ये है ठंड में एड़ियां फटने का कारण, जानें 5 उपाय

 
ठंड के मौसम में रूखी त्वचा और होंठ फटने की समस्या तो होती ही है, एड़ियां फटना भी इन दिनों में एक बड़ी समस्या होती है। इससे बचने के लिए कारणों को जानना जरूरी है। जानिए क्या है एड़ियां फटने का कारण और उपाय -  
 
एड़ियां फटने की मुख्य वजह शरीर में कैल्शियम और चिकनाई की कमी होती है। एड़ी व तलवों की त्वचा मोटी होती है, इसलिए शरीर के अंदर बनने वाला सीबम यानी कुदरती तेल, पैर के तलवों की बाहरी सतह तक नहीं पहुंच पाता। फिर पौष्टिक तत्व व चिकनाई न मिल पाने की वजह से ही एड़ियां खुरदरी-सी हो जाती हैं और इनमें दरार पड़ने लगती है। एड़िया ज्यादा फटने से दर्द और जलन तो होती ही है, कभी-कभी खून भी निकल आता है।
 
ठंड में फटी एड़ियों से छुटकारा पाने के नुस्खे
1  डेढ़ चम्मच वैसलीन में एक छोटा चम्मच बोरिक पावडर डालकर अच्छी तरह मिला लें और इसे फटी एड़ियों पर अच्छी तरह से लगा लें, कुछ ही दिनों में फटी एड़ियां फिर से भरने लगेंगी। 
 
अगर एड़ियां ज्यादा फटी हुई हों तो मैथिलेटिड स्पिरिट में रुई के फाहे को भिगोकर फटी एड़ियों पर रखें। ऐसा दिन में तीन-चार बार करें, इससे एड़ियां ठीक होने लगेंगी। 
 
गुनगुने पानी में थोड़ा शैंपू, एक चम्मच सोड़ा और कुछ बूंदें डेटॉल की डालकर मिला लें। इस पानी में पैरों को 10 मिनट तक भिगोकर रखें। त्वचा फूलने पर मैथिलेटिड स्पिरिट लगाकर एड़ियों को प्यूमिक स्टोन या झांवे से रगड़कर साफ कर लें। इससे एड़ियों कीमृत त्वचा साफ हो जाएगी। फिर साफ तौलिए से पोंछकर गुनगुने जैतून या नारियल के तेल से मालिश करें। 
 
4  पैरों को साफ व खूबसूरत बनाए रखने के लिए पैडिक्योर को अवश्य चुनें। यह पैरों के नाखून, एड़ी व तलवों की सफाई का शानदार तरीका है। 
 
पैडीक्योर एक आसान विधि है, इसे आप खुद घर पर भी कर सकती हैं अगर आपके पैरों की दशा ज्यादा खराब है तो पैडीक्योर किसी ब्यूटी स्पेशलिस्ट से ही करवाना मुनासिब है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना

कविता : श्रावण माह में शिव वंदना
शिव है अंत:शक्ति, शिव सबका संयोग। शिव को जो जपता रहे, सहे न कभी वियोग। शिव सद्गुण विकसित ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे ...

कपल्स के लिए अब बच्चे नहीं रहे प्राथमिकता, कुछ है जो इससे भी जरूरी है....
बदलते वक्त के साथ अब महिलाओं की प्रेग्‍नेंसी को लेकर सोच भी काफी बदल गई है। आज की महिलाएं ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की ...

ये रहा कैंसर का प्रमुख कारण, इसे रोक लिया तो समझो कैंसर की छुट्टी
बीमारी कितनी ही बड़ी क्यों न हो, सही इलाज और सावधानियां अपनाकर इस पर जीत पाई जा सकती है। ...

कविता : नहीं चाहिए चांद

कविता : नहीं चाहिए चांद
मुझे नहीं चाहिए चांद/और न ही तमन्ना है कि सूरज कैद हो मेरी मुट्ठी में

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है

तीन तलाक : शांति अब शोर में तब्दील हो चुकी है
जिस तरह से संसार में दो ही चीजें दृश्य हैं, प्रकाश और अंधकार। उसी तरह श्रव्य भी दो ही ...

15 अगस्त 2018 को मनाया जाएगा नागपंचमी का पर्व भी, जानें ...

15 अगस्त 2018 को मनाया जाएगा नागपंचमी का पर्व भी, जानें पूजा का मुहूर्त और विधि
श्रावण मास की शुक्‍ल पक्ष की पंचमी को पूरे उत्‍तर भारत में नागपंचमी का पर्व मनाया जाता ...

इस साल 26 अगस्त को राखी का त्योहार, जानिए पर्व मनाने की ...

इस साल 26 अगस्त को राखी का त्योहार, जानिए पर्व मनाने की विधि और पवित्र मंत्र
रक्षाबंधन का शुभ पर्व इस वर्ष 26 अगस्त को हैं। आइए जानें इसे मनाने की पौराणिक और सरल विधि ...

बढ़ती उम्र में मां बनने जा रही है तो हो जाएं सावधान, हो सकते ...

बढ़ती उम्र में मां बनने जा रही है तो हो जाएं सावधान, हो सकते है ये खतरे
यदि आप किन्ही कारणों से देरी से मां बनने का निर्णय ले रही है तो आपको इसके जोखिम और परिणाम ...

आपने नहीं पढ़ी होगी नाग से जुड़ीं ये 17 प्रचलित मान्यताएं

आपने नहीं पढ़ी होगी नाग से जुड़ीं ये 17 प्रचलित मान्यताएं
हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान शिव ने सांप को अपने गले में डालकर और विष्णुजी ने शेष शयन करके ...

राष्ट्र-गान और राष्ट्रीय ध्वज की यह खास बातें आपको पता होना ...

राष्ट्र-गान और राष्ट्रीय ध्वज की यह खास बातें आपको पता होना चाहिए
वींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखित 'जन-गण-मन..' 27 दिसंबर, 1911 को राष्ट्रीय काँग्रेस के ...