साहित्य कविता : आदमियत




नारी बनी,
हम सबने पूजा।
पत्थर बना,
हम सबने पूजा।
माता-पिता की तस्वीर,
हम सबने पूजी।
नारी जिंदा है,
हम सब उसे नोचते हैं।

भगवान जिंदा है इंसानियत में,
हम उन्हें छोड़ चुके हैं।
माता-पिता जिंदा हैं,
वृद्धाश्रम में।

मरे को पूजना,
और जिंदा को दुत्कारना।
यही हमारी नीयत है,
यही है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :