बसेरे से बहुत दूर चले गए डॉ. बच्चन

WD|
कुछ रचनाकारों के लिए अपनी रचना का सम्मान उतने मायने नहीं रखता, जितना अपनी स्वाभाविकता और पाठकों की पसंद। इसी श्रेणी के साहित्यकार डॉ. हरिवंशराय बच्चन रहे हैं। उनकी लोकप्रिय कृति 'मधुशाला' को कई प्रबुद्धजनों ने स्तरीय रचना नहीं मानकर खारिज कर दिया था। बावजूद इसके पाठकों ने इसे बेहद पसंद किया।

सच पूछिए तो इस कृति में उनके उदात्त विचारों की सही झलक मिलती है। डॉ. बच्चन को उनकी आत्मकथा के अंतिम खंड 'दशद्वार से सोपान तक' के लिए सरस्वती सम्मान देने की घोषणा की गई थी।

इस साक्षात्कार में डॉ. बच्चन ने काव्य संबंधी अपनी चिंताएं और राजनीतिक परिस्थितियों पर खुलकर बात की थी। 'दशद्वार' में निवास करने वाले इस 'गीत विहग' के ही शब्दों में इस दशद्वार में प्राण-रूप पंछी रहता है। रहता है यह आश्चर्य है, निकल जाना स्वाभाविक है। और इन्हीं विचारों को सही साबित करते हुए उनका प्राण विहग अनंत यात्रा पर चल पड़ा।
प्रस्तुत है 2 फरवरी 1992 को डॉ. बच्चन से की गई खास बातचीत-

आपने जीवन के 84 शरद देखे हैं। कविता इस लंबी अवधि में कहाँ से कहाँ पहुँच चुकी है?
हाँ, कविता ने लंबी यात्रा तय की है। सिर्फ 84 वर्ष क्यों? आदिकवि से आज तक। पुरानी कविता पुरानी है, नई नई। पुरानी कविताएँ अच्छी हैं।
और नई कविताएँ?
उनमें तथ्य नहीं होता। लोग अब कविताएँ नहीं पढ़ते न पुरानी, न नई। एक वैराग्य-सा छा गया है। यह बात सिर्फ हिन्दी में नहीं, बल्कि सभी देशों की कविता पर लागू पड़ती है। मुझे याद है जब मैं कैम्ब्रिज में था तो भी कविता पढ़ने का विकल्प नहीं था। एक प्रोफेसर ने सर्वेक्षण किया था- शून्य प्रतिशत था कविता संग्रह पढ़ने का। आज भी वह शून्य प्रतिशत है।
लेकिन कवि सम्मेलन तो होते हैं- दूरदर्शन पर भी होते हैं?
न कवि सम्मेलन के नाम पर सिर्फ हास्य कवि सम्मेलन होते हैं। सुनने वाले शायद ऐसी ही कविताएँ चाहते हैं। अच्छी कविताएँ सुनने का मन हो तो भी सुनने को मिलती नहीं। कविताओं की पुस्तकें महँगी हैं। वैसे सभी किताबें महँगी हैं। लोग खरीदते नहीं। मैं पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित कविताएँ पढ़ता हूँ पर वे तत्वहीन होती हैं। तकलीफ होती है। पर कोई रास्ता नहीं निकलता।
गंभीर कविता लुप्त हो गई है। क्या आप ऐसा मानते हैं?
नगंभीर कविता लुप्त होने का कारण है आदर्शों और सिद्धांतों की कमी। जीवन में आदर्श रहा नहीं, सिद्धांत रहे नहीं। उसके बिना गंभीरता कैसे आए? कवि सम्मेलनों की पुरानी परंपरा नष्ट हो चली है- जो चल रही है वह नई है, पुरानी का अंश मात्र।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....
आपका पहला पीरियड हो या अनगिनत बार आ चुके हों, इन्हें झेलना इतना आसान नहीं। मुश्किलभरे उन ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से पूछना चाहिए
क्या आप उन लोगों में से हैं जिन्होंने कभी एक लेडी डॉक्टर से मिलने की जरूरत नहीं समझी? आप ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, जानिए क्या है स्वरोदय विज्ञान
स्वर विज्ञान को जानने वाला कभी भी विपरीत परिस्थितियों में नहीं फंसता और फंस भी जाए तो ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी बढ़ाने के 5 टिप्स
घर या कमरे में कम रोशनी न केवल घर की सजावट को कम करती है बल्कि रहने वाले सदस्यों की सेहत ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास पाएं...
घर में सारा सामान सुव्यवस्थित जमा हुआ है फिर भी कुछ कमी लगती है? किसी नएपन के अहसास की ...

गंगा के उद्गम में हरे पेड़ों को बचाने की मुहिम

गंगा के उद्गम में हरे पेड़ों को बचाने की मुहिम
'ऊंचाई पर पेड़ रहेंगे, नदी ग्लेश्यर टिके रहेंगे', 'चाहे जो मजबूरी होगी, सड़क सुक्की बैड से ...

मुसलमान : वक़्त बदला, हालात नहीं

मुसलमान : वक़्त बदला, हालात नहीं
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाक़ात कर रहे हैं। अगर वे ...

1 अगस्त को शुक्र करेंगे नीच राशि कन्या में प्रवेश, जानें 12 ...

1 अगस्त को शुक्र करेंगे नीच राशि कन्या में प्रवेश, जानें 12 राशियों पर क्या होगा प्रभाव
1 अगस्त 2018 दिन के 12 बजकर 17 मिनिट से शुक्र राशि परिवर्तन कर कन्या राशि में प्रवेश ...

श्रावण में बनाएं चटपटे साबूदाना पनीरी रोल, पढ़ें सरल विधि

श्रावण में बनाएं चटपटे साबूदाना पनीरी रोल, पढ़ें सरल विधि
साबूदाने को एक कप पानी में 1 घंटे के लिए भिगो दें। हरा धनिया, हरी मिर्च बारीक काट लें।

ग़ज़ब के होते हैं करी पत्ते... फायदे जानकर आप हर सब्जी में ...

ग़ज़ब के होते हैं करी पत्ते... फायदे जानकर आप हर सब्जी में इन्हें डालेंगे
करी पत्ते का पौधा आपके या आपके पड़ोसियों के घर में आपको जरूर लगा मिलेगा। यह जितनी आसानी से ...