होली की मस्त कविता : होली की हुड़दंग...

तांका : होली होली बहार
फूला है कचनार
बाजे मृदंग
होली की हुड़दंग
गुलाल सतरंग।
>
फागुनी प्यार
सपने सतरंगी
उड़े अबीर
साजन का आंगन
रंगों से सराबोर।
 
टेसू के फूल
सुगंध बिखराए
भीनी-सी गंध
फागुन की दस्तक
पहुंची मन तक।
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :