Widgets Magazine

दद्दू का दरबार : सत्ता का रस

एमके सांघी|
प्रश्न : दद्दूजी, में गन्ने जैसा रस क्यों नहीं होता? दिखने में तो दोनों एक जैसे ही लगते हैं।


 
उत्तर : देखिए गन्ना उस जैसा है जिसके पास सत्ता रूपी रस है। सत्ता धारी दल के नेता, कार्यकर्ता और चुनिन्दा समर्थक इस रस को चूसते रहते हैं और मस्त रहते है। बांस की स्थिति सत्ताच्युत विपक्षी राजनीतिक दलों की तरह है जो केवल सत्ता विरोधी खेमे का सहारा बन सकते हैं या फिर हवा में वार करने के काम आते हैं ताकि उनके लिए भी रस भरे दिन आएं।    
 


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine