Widgets Magazine

बेटियां अंधेरा दूर करती हैं


सुनीता काम्बोज 
यही बेजीवन में हमेशा रंग भरती हैं
सदा ही बेटियां घर के अंधेरे दूर करती हैं
 
है इनकी वीरता को ये जमाना जानता सारा
ये शीतल सी नदी भी हैं, ये बन जाती हैं अंगारा
ये तूफानों से लड़ती हैं नहीं लहरों डरती हैं
दा ही बेटियां घर के अंधेरे दूर करती हैं
 
हमेशा खून से ये सींचती सारी ही फुलवारी
छुपा लेती हैं ये मन में ही अपनी वेदना सारी
ये सौ-सौ बार जीती हैं ये सौ-सौ बार मरती हैं
सदा ही बेटियां घर के अंधेरे दूर करती हैं
 
हवाएं राह में इनके सदा कांटे बिछाती हैं
मगर जो ठान लेती ये वही करके दिखातीं हैं
ये मोती खोज लाती हैं जो सागर में उतरती हैं
सदा ही बेटियां घर के अंधेरे दूर करती हैं
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine