Widgets Magazine

कबीर जयंती विशेष : ख़िराजे- अक़ीदत

Author सेहबा जाफ़री|
 

हर एक लफ्ज जो अपने लहू से धोते हैं 
हर एक हर्फ को खुशबू में फिर भिगोते हैं 
 
न हो मुश्क तो मुअत्तर(भीगा) है ये पसीने से 
इन्हीं के दम से जमाने जमाने होते हैं 
 
इन्हीं के नाम से जिंदा है ताबे-हिन्दुस्तां
इन्हीं के नाम नए सूरज उजाले बोते हैं 
 
जो लब खुलें तो पलट दें ये कायनात का नक्शा 
जो उठ गए तो नक्शे पे मीर होते हैं 
 
यहां कहां  जरूरत नए पयम्बर की 
यह वो जमीं है जहां नाज़ि‍ल होते हैं

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine