कविता : क्या रोक पाओगी











अशोक बाबू माहौर

चढ़ती को
कैसे रोकोगी?
क्या खड़े कर पाओगी ?
दीवालें इतनी
महल अनेकों
या बांध पाओगी चारों तरफ
पल्लियां।

क्या अंधेरे में ?
घुटन न होगी तुम्हें
सच कहूं
भानु बिना जिंदगी क्या?
संपूर्ण भू
जीवनचर्या अनाथ सी
अकेला महसूस करेगी
उदास हो
कोसेगी खुद को
साथ न देगा
न देगी साथ
जगमगाती बिजलियां।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :