हिन्दी साहित्य : देश नया हो जाने दो...


- मन्जू श्रीवास्तव
 
देश नया हो जाने दो...
ये तूफानों का वेग नहीं
उन्मादी परिवेश नहीं
ये धरती की अंगडाई है
धानी चूनर लहराई है
 
जो होता है हो जाने दो 
सच की किरणों को आने दो
 
कब तक अंधियारे मचलेंगे
एक दीपक तो जल जाने दो। 
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :