जेटली कमजोर, सिद्धू दमदार प्रतिद्वंद्वी होते-अमरिंदर

अमृतसर| भाषा| पुनः संशोधित बुधवार, 30 अप्रैल 2014 (15:52 IST)
FILE
अमृतसर। कांग्रेस के प्रत्याशी ने बुधवार को कहा कि अमृतसर लोकसभा सीट से भाजपा नेता अरुण जेटली की तुलना में नवजोत सिंह सिद्धू दमदार प्रत्याशी होते।

जेटली को अमरिंदर ने हल्का प्रत्याशी बताते हुए तवज्जो नहीं दी। उन्होंने कहा कि मैं आपको बता दूं कि यह (मुकाबला) खत्म हो गया है। अगर वे (सिद्धू) वहां होते तो मेरे लिए मुकाबला कठिन होता। फिलहाल तो कोई लड़ाई ही नहीं है।

उन्होंने कहा कि अरुण जेटली कोई प्रत्याशी ही नहीं हैं। वे हल्के प्रत्याशी हो सकते हैं, लेकिन वास्तव में मेरी लड़ाई अकालियों के साथ है। उनसे पूछा गया था कि चुनाव मैदान में सिद्धू के न होने से उन्हें फायदा हुआ होगा।
अमरिंदर ने कहा कि क्या आपने मुझे जेटली के बारे में ज्यादा बोलते सुना। हमेशा बातें (बिक्रम सिंह) मजीठिया और बादल परिवार आदि के बारे में हुईं इसलिए जेटली के साथ प्रतीकात्मक मुकाबला है। अमृतसर सीट पर बुधवार को मतदान हो रहा है और यहां से कांग्रेस ने अमरिंदर सिंह तथा भाजपा ने अरुण जेटली को मैदान में उतारा है।

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री सिंह ने कहा कि कुछ हद तक इसका फायदा होगा, क्योंकि भाजपा में एकजुटता नहीं है। भाजपा के आधे लोगों की पसंद नवजोत सिंह सिद्धू हैं और स्वाभाविक है कि सिद्धू के मैदान में न होने से वे लोग नाराज हैं।
इस बीच जेटली ने स्वर्ण मंदिर में मत्था टेका और बाद में बताया कि मैं यहां अक्सर आता हूं और बुधवार तो खास दिन है इसलिए अपनी परंपराओं के मुताबिक आशीर्वाद ले रहा हूं। लोगों के लिए मेरा संदेश है कि वे आगे आएं और मतदान करें।

शिरोमणि अकाली दल के नेता सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि पंजाब में कोई सत्ता विरोधी लहर नहीं है व उन्हें चौंकाने वाले नतीजों की उम्मीद है।
उन्होंने कहा कि पंजाब से हम राज्य के नहीं, बल्कि राष्ट्रीय चुनावों के लिए मतदान कर रहे हैं। पिछले चुनाव (2012) में सत्ता विरोधी लहर एक कारक थी। इस बार आप चौंकाने वाले नतीजे देखेंगे। सिर्फ 16 दिन शेष हैं।

मादक द्रव्यों के खतरे के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि देश में मादक पदार्थों की सर्वाधिक बरामदगी और इसके धंधे से जुड़े लोगों की सर्वाधिक गिरफ्तारी पंजाब में हुई है।
उन्होंने बताया कि ये आंकड़े भारत सरकार के गृह मंत्रालय के हैं। हमारा राज्य एकमात्र राज्य है जिसने मादक पदार्थों के खतरे के खिलाफ युद्ध का ऐलान किया है। हमारा राज्य एकमात्र राज्य है, जहां सर्वाधिक मादक पदार्थ बरामद किए गए हैं।

बादल ने कहा कि मादक द्रव्यों को पाकिस्तान से लाया जा रहा है और हम इस खतरे से जूझ रहे हैं। मूल रूप से यह सीमा सील करने में भारत सरकार की अक्षमता की बात है। सीमाएं भारत सरकार के नियंत्रण में हैं और पंजाब पुलिस सीमा से 20 किमी दूर तक भी नहीं जा सकती।
बादल ने बताया कि भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेन्द्र मोदी ने वादा किया है कि चुने जाने पर वे सीमा को इतनी अच्छी तरह सील करेंगे कि एक पक्षी भी वहां से यहां नहीं आ पाएगा। उन्होंने कहा कि मोदी और बादल का तालमेल पंजाब के लिए अच्छा है।

इस बीच बठिंडा लोकसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी मनप्रीत सिंह बादल ने कहा कि पंजाब के ड्रग माफिया को पराजित होना चाहिए। मुझे उम्मीद है कि पंजाब की जनता अपने विवेक का उपयोग करेगी और मतदान करेगी।
मनप्रीत ने कहा कि बुधवार को अधिकतम लोगों को मतदान करना चाहिए। समय आ गया है कि उसे (शिरोमणि अकाली दल की सरकार को) बेदखल कर उसे सबक सिखाना चाहिए। (भाषा)


और भी पढ़ें :