बसेरे से बहुत दूर चले गए डॉ. बच्चन

WD|
कुछ रचनाकारों के लिए अपनी रचना का सम्मान उतने मायने नहीं रखता, जितना अपनी स्वाभाविकता और पाठकों की पसंद। इसी श्रेणी के साहित्यकार डॉ. हरिवंशराय बच्चन रहे हैं। उनकी लोकप्रिय कृति 'मधुशाला' को कई प्रबुद्धजनों ने स्तरीय रचना नहीं मानकर खारिज कर दिया था। बावजूद इसके पाठकों ने इसे बेहद पसंद किया।

सच पूछिए तो इस कृति में उनके उदात्त विचारों की सही झलक मिलती है। डॉ. बच्चन को उनकी आत्मकथा के अंतिम खंड 'दशद्वार से सोपान तक' के लिए सरस्वती सम्मान देने की घोषणा की गई थी।

इस साक्षात्कार में डॉ. बच्चन ने काव्य संबंधी अपनी चिंताएं और राजनीतिक परिस्थितियों पर खुलकर बात की थी। 'दशद्वार' में निवास करने वाले इस 'गीत विहग' के ही शब्दों में इस दशद्वार में प्राण-रूप पंछी रहता है। रहता है यह आश्चर्य है, निकल जाना स्वाभाविक है। और इन्हीं विचारों को सही साबित करते हुए उनका प्राण विहग अनंत यात्रा पर चल पड़ा।
प्रस्तुत है 2 फरवरी 1992 को डॉ. बच्चन से की गई खास बातचीत-

आपने जीवन के 84 शरद देखे हैं। कविता इस लंबी अवधि में कहाँ से कहाँ पहुँच चुकी है?
हाँ, कविता ने लंबी यात्रा तय की है। सिर्फ 84 वर्ष क्यों? आदिकवि से आज तक। पुरानी कविता पुरानी है, नई नई। पुरानी कविताएँ अच्छी हैं।
और नई कविताएँ?
उनमें तथ्य नहीं होता। लोग अब कविताएँ नहीं पढ़ते न पुरानी, न नई। एक वैराग्य-सा छा गया है। यह बात सिर्फ हिन्दी में नहीं, बल्कि सभी देशों की कविता पर लागू पड़ती है। मुझे याद है जब मैं कैम्ब्रिज में था तो भी कविता पढ़ने का विकल्प नहीं था। एक प्रोफेसर ने सर्वेक्षण किया था- शून्य प्रतिशत था कविता संग्रह पढ़ने का। आज भी वह शून्य प्रतिशत है।
लेकिन कवि सम्मेलन तो होते हैं- दूरदर्शन पर भी होते हैं?
न कवि सम्मेलन के नाम पर सिर्फ हास्य कवि सम्मेलन होते हैं। सुनने वाले शायद ऐसी ही कविताएँ चाहते हैं। अच्छी कविताएँ सुनने का मन हो तो भी सुनने को मिलती नहीं। कविताओं की पुस्तकें महँगी हैं। वैसे सभी किताबें महँगी हैं। लोग खरीदते नहीं। मैं पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित कविताएँ पढ़ता हूँ पर वे तत्वहीन होती हैं। तकलीफ होती है। पर कोई रास्ता नहीं निकलता।
गंभीर कविता लुप्त हो गई है। क्या आप ऐसा मानते हैं?
नगंभीर कविता लुप्त होने का कारण है आदर्शों और सिद्धांतों की कमी। जीवन में आदर्श रहा नहीं, सिद्धांत रहे नहीं। उसके बिना गंभीरता कैसे आए? कवि सम्मेलनों की पुरानी परंपरा नष्ट हो चली है- जो चल रही है वह नई है, पुरानी का अंश मात्र।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :