हिन्दी आलेख : एक सफर ऐसा भी


 
शिवानी गीते
हर रोज सुबह हम सभी एक नया सफर तय करते हैं। हमारी मंजि‍ल भले ही अलग होती है, लेकिन कहीं न कही, कभी न कभी हमारे रास्ते जरूर टकरा जाते हैं। घर से निकलते वक्त दिमाग में बस एक ही बात होती है कि किसी भी तरह अपनी मंजि‍ल तक पहुंच जाएं। लेकिन उस मंजि‍ल तक पहुंचने का रास्ता कितना मुश्किल होता है हम सभी जानते हैं। सभी घर से निकलते हैं, कोई स्कूल जाने के लिए, किसी को ऑफिस, तो किसी को कॉलेज जाने कि जल्दी होती है। हमें जल्दी से जल्दी अपने-अपने ठिकानों तक पहुंचाने का काम करते हैं जैसे - वैन, आई बस, सिटी बस आदि।
 
ये सभी हमारे जीवन का एक हिस्सा हैं। इनके बिना तो हमारा काम ही नहीं चलता, पर इनमें सफर करना कोई आसान बात नहीं है। सबसे पहले तो जनाब आपको इन वाहनों में अपने लिए लड़ झगड़कर जगह बनानी पढ़ती है। इतनी भीड़ में सीट मिलने की जद्दोजहद और ऊपर से गुटखा खाकर, अरे! कहा जाना है, आंटी १० रुपये लगते  है, स्टेशन-स्टेशन कर जोर-जोर से कर्कश आवाज में चिल्लाने वाले वैन और बस कंडक्टरों को झेलते हुए आप कब अपनी मंजि‍ल पर पहुंच जाते हैं, आपको पता ही नहीं चलता। चलो अब आप अपनी मंजिल पर पहुंच भी गए, तो भइया अब छुट्टे पैसों की दिक्कत को लेकर वैन वाले कंडक्टर से तो आपकी भी कभी न कभी अच्छी खासी बहस हुई ही होगी। 
 
बस का सफर भी बड़ा यादगार होता है, बस में इतनी भीड़ में खड़े रहकर ब्रेकर आने पर एक दूसरे पर गिरना ऐसा लगता है मानो किसी एम्यूज़मेंट पार्क में रोलर कोस्टर राइड का मजा ले रहे हों। लेकिन भइया यह वैन ड्राइवर इतनी मुश्किलों के बाद भी आपके मनोरंजन का पूरा ध्यान रखते हैं। अब आप पूछेंगे वो कैसे, तो वो ऐसे कि इनके पास अपना एक अलग ही बॉलीवुड गानों का कलेक्शन होता है, जो अपने पहले कभी नहीं सुने होंगे, जिसे सुनाकर ये आपके बेरंग जीवन में खुशियों की नई लहर भर देते हैं और इस पर कई बार आप कह देते हैं कि भैया इतनी खातिर मत करो अब ना हो पाएगा। 
 
लेकिन इस भीड़ में धक्के खाने का अपना ही मजा है। विचित्र-विचित्र प्राणियों को देखने का मौका मिलता है आपको, आप सभी रोज इनमें सफर करते हैं और अब इनकी आपको आदत भी हो गई होगी। लेकिन अगर आपने अब तक इन वैन या सिटी बस में सफर नहीं किया है, तो आपने अब तक जिंदगी जी ही नहीं है।तो चलिए ना... करते हैं, ऐसा भी! 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें ...

5 ऐसी चीजें जो लिवर की बीमारी को करती हैं दूर, एक बार पढ़ें जरूर
आप खाने के शौकीन हैं लेकिन क्या आप महसूस कर रहे हैं कि पिछले कुछ समय से आपका पाचन थोड़ा ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके ...

दोमुंहे बालों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो ये 4 तरीके अपनाएं
जब बालों का निचला हिस्सा दो भागों में बंट जाता है, तब उसे बालों का दोमुंहा होना कहते हैं। ...

हिन्दी निबंध : क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद

हिन्दी निबंध : क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद
चंद्रशेखर आजाद का जन्म 23 जुलाई, 1906 को मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले के भाबरा नामक स्थान पर ...

स्वतंत्रता संग्राम के महानायक चंद्रशेखर आजाद की जयंती

स्वतंत्रता संग्राम के महानायक चंद्रशेखर आजाद की जयंती
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायक आजाद 1920-21 के वर्षों में गांधीजी के असहयोग आंदोलन ...

सोशल मीडिया पर इन गलतियों से बचें

सोशल मीडिया पर इन गलतियों से बचें
सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म अपनी अलग-अलग खूबियां रखते हैं। उन सबका उद्देश्य भी अलग-अलग ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के स्कूलों में सिख धर्म के बारे में होगी पढ़ाई
न्यूयॉर्क। अमेरिका में 70 प्रतिशत से ज्यादा नागरिकों को सिख धर्म की जानकारी नहीं होने के ...

जिम में 'आपका' वजन कम हो रहा है या 'जेब' का, फिटनेस का शौक ...

जिम में 'आपका' वजन कम हो रहा है या 'जेब' का, फिटनेस का शौक है तो एक नजर इस पर जरूर डालें
ज्यादातर लोग जिम का भरपूर फायदा नहीं उठा पाते। कारण होता है गलत जिम का चुनाव। सवाल है ...