सावधान, क्रॉसफिट से हो सकता है ब्रेन स्ट्रोक

निवेदिता भारती|


खिलाड़ियों के खेल के साथ साथ उनकी फिटनेस के हैं दीवाने। फिल्मस्टारों की फिटनेस भी दिमाग में घूमती रहती है। फिटनेस को लेकर मन बना चुके हैं। ऐसे में दिमाग सोचता है ऐसे तरीकों के बारे में जिनसे ज़बरदस्त फिटनेस पाई जा सके। इन तरीकों से मिलने वाली फिटनेस आपको लुभा रही है लेकिन आप अंजान हैं इनसे जुड़े ऐसे खतरों से जो ज़िंदगी तबाह कर देगी।

आप खुद को लगभग फिटनेस के एक्सपर्ट समझने लगे हैं। इंटरनेट और टीवी से एक्ससाइज़ सीखकर फिट होने का ख्वाब देख चुके हैं। कीटो डाइट से लेकर जिम में जमकर सभी कुछ पर हाथ आज़मा चुके हैं तो आपके लिए कोई अंजान शब्द नहीं। अगर आप इस खतरनाक एक्ससाइज तरीके को अपना चुके हैं या इस पर सोच रहे हैं तो आपको सचेत हो जाने की जरूरत है। इसे सही तरीके से न कर पाने का खामियाज़ा ऐसा होगा कि आपके होश उड़ जाएंगे।

क्या है क्रॉसफिट?
क्रॉसफिट एक ब्रांडेड फिटनेस तरीका है जिसकी शुरुआत साल 2000 में युनाइटेड स्टेट्स (अमेरिका) से हुई। शुरुआत से ही इसे एक्ससाइज़ की फिलोसॉफी और जीतने की इच्छा से जोड़ा गया। इस तरीके में थोड़ा गेप देकर बहुत ज़्यादा एक्ससाइज़, पॉवरलिफटिंग, ओलंपिक वेटलिफ्टिंग ( बहुत अधिक वजन उठाना) और जिमनास्टिक किया जाता है। क्रॉसफिट इस तरह की स्ट्रेंथ ट्रेनिंग है जिसमें इंसान के शरीर के वजन के ही इस्तेमाल से प्रतिरोध पैदा किया जाता है ताकि सभी जगह ताकत आए। इस तरह का फिटनेस प्रोग्राम लोगों को आने वाली शारीरिक समस्याओं के चलते विवादास्पद हो चुका है।

कब हो जाता है क्रॉसफिट बेहद खतरनाक?
एक्सपर्ट के बिना या सही तरीके को समझे बिना हाई इंटेंसिटी वर्कआउट जैसे कॉर्सफिट अपनाना सही नहीं। जिन्हें कॉर्सफिट का स्वभाव नहीं पता इस बात से अंजान हैं कि इसमें की जाने वाली गतिविधियां काफी प्रभावी और मुश्किल हैं। इसमें जमकर और तेज़ी से कार्डियो और स्ट्रेंथ ट्रेनिंग का मिश्रण किया जाता है। आपके शरीर के सभी हिस्से इसमें शामिल होते हैं।

क्रॉसफिट फिज़िकल फिटनेस के लिए बेहतरीन है लेकिन अगर इसे गलत तरीके से किया गया तो हो सकता है। अगर इसे अपने एक्ससाइज प्लान का हिस्सा बनाने का मन बना चुके हैं तो अपने डॉक्टर से पहले पूछ लें। इसके अलावा इसे ऐसे ट्रेनर की देखरेख में करें जो इसका जानकार हो और जहां गलती की गुंजाइश ही न रहे।

कैसे हो सकता है क्रॉसफिट से ब्रेन स्ट्रोक ?
इंसानी शरीर में दिमाग, गर्दन से नीचे की ओर फैले नर्व फाइबर के माध्यम से संपर्क बनाता है। मस्तिष्क में खून पहुंचने का रास्ता गर्दन से होता हुआ जाता है। यहां स्थित चार बड़े ट्यूब, जिन्हें कैरोटिड और वर्टेब्रल आर्टेरिज़ कहा जाता है, दो गर्दन पर आगे की तरफ और दो पीछे की तरफ दिमाग को रक्त पहुंचाते हैं। ये ट्यूब चोट और डैमेज झेलने में सक्षम नहीं होते और किसी भी तरह गर्दन पर ताकत लगाकर की गई गतिविधि जैसे गर्दन को ज़ोर से आगे करना या पीछे ले जाने पर क्षतिग्रस्त हो सकते हैं। इस तरह की चोट लगने पर पैरालिटिक अटैक या ब्रेन स्ट्रोक की स्थिति बन सकती है और आपको आ सकता है ब्रेन स्ट्रोक।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

ईद-उल-अजहा क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए...

ईद-उल-अजहा क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए...
ईद-उल-अजहा मुस्लिम भाइयों का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। कुरबानी से जुड़ी होने की वजह से इसे ...

ईद-उल-अजहा की कुर्बानी को लेकर शरीयत में दी गई है ये सलाह

ईद-उल-अजहा की कुर्बानी को लेकर शरीयत में दी गई है ये सलाह
मुसलमानों के लिए अल्लाह ने खुशी मनाने के लिए साल में मुकर्रर दो ईद में से एक ईदुल-अजहा

मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता ...

मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता दर्द... तो छालों को गायब करने के ये 12 तरीके जान लीजिए
मुंह में बार-बार छाले होने से परेशान है, अब नहीं सहा जाता दर्द तो छालों को गायब करने के ...

रक्षाबंधन पर कैसे हो सकता है पंचक दोष निवारण, जानें उपाय

रक्षाबंधन पर कैसे हो सकता है पंचक दोष निवारण, जानें उपाय ...
इस बार रक्षाबंधन का पर्व प्रतिवर्षानुसार श्रावण शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि दिनांक 26 ...

अटलजी के निधन पर अमेरिका में भारतीय समुदाय शोकाकुल

अटलजी के निधन पर अमेरिका में भारतीय समुदाय शोकाकुल
न्यूयॉर्क। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर यहां भारतवंशी समुदाय के लोगों ...