अगर त्वचा की परेशानियां हैं तो इन 6 तरह की चीजों से बचकर रहें

हो जाने पर इन 6 को बिल्कुल हाथ न लगाएं
अगर आपकी त्वचा खूबसूरत है इसका सीधा मतलब है कि आपका खानपान बढ़िया है। इसके विपरीत अगर त्वचा में खामियां हैं तो आपके खानपान में सुधार की ज़रूरत है। खूबसूरत त्वचा आपके शरीर के आंतरिक अंगों के सही तरीके से काम करने का ऊपरी असर है जो साफ नज़र आता है। खासतौर से जब लिवर और आपका पाचनतंत्र स्वस्थ है तो आपकी त्वचा भी स्वस्थ है। त्वचा संबंधी रोग जैसे एक्ज़िमा, सोरायसिस या की सामान्य समस्याएं जैसे तैलीय त्वचा या अत्यधिक सूखी त्वचा का मतलब है आपका लिवर ठीक से काम नहीं कर रहा।

लिवर जब ठीक से काम नहीं करता तो आपके शरीर से सही तरीके से ज़हरीले तत्व बाहर नहीं निकल पाते। ऐसे में आपका शरीर अन्य तरीकों से सफाई करता है। ऐसे में स्किन से इन ज़हरीले पदार्थों को बाहर निकालने में त्वचा पर समस्याएं पैदा होती हैं। यह लिवर के लिए सपोर्टिंग सिस्टम के जैसे काम करता है लेकिन आप गंभीर स्किन समस्याओं से जूझते हैं।

अक्सर ही चर्म रोग हो जाने पर क्या खाएं और किन चीज़ों का सेवन बंद कर दें समझना मुश्किल है। चिकित्सा की उपलब्ध विभिन्न पद्धतियों के अनुसार कई अलग तरह की खाद्य सामग्री मरीज़ को भोजन में शामिल करने या पूरी तरह से छोड़ने की सलाह दी जाती है। ऐसे में चर्म रोग से ग्रसित मरीजों को खानपान को लेकर सही जानकारी मिलना मुश्किल हो जाता है।

पहली जानने योग्य बात यह है कि त्वचा रोग से ग्रसित मरीज़ को यह समझ लेना चाहिए कि सिर्फ खानपान में बदलाव करने से आपका रोग पूरी तरह से ठीक नहीं होगा। एक्ज़िमा, सोरायसिस या ज़िद्दी मुंहासों जैसी तकलीफ से आप सिर्फ डाइट में बदलावकर छुटकारा नहीं पा सकते।




चर्म रोग होने पर डाइट में सुधार क्यों है जरूरी?

इसमें कोई दोराय नहीं कि कुछ खास चीज़ों को खाना बंद कर आपकी त्वचा की स्थिति में थोडा सुधार हो सकता है। इसके उलट गलत खान पान की आदतें आपकी स्थिति और बिगाड सकती हैं। कुछ चिकित्सा पद्धतियां ऐसी हैं जिनमें आपको दवाई के साथ साथ परहेज को गंभीरता से लेना पड़ता है। अगर ऐसा न किया जाए तो ये पद्धतियां बिल्कुल ही बेअसर हो जाती हैं।

ऐसी खाने की चीज़ें जिन्हें त्वचा रोगों में न खाना बेहतर है

अगर आपकी स्किन की समस्या लालपन, खुजली और गर्म सी लगने वाली है तो आपको कुछ खास चीज़ों से तौबा करनी पडेगी। इस तरह की स्थिति में ऐसी चीजें जो आपके शरीर के तापमान को बढ़ाती हैं आग में घी का काम करेंगी।

अल्कोहल या शराब : शराब का शौक या
सर्दियों में शरीर को गर्माहट देने के मकसद से पी गई शराब, किसी मरीज़ की त्वचा संबंधी मुश्किलों को बढ़ा सकते हैं। जब से इस संबंध का पता मरीज़ों को लगा है उन्होंने अल्कोहल के सेवन के बाद स्किन समस्या में इजाफा महसूस किया है। अल्कोहल का सेवन चर्मरोग के चेहरे या सिर पर होने की स्थिति में पूरी तरह वर्जित है। मुंहासों और सोरायसिस की स्थिति में शराब को तुरंत छोड़ दें।

मिर्च मसाले : तीखी मिर्च , काली मिर्च और अन्य तरह के तीखे मसालों का बार बार सेवन आपकी तकलीफ बढ़ा
सकता है। अक्सर त्वचा की समस्याओं की जड़ लिवर में मानी जाती है। लिवर के सही तरीके से काम न कर पाने के कारण भी त्वचा रोग मरीज़ को परेशान करते हैं। ऐसे में अत्यधिक मिर्च मसालों के सेवन से समस्या बढ़ सकती है।

सिगरेट : स्मोकिंग किसी भी रूप में आपकी समस्या को बहुत अधिक बढा सकती है। खासतौर पर ऐसी सोरायसिस की समस्या में जिसमें त्वचा रोग हथेली और तलवों पर अधिक हो। अक्सर ऐसे मरीज़ों की हालत में सुधार देखा गया है जिन्होंने स्मोकिंग बंद कर दी हो। कम उम्र के मुंहासों में भी स्मोकिंग छोड़ने पर सुधार देखा गया है।

अत्यधिक शक्कर, सोडा और वजन बढ़ाने वाली चीजें : शक्कर से भरपूर चीज़ें, सोडा ड्रिंक्स से त्वचा रोगों में समस्या बढते देखी गई है। फास्टफूड या रिफाइंड कार्बोहाइड्रेड वाली चीज़ें खाने से भी चर्मरोग बढ़ सकता है। मैदे से बनी चीज़ें जैसे पास्ता, पिज़्जा, बर्गर, नूडल्स, पैस्ट्रीज़ और ब्रेड आपके लिवर को मुश्किल में डालती हैं। इन्हें तुरंत बन कर दें। आर्टिफिशियल स्वीटनर आपके सिस्टम को एकदम बर्बाद कर देंगे इनसे बचें।

तैलीय चीज़ें और अधिक नमक : त्वचा संबंधी बीमारियों में बहुत अधिक तला हुआ भोजन वर्जित है। ऐसी सभी खाद्य सामग्री जिनमें तेल का अधिक उपयोग हो नहीं खाना चाहिए। इसके साथ ही नमक का उपयोग कम कर देना चाहिए। समोसा, कचोरी, पकौडे और अन्य चीज़ें जिनमें तेल का उपयोग अधिक हो आपकी मुश्किल बढ़ा सकते हैं।

डेयरी पदार्थ : बेहद आश्चर्यजनक है कि स्किन से जुड़ी मुश्किलों में डेयरी को अस्वास्थयकर माना जा रहा है। आपने कुछ लोगों का अनुभव सुना होगा कि डेयरी से वज़न बढ़ता है। डेयरी को सूजन बढ़ाने या फूलने वाले खाद्यपदार्थों में माना जाता है। इस गुण के कारण डेयरी पदार्थों के सेवन से मुंहासों और एक्ज़िमा के बढ़ने का खतरा माना गया है। डेयरी के समस्या में इजाफे के पीछे एक और संभावित कारण यह है कि दुनिया में लगभग 75 प्रतिशत लोग दूध में उपस्थित लैक्टोस (डेयरी में मौजूद शक्कर) को पचा नहीं पाते। खास बात यह है कि लोग इस तथ्य से अंजान ही रहते हैं कि उन्हें डेयरी पच भी रही है कि नहीं। इस तरह डेयरी के सेवन से फिर लिवर का काम प्रभावित होता है और आपकी स्किन की समस्या बढ़ जाती है।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

मक्खन खाना शुरू कर दीजिए, यह 11 फायदे पढ़कर देखिए

मक्खन खाना शुरू कर दीजिए, यह 11 फायदे पढ़कर देखिए
मक्खन खाने के भी अपने ही कुछ फायदे हैं। अगर नहीं जानते, तो जरूर पढ़ि‍ए, और जानिए मक्खन से ...

आगे बढ़ना ही मनुष्य के जन्म की नियति है तो हम क्यों पीछे ...

आगे बढ़ना ही मनुष्य के जन्म की नियति है तो हम क्यों पीछे लौटें...
प्रकृति ने हमारे शरीर का ढांचा इस प्रकार बनाया है कि वह हमेशा आगे बढ़ने के लिए ही हमें ...

किसी और की शादी होती देख क्यों सताती है लड़कियों को अपनी ...

किसी और की शादी होती देख क्यों सताती है लड़कियों को अपनी शादी की चिंता
ज़िंदगी में एक ऐसा समय आता है जब आपको लगने लगता है कि आपके आसपास सभी की शादी हो रही है। ...

पैरेंट्स करें ऐसा व्यवहार, तो बच्चे सीख जाएंगे सच बोलना

पैरेंट्स करें ऐसा व्यवहार, तो बच्चे सीख जाएंगे सच बोलना
बच्चे बहुत नाज़ुक मन के होते हैं, बिलकुल गीली मिट्टी जैसे। उन्हें आप जो सीखाना चाहते वे ...

बस उस क्षण को जीत लेने की बात है, फिर जिंदगी खूबसूरत है

बस उस क्षण को जीत लेने की बात है, फिर जिंदगी खूबसूरत है
आत्महत्या। किसी के लिए हर मुश्किल से बचने का सबसे आसान रास्ता तो किसी के लिए मौत को चुनना ...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...

जैन धर्म में श्रुत पंचमी का महत्व, जानिए...
ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को जैन धर्म में 'श्रुत पंचमी' का पर्व मनाया जाता ...

लाखों लोगों को शुद्ध पानी दे सकते हैं सहजन के बीज : शोध

लाखों लोगों को शुद्ध पानी दे सकते हैं सहजन के बीज : शोध
सहजन... मुनगा और ड्रमस्टिक नाम से पहचाने जाने वाले पेड़ का एक अन्य इस्तेमाल वैज्ञानिकों ...

यात्राएं तोड़ती हैं कंफर्ट जोन...

यात्राएं तोड़ती हैं कंफर्ट जोन...
छुट्टियां होती है तो हमारा मन यात्रा को जाने के लिए लालायित हो जाता है। आदमी का मन लगातार ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 ...

16 जुलाई तक सूर्य रहेंगे मिथुन राशि में, कैसा होगा समय 12 राशियों के लिए...
15 जून 2018 को सूर्य ने मिथुन राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के इस गोचर का 12 राशियों ...

देह व्यापार के आरोप में भारतीय मूल के दंपति अमेरिका में ...

देह व्यापार के आरोप में भारतीय मूल के दंपति अमेरिका में गिरफ्तार
वॉशिंगटन। भारतीय मूल के एक दंपति को अमेरिका में नामी-गिरामी लोगों के लिए कथित तौर पर देह ...