हिन्दी कविता : बहुत शोर है...


बहुत शोर है
तेरी रचना, मेरी रचना
तेरा सम्मान, मेरा पुरस्कार
तेरी किताबें, मेरे लेख
तेरी गजलें, मेरी कविताएं
वाह-वाह, हाय-हाय
फेसबुक, व्हॉट्स एप
इंटरनेट, ट्विटर
Widgets Magazine
बहुत शोर है
अंतरमन बहुत अशांत
कलह मची है
आज मेरी रचना को
किसी ने नहीं सराहा
आज किसी ने मेरी
रचना पर ध्यान नहीं दिया।

आज मुझे ग्रीन कार्ड नहीं मिले
आज मुझे ये मिला
आज मुझे ये पुरस्कार मिला
इधर रचना भेजी, उधर किताब छपी
हाय सम्मान, हाय सम्मान
रचनाधर्मिता एक कोने में
पड़ी सिसक रही है
जब भी वह खिड़की से झांकती है
सम्मान, पुरस्कार, किताबें चीखती हैं।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।


Widgets Magazine

और भी पढ़ें :