कविता : क्या रोक पाओगी

Widgets Magazine











अशोक बाबू माहौर 
चढ़ती को 
कैसे रोकोगी?
क्या खड़े कर पाओगी ?
दीवालें इतनी 
महल अनेकों 
या बांध पाओगी चारों तरफ 
पल्लियां। 
 
क्या अंधेरे में ?
घुटन न होगी तुम्हें 
सच कहूं 
भानु बिना जिंदगी क्या?
संपूर्ण भू 
जीवनचर्या अनाथ सी 
अकेला महसूस करेगी 
उदास हो 
कोसेगी खुद को 
भी 
साथ न देगा
न देगी साथ 
जगमगाती बिजलियां।
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।