जान-जहान | यूँ रहें स्वस्थ | यौन समस्याएँ | आहार | आयुर्वेद | चिकित्सा पद्धतियाँ | घरेलू नुस्खे | जडी-बूटियाँ | सेहत समाचार
मुख पृष्ठ » विविध » सेहत » यूँ रहें स्वस्थ » कैसा है आपका बॉडी मास इंडेक्स (Hindi Health Tips- Body Mass Index)
डॉ. शैफाली ओझा
ND
आमतौर पर लोगों को अपना आदर्श वजन कितना हो इसकी जानकारी नहीं होती। बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) या ऐसे ही फॉर्मूले वजन तय करने के लिए कितने कारगर हैं? क्या कमर और नितंब के अनुपात से आदर्श वजन का पता चल सकता है?

चिकित्सा विज्ञान यह तय कर चुका है कि शरीर की अतिरिक्त चर्बी स्वास्थ्य के लिए अच्छी नहीं होती, लेकिन यह भी उतना ही बड़ा सच है कि अपनी खुराक में वसा को बिलकुल शून्य कर देने के परिणाम भी बहुत बुरे होते हैं। वसा न हो तो शरीर में नर्व सेल्स और हारमोंस ही बनना बंद हो जाएंगे। साथ ही वसा में घुलने वाले कुछ विटामिन भी ऐसे ही बाहर निकल जाएंगे।

इसलिए यह प्रश्न बहुत जटिल हो जाता है कि आखिर कितनी कैलोरी रोज खाएं ताकि आदर्श वजन बरकरार रहे? इसका उत्तर सभी के लिए एक सरीखा नहीं हो सकता। इसलिए जानना जरूरी होगा कि आदर्श वजन कितना है। ऐसे कई चार्ट्स और फॉर्मूले हैं जिनसे शरीर की लंबाई और वजन के अनुपात से आदर्श वजन मालूम किया जा सकता है।

कुछ चिकित्सा पद्धतियों में शरीर की वसा के स्तर को सटीक तरह से नापा जा सकता है। अब चूंकि आपका सही वजन मसल्स मॉस जितना हो इस पर निर्भर करता है इसलिए आदर्श वजन यह हो सकता है।

ND
क्या है आदर्श वजन
आदर्श वजन होने का अर्थ यह नहीं है कि आपका शरीर भी आदर्श स्थिति में है। लगभग सभी के शरीर के फीचर्स बदलते रहते हैं। इसीलिए आदर्श वजन एक चिकित्सकीय परिभाषा है जिसका अर्थ यह है कि आपकी उम्र, लिंग और लंबाई के आधार पर आपका वजन इतना होना चाहिए।

चिकित्सक एक अलग आधार पर ही यह तय करता है कि आप मोटे हैं या नहीं। बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई), कमर के घेरे और नितंब तथा कमर के घेरे का अनुपात आदि फॉर्मूलों के आधार पर आप मोटे या ओवरवेट हैं या नहीं, तय किया जाता है। किसी भी वयस्क के लिए बीएमआई अगर 18.5 से 25 के बीच हो तो ठीक समझी जाती है।

यदि 30 से अधिक हो तो आप ओवरवेट हैं। यदि इससे भी अधिक हो तो आप ओबेस यानी बहुत मोटे की श्रेणी में आते हैं। वजन कम करने के लिए बीएमआई हमेशा विश्वसनीय नहीं होता।

इसकी वजह यह है कि जो लोग बॉडी बिल्डिंग करते हैं, उनकी मांसपेशियों का वजन शरीर में उपस्थित वसा से अधिक होता है इसलिए कसरती शरीर वालों का बीएमआई हमेशा अधिक होगा। इसी तरह बुजुर्गों के लिए बीएमआई यदि 25 से 27 के बीच हो तो उनके लिए ठीक रहता है।

यदि आपकी उम्र 65 से अधिक है तो अधिक बीएमआई अस्थिक्षरण से सुरक्षा प्रदान करता है। बच्चों में मोटापा एक बड़ी समस्या के रूप में तेजी से उभर रहा है इसलिए मोटे बच्चों के लिए बीएमआई कैल्क्यूलेटर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। बच्चे का आदर्श वजन किसी योग्य चिकित्सक से तय कराएं।

आदर्श वजन महिलाओं और पुरुषों में अलग-अलग होता है। यहां तक कि एशियाई और कॉकेशियन नस्ल की महिलाओं के आदर्श वजन में भी फर्क हो सकता है। यदि कोई महिला पूरे 5 फुट की है तो उसका आदर्श वजन 45.500 किलो होना चाहिए। यदि लंबाई 5 फुट से कम हो तो हरेक इंच पर 2 किलो 700 ग्राम वजन गणना में कम कर देना चाहिए।

अब यह तय कीजिए कि आपके शरीर का ढांचा छोटा, मध्यम या बड़े आकार का है। इसे जानने का एक बहुत ही आसान तरीका है। अपनी कलाई का नाप लीजिए। यदि यह पूरे 6 इंच हो तो आपके शरीर का ढांचा मध्यम आकार का है। इसी तरह यदि कलाई का नाप 6 इंच से कम आता है तो अपने आदर्श वजन में से 10 प्रतिशत घटा दें। यदि ज्यादा आता है तो जाहिर है कि आपके शरीर का ढांचा बड़ा है, इसलिए आदर्श वजन में 10 प्रतिशत बढ़ा दें।

पुरुषों के लिए यदि कोई पुरुष पूरे 5 फुट का है तो उसका आदर्श वजन 48 किलो 200 ग्राम होना चाहिए। यदि कलाई का नाप ठीक 7 इंच हो तो आपके शरीर का ढांचा मध्यम आकार का है। यदि कलाई का नाप 7 इंच से कम है तो आपके शरीर का ढांचा छोटा है। इसलिए आदर्श वजन में 10 प्रतिशत कम कर लें।

यदि कलाई का नाप 7 इंच से अधिक आता है तो आपके शरीर का ढांचा बड़े आकार का है तो आदर्श वजन में 10 प्रतिशत का इजाफा कर लें। जो पुरुष बॉडी बिल्डिंग करते हैं उनके मामले में आदर्श वजन फर्क हो सकता है।

हमेशा याद रखें कि वजन कम करने की जरूरत सभी को नहीं होती। वजन कम करने से पहले अपने चिकित्सक से सलाह जरूर लें। केवल परिजनों या दोस्तों की सलाह पर ही भरोसा न करें।
यह भी खोजें: हिन्दी हेल्थ टिप्स, बॉडी मास इंडेक्स, सेहत के सरल टिप्स, युवा, यूथ, टिप्स फॉर यूथ, युवाओं के लिए सेहत, हेल्थ, फिटनेस टिप्स, हेल्थ टिप्स, फिटनेस फार्मूला, सेहत के सरल टिप्स, युवा, यूथ, टिप्स फॉर यूथ