इन 3 तरीकों से कर सकते हैं उपवास, जानिए उपवास के 3 प्रकार


 
 
करना की दृष्ट‍ि से बेहद फायदेमंद होता है। यह हमारी ऊर्जा को संरक्ष‍ित करने के साथ ही शरीर की आंतरिक सफाई और मानसिक स्वास्थ्य को भी बेहतर बनाता है। आत तौर पर समाज में उपवास करने की 3 पद्ध‍तियां प्रचलित हैं, आप अपनी क्षमता अनुसार इनमें से कोई भी तरीका अपना सकते हैं - 
 
1 उपवास करने का पहला तरीका है 8/16 पद्धति। इस पद्धति के अनुसार पूरे दिन का कुल आहार 8 घंटे के अंदर ही लेना होता है और कुल 16 घंटे का उपवास करना करता होता है। उदाहरण के लिए अगर आप रात को 9 बजे दिन का अंतिम भोजन करते हैं, तो आपको अगले दिन दोपहर में ही अगला भोजन लेना होता है। इस प्रकार आप सुबह का नाश्ता नहीं कर सकते। दोपहर 1 बजे से लेकर रात के 9 बजे तक आप जितना आहार लेना चाहें ले सकते हैं। बेहतर स्वासथ्य के लिए आप रोजाना इसे कर सकते हैं, क्योंकि यह सबसे आसान तरीका है उपवास का।
2 दूसरा उपवास होता है पूरे 24 घंटे का उपवास, जिसमें आपको पूरे 24 घंटे तक कुछ भी नहीं खाना होता है। उदाहरण के लिए अगर आप आज रात 9 बजे कुछ खाते हैं, तो आप अगले दिन रात को ही कुछ खा सकते हैं, इसके पहले नहीं। इस प्रकार का उपवास सप्ताह में एक या दो बार करना बेहतर होता है।
 
3 तीसरा उपवास होता है पूरे 36 घंटों का उपवास, जो थोड़ा कठिन होता है क्योंकि इसमें 36 घंटों तक आपको कुछ भी आहार नहीं लेना होता। हालांकि बीच में तरल पदार्थों या फलों का सेवन कर लिया जाता है।
>
यह भी पढ़ें : सेंधा नमक है के लिए सबसे बेहतर, जानें 7 फायदे
 
इस उपवास के अनुसार अगर आज रात को कुछ खा रहे हैं तो अगले दिन भर आपको कुछ भी नहीं खाना होता और एक दिन बाद सुबह ही आप कुछ खा सकते हैं। इस बीच आप 500 से 600 कैलोरी ले सकते हैं। 
 
अगर आप सेहत को ध्यान में रखकर उपवास करते हैं, तो आपको घी-तेल और मसालों का सेवन नहीं करना चाहिए। दूध, दही, फल, जूस आदि का सेवन ही सबसे बेहतर होता है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

श्रावण मास की खास आखिरी सवारी 20 अगस्त को, शिव, श्रावण और ...

श्रावण मास की खास आखिरी सवारी 20 अगस्त को, शिव, श्रावण और उज्जैन का त्रिवेणी संगम
श्रावण सोमवार को राजाधिराज महाकाल महाराज पूरे लाव लष्कर के साथ अपनी प्रजा का हाल जानने ...

भोलेनाथ शंकर की सुंदर भावनात्मक स्तुति : जय शिवशंकर, जय ...

भोलेनाथ शंकर की सुंदर भावनात्मक स्तुति : जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे
जय शिवशंकर, जय गंगाधर, करुणा-कर करतार हरे, जय कैलाशी, जय अविनाशी, सुखराशि, सुख-सार ...

20 अगस्त को श्रावण का अंतिम सोमवार, अपनी राशि अनुसार कुछ इस ...

20 अगस्त को श्रावण का अंतिम सोमवार, अपनी राशि अनुसार कुछ इस तरह करें शिव को प्रसन्न
मेष राशि के जातकों को श्रावण मास के अंतिम सोमवार पर शिवजी को आंकड़े का फूल चढ़ाना चाहिए। ...

श्रावण मास में जरूरी है भगवान शिव के साथ प्रभु श्रीराम का ...

श्रावण मास में जरूरी है भगवान शिव के साथ प्रभु श्रीराम का पूजन, जानिए क्या है राज
श्रावण मास में शिव का प्रिय मंत्र 'ॐ नमः शिवाय' एवं 'श्रीराम जय राम जय जय राम' मंत्र का ...

बस सात दिन और बचे हैं सावन को खत्म होने में, कर लीजिए यह ...

बस सात दिन और बचे हैं सावन को खत्म होने में, कर लीजिए यह उपाय
26 अगस्त 2018 को रक्षाबंधन के पर्व के साथ ही सावन का पावन महीना समाप्त हो जाएगा। पूजन, ...