लघुकथा : पहचान


संपन्न और शिक्षित परिवार में जब रमेश के यहां पहली हुआ तो पूरे कुटुम्ब में खुशी की लहर दौड़ गई। ऐसा नहीं था कि इस परिवार में पहले किसी कन्या का जन्म नहीं हुआ था। पर रमेश के घर जब कन्या ने जन्म लिया तो यह कहकर खुशियां मनाई गईं कि रमेश भी बड़भागी है, जो उसके घर भी पहलेपहल लक्ष्मी का आगमन हुआ।
रमेश की खुशी इस बात को लेकर थी कि भले ही लक्ष्मी चलायमान होती है, पर भविष्य में किसी और परिवार को तो समृद्ध करेगी। उसे कन्यादान का गौरव भी मिलेगा। उसका नाम भी 'लक्ष्मी' ही रखा गया।

समय अपनी गति से चलता रहा और लक्ष्मी की किलकारियों से रमेश का घर गूंजने लगा। जो भी आता, लक्ष्मी की तारीफ किए बिना नहीं रहता। पर नियति को कुछ और ही मंजूर था। 3 वर्ष की उम्र में पूर्ण ऐहतियात बरतने के बाद भी लक्ष्मी पोलियो का शिकार हो गई।
चिकित्सा चलती रही और उसका उछलता-कूदता बचपन घिसटने लगा। उम्र बढ़ती रही और इसके साथ ही उसकी शिक्षा भी चलती रही। बैसाखियों के सहारे, जमाने के तंज की परवाह किए बिना लक्ष्मी ने इसे अपनी नियति मान सहर्ष स्वीकार लिया और वह पोस्ट ग्रेजुएट हो गई।

इस बीच पिता के देहावसान ने उसे तोड़कर रख दिया, पर लक्ष्मी ने हिम्मत नहीं हारी। अब उसे अपने अलावा अपनी मां का भी ध्यान रखना था। पिता की पेंशन और पैतृक संपत्ति इतनी थी कि दोनों का जीवन आराम से कट सकता था, पर लक्ष्मी को अपनी भी बनानी थी और पिता के नाम को भी रोशन करना था। उसने अपनी बीएड की पढ़ाई जारी रखी और जल्द ही व्याख्याता बन गई।

सरकारी नौकरी तो मिली पर पोस्टिंग जब दूर के किसी ग्रामीण अंचल में हुई तो सबने मना किया, पर लक्ष्मी ने अनेक दिक्कतों को दरकिनार करते हुए इस चुनौती का भी सामना किया। उसकी मेहनत से उसे यथासमय पदोन्नति भी मिलती रही।
बढ़ती उम्र के साथ ही उसकी आध्यात्मिक रुचि भी बढ़ती गई और देखते ही देखते वे गुरु मां के रूप में पहचानी जाने लगीं। सबकुछ ठीक चल रहा था लेकिन नियति से यहां भी लक्ष्मी की खुशियां देखी नहीं गईं और एक दिन अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई। चिकित्सकों से मस्तिष्क कैंसर की जानकारी मिली, पर लक्ष्मी ने फिर भी हिम्मत नहीं हारी। वह सबको हौसला देती और मां का ध्यान रखती पर अंतत: एक दिन वह अपनी बीमारी से हार गई और अपने परिजनों को रोता-बिलखता छोड़ संसार से विदा हो गई।

अविवाहित रहकर लक्ष्मी किसी और का घर तो समृद्ध न कर सकी, पर उसने उस मुकाम पर पहुंचकर अपनी पहचान बनाई और प्रेरणा दी, जहां सामान्यत: लोग अवसाद से घिरकर अपनी पहचान खो देते हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए ...

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए जानते हैं यह रहस्य-
पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान लें नुकसान
शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जिसने किसी बच्चे को अंगूठा चूसते हुए कभी न देखा हो। अक्सर ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, जानें वजह और बचाव के उपाय
मौसम आ गया है कि आपको चाहे जब लगेगा हल्का बुखार। तो क्या घबराने की कोई बात है? जी नहीं, ...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...
अगर आप से पूछा जाए कि प्रेशर कुकर में या कड़ाही खाना बनाना बेहतर है तो आप तुरंत प्रेशर ...

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग
आजकल मार्केट में नारियल पानी से ज्यादा नारियल क्रश को पसंद किया जा रहा है। इसकी बड़ी वजह ...

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव
मिर्च-मसाले वाले पदार्थ अधिक सेवन करने से एसिडिटी होती है। इसके अतिरिक्त कई कारण हैं ...

देवताओं की रात्रि प्रारंभ, क्यों नहीं होते शुभ कार्य कर्क ...

देवताओं की रात्रि प्रारंभ, क्यों नहीं होते शुभ कार्य कर्क संक्रांति में...
कर्क संक्रांति में नकारात्मक शक्तियां प्रभावी होती हैं और अच्छी और शुभ शक्तियां क्षीण हो ...

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान ...

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान भी जरूर जान लें
लिप बाम सौंदर्य प्रसाधन में आज एक ऐसा प्रोडक्ट बन चुका है, जिसके बिना किसी लड़की व महिला ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे देवता... पढ़ें पौराणिक महत्व और 11 खास बातें
सूर्यदेव ने कर्क राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के कर्क में प्रवेश करने के कारण ही इसे ...

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र
भागदौड़ भरी जिंदगी में आजकल सभी परेशान है, कोई पैसे को लेकर तो कोई सेहत को लेकर। यदि आप ...