बारिश में भीगते पेड़ के साथ

संगत में इस बार बारिश की एक लय और कलाकृति

संगत-रवीन्द्र व्यास
रवींद्र व्यास|
Ravindra Vyas
WD
भी एक रहस्य है। हर बार गिरती हुई वह अपने किसी नए रहस्य के साथ प्रकट होती है। वह प्रकट होकर आपके किसी रहस्य से जुड़ जाती है आप महसूस करने लगते हैं कि आपके ही भीतर छिपे किसी रहस्य को वह बारिश प्रकट कर रही है।

यह बारिश का जादू है कि वह अपनी में, अपने किसी राग में जीवन के कई सारे रहस्यों को थामे रखती है। वह जिन पर गिरती है उन्हें भी वह रहस्यमय बना देती है। यदि आप बारिश को उसकी लय के साथ, उसके विलंबित खयाल में डूबकर उसके साथ चलेंगे तो हो सकता है कि वह अपना कोई रहस्य इस तरह से खोले की आपके भीतर छिपे किसी रहस्य को प्रकट कर दे।
आप सहसा चौंके और पाएँ कि अरे यह क्या। बारिश के बहुत ही कोमल हाथ होते हैं। वह आपको हमेशा छूने की कोशिश करती है। यदि आप हड़बड़ी हैं तो उसके हाथों का स्पर्श आप शायद महसूस नहीं कर सकें। लेकिन यदि आप उसके साथ हो लें, उसके राग को सुनते हुए उसके साथ गुनगुना लगें या चुपचाप सिर्फ भीगते ही रहें तो वह आपको अपने रहस्य के दरवाजे खोलकर अंदर आने का न्यौता देती है।
यह एक दिन था जब बारिश हो रही थी। बारिश में भीगता कोई पेड़ एक अजीब सा अनुभव दे गया। वह खड़ा था सड़क किनारे और आसपास दूर तक कोई दूसरा पेड़ या झाड़ी तक नहीं थी। बारिश हो रही थी। मूसलधार बारिश हो रही थी। और वह अकेला खड़ा पेड़ भीग रहा था। चुपचाप। जैसे किसी दुःख में निराश और हताश। लग रहा था जैसे सिर झुकाए सिसकियाँ ले रहा हो।

बहुत तेज बारिश में वह दिख गया और वह इसलिए भी दिख गया कि वह अकेला खड़ा था और बारिश हो रही थी। बारिश से बचने के लिए मैं उसके नीचे जाकर खड़ा हा गया।
यह बारिश का रहस्य है कि वह हमारे लिए इस तरह से अपने दरवाजे खोलती है कि हम अपने ही भीतर जाकर अपने ही अकेलेपन से मिलते हैं। बारिश हमारी हम से ही मुलाकात कराती है।
मैं बारिश की तेज बूँदों से बचने के लिए ही उस सिर झुकाए पेड़ के नीचे खड़ा था। मैंने अपनी गाड़ी खड़ी की और पेड़ के तने से टिककर खड़ा हो गया। मैं ध्यान दिया कि पेड़ के नीचे खड़े होकर बारिश की आवाज को सुनना विरल अनुभव है। यह आवाज बिलकुल अलग होती है। कुछ अनकहा कहती हुई।
मैं उस बारिश की आवाज को ध्यान से सुनने लगा। उस आवाज के जरिये बारिश ने मुझमें एक दरवाजा खोल दिया। मैं अपने अतीत में चला गया और मुझे लगा कि यह पेड़ नहीं मेरे पिता हैं। उस बारिश ने एक दरवाजा खोलकर मुझे पिता की याद की ओर धकेल दिया।

अब मैं पिता की याद में भीग रहा था। मैं उस बारिश को भूल चुका था जिसमें पेड़ भीग रहा था। मैं अपने जीवन की एक और ही बारिश में भीग रहा था। पिता के अकेलेपन को समझने का यह एक और मौका था।
बारिश में भीगता पेड़ हमेशा हमें किसी के अकेलेपन की याद दिलाता है। और हम भीगते हुए महसूस करते हैं कि हम खुद भी कितने अकेले हैं। यह बारिश का रहस्य है कि वह हमारे लिए इस तरह से अपने दरवाजे खोलती है कि हम अपने ही भीतर जाकर अपने ही अकेलेपन से मिलते हैं। बारिश हमारी हम से ही मुलाकात कराती है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....
आपका पहला पीरियड हो या अनगिनत बार आ चुके हों, इन्हें झेलना इतना आसान नहीं। मुश्किलभरे उन ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से पूछना चाहिए
क्या आप उन लोगों में से हैं जिन्होंने कभी एक लेडी डॉक्टर से मिलने की जरूरत नहीं समझी? आप ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, जानिए क्या है स्वरोदय विज्ञान
स्वर विज्ञान को जानने वाला कभी भी विपरीत परिस्थितियों में नहीं फंसता और फंस भी जाए तो ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी बढ़ाने के 5 टिप्स
घर या कमरे में कम रोशनी न केवल घर की सजावट को कम करती है बल्कि रहने वाले सदस्यों की सेहत ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास पाएं...
घर में सारा सामान सुव्यवस्थित जमा हुआ है फिर भी कुछ कमी लगती है? किसी नएपन के अहसास की ...

हिन्दी निबंध : क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद

हिन्दी निबंध : क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद
चंद्रशेखर आजाद का जन्म 23 जुलाई, 1906 को मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले के भाबरा नामक स्थान पर ...

स्वतंत्रता संग्राम के महानायक चंद्रशेखर आजाद की जयंती

स्वतंत्रता संग्राम के महानायक चंद्रशेखर आजाद की जयंती
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायक आजाद 1920-21 के वर्षों में गांधीजी के असहयोग आंदोलन ...

सोशल मीडिया पर इन गलतियों से बचें

सोशल मीडिया पर इन गलतियों से बचें
सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म अपनी अलग-अलग खूबियां रखते हैं। उन सबका उद्देश्य भी अलग-अलग ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के स्कूलों में सिख धर्म के बारे में होगी पढ़ाई
न्यूयॉर्क। अमेरिका में 70 प्रतिशत से ज्यादा नागरिकों को सिख धर्म की जानकारी नहीं होने के ...

जिम में 'आपका' वजन कम हो रहा है या 'जेब' का, फिटनेस का शौक ...

जिम में 'आपका' वजन कम हो रहा है या 'जेब' का, फिटनेस का शौक है तो एक नजर इस पर जरूर डालें
ज्यादातर लोग जिम का भरपूर फायदा नहीं उठा पाते। कारण होता है गलत जिम का चुनाव। सवाल है ...