इलाहाबाद का वह शर्मीला नौजवान

ND
कलकत्ता में एक प्राइवेट कंपनी में छः साल नौकरी करने के बाद उसके मन में यह ख्याल आया कि क्यों न हिंदी फिल्मों में अपनी किस्मत आजमाई जाए। अभिनय का शौक उसे बचपन से ही था। इलाहाबाद में ब्वॉयज हाई स्कूल और फिर शेरवुड, नैनीताल में पढ़ाई के दौरान स्कूल में होने वाले नाटकों वह हमेशा अव्वल होता था।

पिता या मां को इसमें कोई आपत्ति नहीं थी। भाई भी मददगार था। मुंबई हमेशा ऐसे तमाम नौजवानों से अटी रहती है, जो एक दिन बॉलीवुड का चमकता सितारा बनने का ख्वाब सँजोए दूर-दराज के इलाकों से मुंबई का रुख करते हैं, पर वर्षों की थकन और टूटन के बाद सहारा देने और बात करने को होती हैं, सिर्फ समंदर की पछाड़ खाती लहरें।

एक दिन इस मायानगरी की सरजमीं पर वह नौजवान शख्स उतरा और चल पड़ा ख्वाजा अहमद अब्बास से मिलने। वे उन दिनों 'सात हिंदुस्तानी' फिल्म बना रहे थे। जुहू तारा रोड पर एक इमारत में उनका दफ्तर हुआ करता था। पीछे तेज लहरों में टूटता समंदर था। लहरों की आवाज दूर तक सुन पड़ती थी।

चूड़ीदार पैजामा और बंद गले का लंबा कुर्ता पहने वह नौजवान उनके दफ्तर में घुसा। बातचीत का सिलसिला चल निकला। वह इसके पहले और भी कई लोगों से मिल चुका था, लेकिन सबने उसकी लंबाई के कारण उसे रिजेक्ट कर दिया।

ख्वाजा अहमद अब्बास उस नौजवान की तस्वीर पहले ही देख चुके थे। हरिवंश राय बच्चन जब रूस जा रहे थे तो अजिताभ ने जिद करके उनसे एक बहुत मँहगा कैमरा लाने को कहा था। इसी कैमरे से विक्टोरिया मेमोरियल के सामने अपने भाई की तस्वीर उतारकर अजिताभ बंबई लेकर आए थे और यही तस्वीर ख्वाजा अहमद अब्बास ने देखी थी।

चूड़ीदार पैजामा और बंद गले का लंबा कुर्ता पहने वह नौजवान उनके दफ्तर में घुसा। बातचीत का सिलसिला चल निकला। वह इसके पहले और भी कई लोगों से मिल चुका था, लेकिन सबने उसकी लंबाई के कारण उसे रिजेक्ट कर दिया।

बातचीत के दौरान आत्मविश्वास से चमकती उस शख्स की आँखें अब्बास साहब को भा गईं। फिर जब यह पता चला कि वह कलकत्ता में 1600 रु. महीने की लगी-लगाई नौकरी छोड़कर आ गया है, तो उन्हें थोड़ा आश्चर्य भी हुआ। बोले: 'आपने सिर्फ यह भूमिका पाने की आशा में 1600 रु. महीने की नौकरी छोड़ दी। अगर आपका चयन नहीं हुआ तो।'

उसका जवाब था, 'खतरा तो उठाना ही पड़ता है।' उस स्वर में एक ऐसा आत्मविश्वास था कि अब्बास जी के मुँह से तुरंत निकल पड़ा, 'यह भूमिका आपको मिल गई।'

jitendra|
यह नौजवान अमिताभ बच्चन था।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए ...

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए जानते हैं यह रहस्य-
पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान लें नुकसान
शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जिसने किसी बच्चे को अंगूठा चूसते हुए कभी न देखा हो। अक्सर ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, जानें वजह और बचाव के उपाय
मौसम आ गया है कि आपको चाहे जब लगेगा हल्का बुखार। तो क्या घबराने की कोई बात है? जी नहीं, ...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...
अगर आप से पूछा जाए कि प्रेशर कुकर में या कड़ाही खाना बनाना बेहतर है तो आप तुरंत प्रेशर ...

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग
आजकल मार्केट में नारियल पानी से ज्यादा नारियल क्रश को पसंद किया जा रहा है। इसकी बड़ी वजह ...

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री

दूषित सोच से पीड़ित एक प्रसिद्ध भारतीय अर्थशास्त्री
पिछले सप्ताह विश्व प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके ...

यदि पैरेंट्स के व्यवहार में हैं ये 4 बुरी आदतें तो आपके बच्चे को बिगड़ने से कोई नहीं रोक सकता!
पैरेंट्स की कुछ ऐसी आदतें होती हैं, जो वे बच्चों को सुधारने, कुछ सिखाने-पढ़ाने और नियंत्रण ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो ...

क्या आप भी संकोची हैं, अपना ही सामान मांग नहीं पाते हैं तो यह एस्ट्रो टिप्स आपके लिए है
क्या आप भी संकोची हैं, अगर हां तो यह आलेख आपके लिए है...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों ...

कैंसर की रिस्क लेना अगर मंजूर है तो ही इन 7 सामान्य लक्षणों को नजरअंदाज करें, वरना हो सकती है बड़ी परेशानी
ये बीमारी भी ऐसे ही सामने नहीं आती। इसके भी लक्षण हैं जो आप और हम जैसे लोग अनदेखा करते ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु ...

श्री गुरु पूर्णिमा : कैसे मनाएं घर में पर्व जब कोई गुरु नहीं हो...ग्रहण के कारण इस समय कर लें पूजन
वे लोग जिन्हें गुरु उपलब्ध नहीं है और साधना करना चाहते हैं उनका प्रतिशत समाज में अधिक है। ...