कविता : बेटियां

पायल छनकातीं बेटियां,
मधुर संगीत सुनातीं बेटियां।

पिता की सांस बेटियां,
जीवन की आस बेटियां।
हाथों की लकीर बेटियां,
राखी की डोर बेटियां।

ऊंचाइयों को छू जातीं बेटियां,
हौसला बढ़ा जातीं बेटियां।

चांद-तारों से प्यारी बेटियां,
उम्मीद की किरण बेटियां।

मेहंदी रचाती रहतीं बेटियां,
ख्वाबों के रंग सजातीं बेटियां।

ससुराल जब जातीं बेटियां,
यादें घरों में छोड़ जातीं बेटियां।

जब-जब संदेशा भेजतीं बेटियां,
मन को खुश कर जातीं बेटियां।
आंखों में सदा ही बसतीं बेटियां,
आंसू बन संग हमारे रहतीं बेटियां।

माता-पिता का बनतीं सहारा बेटियां,
मजबूत रिश्तों का बंधन होतीं बेटियां।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :