पुस्तक अंश : ब्रिटिशराज और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता

-डॉ. नरेन्द्र शुक्ल

विचार एवं अभिव्यक्ति मनुष्य के नैसर्गिक गुण हैं, जो उसे जन्म से प्राप्त होते हैं। वह इनका उपयोग भी अपने जन्मसिद्ध अधिकार की ही तरह करने की इच्छा रखता है। किंतु राज्य, संगठित धर्म अथवा व्यवस्था का कोई भी अन्य स्वरूप जो स्वयं के बने रहने को अपने अधिकार की तरह लेते हैं, उनके लिए आम जनमानस की अभिव्यक्ति की सीमा वहीं तक होती है, जहां तक वह उनके बने रहने के अधिकार के लिए खतरा न उत्पन्न करे।
व्यक्ति और व्यवस्था के बीच अंतरविरोध का यह बिंदु दोनों के मध्य अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के नैसर्गिक अधिकार के लिए संघर्ष का प्रस्थान बिंदु बन जाता है। यह पुस्तक मनुष्य के अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता संबंधी इसी नैसर्गिक अधिकार के संघर्ष से सीधे जाकर जुड़ती है, जो विवेच्य काल में भारत में आवश्यक रूप से स्वतंत्रता आंदोलन से संपृक्त रहा था।

वस्तुत: औपनिवेशिक भारत में प्रेस और मुद्रित साहित्य द्वारा लड़ी जाने वाली लड़ाई इकहरी न होकर दुहरी थी। एक तरफ वह स्वयं अपनी स्वतंत्रता के अधिकार के लिए संघर्षरत तो था ही, साथ ही वह भारत के स्वतंत्रता संग्राम में राजनीतिक कार्यकर्ताओं के ऊर्जित विचारों को आम जनमानस तक पहुंचा रहा था।

उसकी इस दोहरी भूमिका के कारण औपनिवेशिक प्रशासन की ओर से उसे दोहरे प्रतिबंध सहने पड़े किंतु भारत के आम जनमानस को स्वतंत्रता के विचार से जोड़ने वाली उसकी इस भूमिका ने उसे जीवित भी रखा। यह पुस्तक भारतीय प्रेस की उस जीवनी शक्ति से सीधा संवाद है।

प्रकाशित पुस्तकें : उपनिवेश, अभिव्यक्ति और प्रतिबंध (ब्रिटिशकालीन उत्तरप्रदेश में प्रतिबंधित साहित्य, 1858-1947), भारत में प्रेस एवं विधि, बाग़ी कलमें; अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता : सरकार और सरोकार (सं.)।
(प्रमुख, शोध एवं प्रकाशन विभाग, नेहरू स्मारक संग्रहालय एवं पुस्तकालय)

साभार- वाणी प्रकाशन

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी ...

धर्म और परमात्मा के बारे में अटल बिहारी वाजपेयी ने कही थी यह 6 बातें -
धर्म के प्रति अटल बिहारी वाजपेयी की आस्था कम नहीं रही। देशभक्ति को भी उन्होंने अपना धर्म ...

राष्ट्रपति ने ज्योतिषियों से पूछकर प्रधानमंत्री को शपथ का ...

राष्ट्रपति ने ज्योतिषियों से पूछकर प्रधानमंत्री को शपथ का समय दिया
शंकरदयाल शर्मा एक ऐसी शख्सियत हैं, जो राजनीति में आए नहीं लाए गए थे। मध्यप्रदेश की ...

अंडरगारमेंट्स रखें सूखे और साफ, वरना हो सकती हैं ये गंभीर ...

अंडरगारमेंट्स रखें सूखे और साफ, वरना हो सकती हैं ये गंभीर सेहत समस्याएं
बरसात के दिनों में कपड़े आसानी से सूख नहीं पाते और कई बार ये थोड़े ठंडे भी होते हैं ...

चेहरे पर भद्दे ब्लैकहेड्स छीन लेते हैं आपकी खूबसूरती, ऐसे ...

चेहरे पर भद्दे ब्लैकहेड्स छीन लेते हैं आपकी खूबसूरती, ऐसे छुड़ाएं इनसे पीछा
चाहे आपका नैन-नक्श कितना ही लुभावना क्यों न हो, चाहे आपकी स्किन कितनी ही गोरी क्यों न हो ...

पर्यावरण मित्र फैसलों का स्वागत

पर्यावरण मित्र फैसलों का स्वागत
थर्मोकोल से बने डिस्पोजल प्लेट, गिलास और दोने के इस्तेमाल पर पाबंदी लगाने के हिमाचल सरकार ...

अटल जी पर कविता : हां! ये मेरा अटल विश्वास है...

अटल जी पर कविता : हां! ये मेरा अटल विश्वास है...
तुम्हारी देह और हमारे मन को जलाते अंगारों में हवा में घुल चुके तुम्हारे ही विचारों में ...