मप्र के संजय वर्मा को विश्व हिन्दी कथाशिल्पी सम्मान

sanjay-samman
 
 
को 'विश्व हिन्दी संस्थान कनाडा' के संस्थापक प्रो. द्वारा संपादित 'सुनो, तुम मुझसे झूठ तो नहीं बोल रहे' का दिल्ली में लोकार्पण हुआ। इस कहानी संग्रह में संजय वर्मा 'दृष्टि' (धार, मप्र) को श्रेष्ठ कहानी लिखने पर सम्मान पत्र प्रदान किया गया।
 
काव्य कृति 'दरवाजे पर दस्तक' एवं लगभग 150 से अधिक साझा काव्य संकलनों के अलावा पिछले वर्ष 'खट्टे-मीठे रिश्ते' उपन्यास लिखने में भारत की ओर से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
 
संजय वर्मा 'दृष्टि' के नित्य 20 से अधिक समाचार-पत्रों एवं पत्रिकाओं में पत्र और रचनाएं प्रकाशित होती हैं। इनके अलावा अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं में निरंतर रचनाएं, आलेख आदि प्रकाशित होते हैं। आकाशवाणी, मंचों पर काव्यपाठ, राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अनेक साहित्यिक संस्थाओं द्वारा इन्हें साहित्य पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। 
 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :