोट राइड, पैराग्लाइडिंग।

कैलंग्यूट और बागा बीच पर सूर्योदय और सूर्यास्त के समय समंदर में डॉल्फिन क्रूज के जरिए हंसती-खेलती डॉल्फिन देख सकते हैं।

क्रूज में : डिनर एंड डांस का मजा ले सकते हैं या शाम को कैंडल लाइट डिनर ऑन बीच करें। कैसिनो भी जाएं और कैसिनो लाइफ देखें।

यहां कार व बाइक रेंट (किराए) पर मिलती है जिसमें पेट्रोल-डीजल आपको डलवाना होगा और आप 12 या 24 घंटे के हिसाब से इन्हें रेंट पर ले सकते हैं। तो आप पूरा शहर घूमने के लिए तैयार हैं। स्मार्टफोन से मैप पर रास्ता देखते रहें और लॉन्ग ड्राइव का मजा लें।

कुछ प्रमुख धार्मिक स्थल भी हैं, जहां आप गोवा में जा सकते है : बैसिलिका ऑफ बॉम जीसस (सेंट कैथरीन्स), कैथेड्रल ऑफ सेंट काजेतान, श्री दत्त मंदिर, चर्च ऑफ सेंट फ्रांसिस, मंगेश श्री महालसा।

यहां के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक चर्च- ऑफ असीसी, होली स्पिरिट, पिलर सेमिनरी, रकोल सेमिनरी आदि यहां के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक चर्च हैं। इसके अलावा सेंट काजरन चर्च, सेंट आगस्टीन टॉवर, ननरी ऑफ सेंट मोनिका तथा सेंट एरक्स चर्च भी प्रसिद्ध हैं।

गोवा के पवित्र मंदिर : श्री कामाक्षी, सप्तकोटेश्‍वर, श्री शांतादुर्ग, महालसा नारायणी, परनेम का भगवती मंदिर और महालक्ष्मी आदि दर्शनीय मंदिर हैं।

यहां के महादेई वाइल्डलाइफ सेंचुरी, बंगाल टाइगर, भगवान महावीर सेंचुरी और मोलम नेशनल पार्क भी मशहूर हैं। अगर आप ट्रैकिंग का मजा लेना चाहते हैं तो दूधसागर फॉल चले जाइए।

ये सांस्कृतिक स्थल भी आप गोवा में विजिट कर सकते हैं : अगुडा किला, संग्रहालय, पुरामहत्व का संग्रह।

नेशनल पार्क जा सकते हैं : बोंडला अभयारण्य, कावल वन्यप्राणी अभयारण्य, कोटिजाओ वन्यप्राणी अभयारण्य।

अब बात करते हैं कि आप गोवा कैसे पहुंचे?

सड़क मार्ग- मुंबई से बस या टैक्‍सी से गोवा पहुंच सकते हैं। अन्य शहरों से भी गोवा सड़क मार्ग से जुड़ा है।

रेलमार्ग- कोंकण रेलवे (मुंबई से बेंगलुरु) सर्वाधिक आकर्षक रेलमार्ग है। यह रेल लाइन गोवा से गुजरती है और इस पर यात्रा करने वाले इस क्षेत्र की मनोहारी सुंदरता आसानी से देख सकते हैं।

हवाई मार्ग- मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरु, कोचिन और तिरुअनंतपुरम से गोवा के लिए सीधी उड़ानें हैं।

पणजी से 26 किलोमीटर दूर (दक्षिणी) साउथ गोवा में स्थित डाबोलिम राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का हवाई अड्डा है। विदेशी पर्यटकों के लिए मुंबई प्रमुख हवाई अड्डा है। वैसे गोवा के लिए सीधी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें भी हैं।

तो चलिए अब जानते हैं कि पैकिंग सामान में क्या साथ-साथ लें? : गॉगल्स रखें, हैट, सनस्क्रीन, वॉटरप्रूफ हैंडबैग, स्पोर्ट्स कॉस्टूम्स, वॉटर बोतल इन बैग, कैमरा, चप्पल-जूते, लाइट ज्वलेरी, नो एक्सपेंसिव ज्वेलरी, बैग पैक, पिठ्ठ बैग, वॉटर बॉटल, एनर्जी ड्रिंक्स और इसके अलावा जो भी आपको जरूरी लगे।
प्रस्तुति: नम्रता जायसवाल



और भी पढ़ें :