0

आजादी के लिए त्याग और बलिदान देने वाली वीरांगनाएं, जिन्हें हम भूल गए

बुधवार,अगस्त 15, 2018
0
1
वींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखित 'जन-गण-मन..' 27 दिसंबर, 1911 को राष्ट्रीय काँग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में गाया गया था। 24 ...
1
2
ये गीत आजादी की लड़ाई के दौरान आजादी के उन परवानों के द्वारा लिखे गए थे, जिन्‍हें आज कोई नहीं जानता। ब्रिटिश हुकूमत के ...
2
3
इस आजादी की कीमत हमने शहीदों के खून और देशवासियों के बलिदान से चुकाई है। यदि गुजरे इतिहास के पन्‍नों को खँगालें तो उन ...
3
4
दिलों में गुलामी के खिलाफ आग भड़काने वाले सिर्फ दो शब्द थे- 'वंदे मातरम्'। आइए बताते हैं इस क्रांतिकारी, राष्ट्रभक्ति के ...
4
4
5
15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर हिन्दुस्तान में जगह-जगह हवा में लहराता झंडा हमें स्वतंत्र भारत के नागरिक होने का अहसास ...
5
6
बीआईएस रंगों की जांच करता है और केवल उसके बाद ही राष्ट्रीय ध्वजों को बेचने के लिए बाजार में भेजा जाता है। इस प्रकार ...
6
7
लोकतंत्र में प्रयुक्त 'लोक' शब्द अपने अपार विस्तार में समस्त संकीर्णताओं से मुक्त है। 'लोक’ जाति-धर्म-भाषा-क्षेत्र-वर्ग ...
7
8
आज देश का एक बड़ा तबका शिक्षा, स्वास्थ्य, सड़क, बिजली तथा पानी जैसी सुविधाओं से महरुम क्यों है? क्या यह उन मरहूम महान ...
8
8
9
आजादी की कीमत पिंजरे में कैद तोता ही जान सकता है, जिसके पंख फड़फड़ाकर स्वर्ण सलाखों से टकरा रहे हैं, जिसकी आत्मा कैद की ...
9
10
ज्योतिष के दिग्गज भारतवर्ष की जन्मपत्रिका आंकलन कर आने वाले साल में देश के ज्योतिषीय लाभ-हानि पर अपना मत प्रकट करते ...
10
11
15 अगस्त का दिन भारत के लिए तो ऐतिहासिक महत्व का है ही, साथ ही कुछ और भी ऐसे देश हैं, जहां इस दिन यह जश्न मनाया जाता ...
11
12
आइए, आपको 15 अगस्त से जुड़ी कुछ ऐसी दिलचस्प बातें बताते है जो आपने कही नहीं सुनी होंगी। जानिए ये 6 बातें...
12
13
वर्षो तक अंग्रेजों की गुलामी करने के बाद आज ही दिन 15 अगस्त 1947 को हमारा देश भारत आजाद हुआ था। सालों तक हम भारतवासियों ...
13
14
पूरा देश 15 अगस्त 1947 को जब आजादी का जश्न मना रहा था। उस समय एक शख्स ऐसा भी था। जो ब्रिटिश शासन की गुलामी से मुक्ति के ...
14
15

यह कैसा मनमानी का जन-गण-मन...

मंगलवार,अगस्त 7, 2018
आप कहते हैं कि कितने गंदे लोग हैं, कहीं भी कचरा फेंक देते हैं। कहीं भी पेशाब कर देते हैं और कहीं भी वाहन खड़ा कर देते ...
15
16

जन-गण-मन : एक परिचय

मंगलवार,अगस्त 7, 2018
बांग्ला साहित्य के शिरोमणि कवि रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा रचित जन-गण-मन एक विशिष्ट कविता है। इस कविता के पहले छंद को ...
16
17
स्वाधीनता दिवस एक बार फिर आत्मावलोकन का अवसर लेकर उपस्थित हुआ है। इसमें संदेह नहीं कि देश ने गत 7 दशकों में ...
17
18
स्वतंत्रता के परिप्रेक्ष्य में जब भी बात उठती है, सबसे पहले हमारे जेहन में देश की आजादी का ख्याल आता है। स्वाभाविक भी ...
18
19
आजाद भारत के 70 वर्ष बीत गए हैं, 71वें वर्ष में हम प्रवेश करेंगे। क्या कहते हैं आज के भारत के सितारे। रात्रि को जब 12 ...
19