Widgets Magazine

वर्ष 2016 का सरस्वती सम्मान महाबलेश्वर सैल को

WD|
नई दिल्ली : कोंकणी के जाने-माने साहित्यकार को वर्ष 2016 के 26वें के लिए चुना गया है। उनके उपन्यास ‘हाउटन’ के लिए उनको यह सम्मान दिया जाएगा। यह उपन्यास वर्ष 2009 में प्रकाशित हुआ था।

साहित्य के क्षेत्र में यह प्रतिष्ठित सम्मान के. के. बिरला फाउंडेशन की ओर से दिया जाता है। इस सम्मान के तहत 15 लाख रूपए की पुरस्कार राशि, प्रशस्ति पत्र और प्रतीक चिन्ह दिया जाता है। कर्नाटक के कारवाड़ स्थित शेजेबाग में चार अगस्त, 1943 को जन्मे सैल ने कोंकणी और मराठी में अनके रचनाएं लिखी हैं। मराठी में उनके चार नाटक और एक उपन्यास जबकि कोंकणी में पांच लघुकथा संकलन और सात उपन्यास प्रकाशित हुए हैं।
 
दिलचस्प है कि सैल एक सैनिक रह चुके हैं और 1965 के भारत-पाक युद्ध के दौरान वह पंजाब की हुसैनवाला सीमा पर तैनात थे। सैल को उनके लघु कथा संकलन ‘तरंगन’ के लिए वर्ष 1993 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। उनका यह उपन्यास ‘हाउटन’ गोवा में तेजी से विलुप्त हो रहे मिट्टी के बर्तन बनाने वाले कुम्हार समुदाय की सांस्कृतिक पृष्ठभूमि पर आधारित है। भाषा
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine