यह 2 चीजें साथ में ना खाएं भूलकर, वरना होगा जहरीला असर



यह 2 चीजें साथ में लेंगे तो नहीं बच सकते 'जहरीले' असर से

वैसे तो सेहत के लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद होते हैं, लेकिन कुछ मामलों में यही फल आपके लिए घातक भी साबित हो सकते हैं। जी हां, कुछ फल ऐसे भी हैं, जिनका एक साथ सेवन करने पर ये आपके एवं खास तौर से बच्चों के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकते हैं। अगर आप बचना चाहते हैं इनके से, तो जानिए कौन से हैं वे फल जिन्हें एक साथ मिक्स करके खाना, हो सकता है खतरनाक -

संतरा और गाजर - वैसे तो संतरा और गाजर का मिक्स जूस बाजार में कई जगह आपको पीने को मिल सकता है और पसंद भी किया जाता है। लेकिन यह मेल सेहत के लिए अमृत नहीं जहर का काम करता है। इसका सेवन करने पर शुरुआती समस्याओं में आप सीने में जलन महसूस कर सकते हैं और पित्त की अधिकता भी हो सकती है। इतना ही नहीं यह आपके गुर्दों को भी क्षतिग्रस्त करता है, जिसके कई गंभीर परिणाम हो सकते हैं।
अमरूद और केला - अमरूद और केला, ये दोनों ही फल गैस और अम्लरक्तता बढ़ाने का काम करते हैं, जिनका एक साथ सेवन करने पर आप कुछ अजीब भारीपन, अरूचिकर महसूस करते हैं और सिरदर्द एवं पेटदर्द भी महसूस कर सकते हैं।


दूध और अनानास -
दूध और अनानास को एक साथ मिक्स न करें ना ही एक समय में दोनों का सेवन करें। इसमें ब्रोमेलेन की उपस्थिति शरीर में नशा या आलस पैदा करती है और आपको गैस, जी मिचलाना, सिरदर्द, पेटदर्द के अलावा इंफेक्शन या डायरिया भी हो सकता है।


नींबू और पपीता -
अगर आप स्वाद के लिए पपीते पर नींबू निचोड़कर खाते हैं, तो यह आपको एनीमिया का मरीज बना सकता है। इतना ही नहीं, यह हीमोग्लोबिन संबंधी समस्या भी पैदा कर सकता है। किसी भी कीमत पर इसका प्रयोग न करें। खास तौर से बच्चों के लिए यह बेहद खतरनाक है।

दूध और संतरा - अगर आप दूध से तैयार किए गए आहार या फिर दूध के साथ आरेंज जूस का सेवन करते हैं तो रुक जाइए, यह खतरनाक हो सकता है। इन दोनों का मिश्रण पाचन में तो समस्या पैदा करेगा ही, ओट्स या दलिया के साथ इसका सेवन, आहार में उपस्थित स्टार्च को भी निष्क्रिय कर देता है।

फल और सब्जियां - फलों और सब्जियों का एक साथ सेवन हमेशा नुकसानदायक होता है। फलों में शर्करा की मात्रा अधिक होती है, लेकिन सब्ज‍ि यों में ऐसा नहीं होता। दोनों का एक साथ सेवन करने पर फल जो जल्दी पच जाते हैं, लेकिन सब्जियों की प्रक्रिया तब तक अधूरी होती है, जब तक फल पूरी तरी पच न जाए। ऐसे में पेट संबंधी कई समस्या जन्म ले सकती हैं जैसे पेटदर्द, इंफेक्शन,सिरदर्द आदि।
केला और पुडिंग - यह मिश्रण पेट में भारीपन पैदा करता है और दिमाग की सक्रियता को कम करने के साथ ही विषैले तत्वों के निर्माण को बढ़ाता है।


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार

बस,एक छोटा सा 'आभार' कम कर देगा जीवन के कई भार
आभार व्यक्त तो कीजिए। फिर देखिए, उसकी सुगंध कैसे आपके रिश्तों को अद्भुत स्नेह से सींचती ...

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है

अपने लिए भी वक्त निकालें, यह वक्त का तकाजा है
थोड़ा समय अपने शौक को देंगे तो आपको अपना आराम और मनोरंजन पूर्ण महसूस होगा।

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?

जरा चेक करें कहीं आपकी कोहनी भी तो कालापन लिए हुए नहीं?
भले ही आप चेहरे से कितनी ही खूबसूरत क्यों न हों, देखने वालों की नजर कुछ ही मिनटों में ...

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें

5 मिनट में चमकती स्किन चाहिए तो इसे जरूर पढ़ें
जिस तरह बालों को सॉफ्ट और शाइनी बनाने के लिए आप हेयर कंडीशनिंग करते हैं, उसी तरह से त्वचा ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम ...

पेट फूला-फूला रहता है तुंरत बदलिए लाइफ स्टाइल, पढ़ें 10 काम की बातें
लगातार बैठे रहने और कम मेहनत करने वालों का पेट बाहर आ जाता है लेकिन यह जरूरी नहीं है... ...

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर हिन्दी निबंध

पंडित जवाहरलाल नेहरू पर हिन्दी निबंध
भारत के पहले प्रधानमंत्री रहे पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 इलाहाबाद में हुआ ...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...

अद्वितीय राजनीतिज्ञ थे पंडित जवाहरलाल नेहरू...
पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 इलाहाबाद के एक धनाढ्य परिवार में हुआ था। उनके ...

कैसे होते हैं रोहिणी नक्षत्र में जन्मे जातक, किस व्यवसाय ...

कैसे होते हैं रोहिणी नक्षत्र में जन्मे जातक, किस व्यवसाय में मिलेगी सफलता... (जानें लग्नानुसार)
रोहिणी नक्षत्र आकाश मंडल में चौथा नक्षत्र है। राशि स्वामी जहां शुक्र है, वहीं नक्षत्र ...

रसोई में रखा जीरा बवासीर को करेगा खत्म, पढ़ें और भी लाभकारी ...

रसोई में रखा जीरा बवासीर को करेगा खत्म, पढ़ें और भी लाभकारी प्रयोग
जीरा पाचक और सुगंधित मसाला है। भोजन में अरुचि, पेट फूलना, अपच आदि को दूर करने में जीरा ...

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर क्यों किया जाता है वट वृक्ष का पूजन, ...

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर क्यों किया जाता है वट वृक्ष का पूजन, जानें पौराणिक महत्व...
भारत के पूज्यनीय वृक्षों में वट यानी बरगद का महत्वपूर्ण स्थान है। इसे अमरता का प्रतीक भी ...