अगस्त का पहला रविवार दोस्ती के नाम, फ्रेंडश‍िप डे दोस्तों के साथ मनाने के बेहतरीन तरीके



जैसा की आज के अमुमन सभी युवा जानने ही है कि हर साल अगस्त का पहला रविवार दोस्ती को समर्पित होता है और इसे डे के नाम से मनाया जाता है। लेकिन ज़्यादातर लोगों को ये नहीं पता है कि क्यों इस दिन को दोस्ती को समर्पित किया गया है। आइए सबसे पहले तो जानते है कि दोस्ती दिवस मनाने की शुरूवात कैसे हुई थी।
दरअसल, एक बार अमेरिका की सरकार ने एक व्यक्ति को मार दिया था। इस व्यक्ति का एक दोस्त था, जिसने अपने दोस्त की मृत्यु के गम में आत्महत्या कर ली। उनकी दोस्ती की गहराई को सम्मान देते हुए 1935 से अमेरिका में इस दिन को दोस्तों के नाम कर दिया गया और इस तरह फ्रेंडशिप डे मनाने की शुरूवात हुई।

आज के समय में युवा यहां तक के बड़े भी इस दिन को अपने दोस्तों के साथ बिताते हैं और अपने दोस्तों को खास महसूस करवाते हैं। इस दिन को कई तरह से मनाया जा सकता है, आप भी इस फ्रेंडशिप डे पर नीचे बताए गए किसी भी आईडिया को अपना सकते है:
1. अपने दोस्तों की पूरी टोली के साथ आउटिंग पर जा सकते है।
2. पिकनिक या आपने दोस्तों के साथ कोई
पसंदीदा
मूवी देखने का प्लान कर सकते है।

3. यदी आप अपने स्कूल व कॉलेज के दोस्तों से लंबे अरसे से नहीं मिलें है, तो फ्रेंडशिप डे एक गेट टुगेदर प्लान करना का सबसे सही मौका है।

4. यदि किसी कारण से बाहर जाना संभव ना हो, तो आप अपने अजीज दोस्त को कोइ प्यारा सा तोहफा भी दे सकते है। ऐसा कुछ जिसे देखकर, उसे हमाशा आपके साथ उसकी दोस्ती की यादे ताज़ा होती रहें। वैसे कुछ ऐसे उपहार है जो हमेशा ही चलल में रहते हैं, जैसे कोई शोपीस, फोटो फ्रेम, घड़ी, कपल सेट, ड्रेस, बुके, कोई अच्छी सी किताब इत्यादि।

5. इस दिन अपने दोस्तों को फ्रेंडशि‍प डे विश करके उन्हें फ्रेंडशि‍प बैंड बांधने का चलन है। इन बैंडस पर कुछ संदेश लिखे होते है। आप भी अपने दोस्त को बैंडस बांध सकते है।

6. इस दिन अपने प्रिय मित्र को अपनी भावनाएं व्यक्त करने का भी सबसे सही मोका है। वैसे तो आप आए दिन ही अपने दोस्त को बहुत कुछ कहते रहते हैं और दोस्तों से आपकी कोई फीलिंग छुपी नहीं होती है। लेकिन इस दिन खास तौर पर ग्रीटिंग कार्ड दे कर अपने संदेश दोस्तों को पहुंचाने का भी चलन है।

आप यकिन मानिए चाहे रोज़ आप उनके लिए जितना कुछ करते हो, लेकिन इस दिन यदि किसी दूरदराज के दोस्त ने उन्हें फ्रेंडशि‍प डे विश कर दिया व कुछ खास उनके लिए कर दिया, लेकिन उनके सबसे करीबी मित्र यानि की आपने अपने दोस्त को कोई बधाई व संदेश नहीं दिया, तो वे आपसे नाराज जरूर हो सकते हैं।
7. यदि आपका कोई दोस्त या सहेली आपके शहर से बाहर रहती हो तो आप इस दिन उनसे फोन पर बात जरूर करें। इससे उन्हें यह अहसास होगा की चाहे वे आपसे दूर है लेकिन फिर भी आप उनके करीब ही है।

8. कई बार सभी दोस्त एक ही शहर में होते हुए भी अपने बिजी शेड्यूल के कारण लंबे अंतराल में भी मिल नहीं पाते है। ऐसे में आप सभी दोस्तों को साथ में लेकर कांफ्रेंस कॉल करे सकते और उन्हें सरप्राइज कर दे सकते है।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ

अटल जी की कविता : जीवन की ढलने लगी सांझ
जीवन की ढलने लगी सांझ उमर घट गई डगर कट गई जीवन की ढलने लगी सांझ।

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी ...

अटल जी की लोकप्रिय कविता : मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊंचाई कभी मत देना
मेरे प्रभु! मुझे इतनी ऊँचाई कभी मत देना गैरों को गले न लगा सकूँ इतनी रुखाई कभी मत ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक ...

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी : बेदाग रहा राजनीतिक पटल, बहुत याद आएंगे अटल
देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वह ना केवल एक ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते ...

शिक्षा और भाषा पर अटल बिहारी वाजपेयी के 6 विचार, बदल सकते हैं सोच...
अटल बिहारी वाजपेयी ने शिक्षा, भाषा और साहित्य पर हमेशा जोर दिया। उनके अनुसार शिक्षा और ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना ...

अटल बिहारी वाजपेयी की कविता : जीवन को शत-शत आहुति में, जलना होगा, गलना होगा
बाधाएं आती हैं आएं घिरें प्रलय की घोर घटाएं, पांवों के नीचे अंगारे, सिर पर बरसें यदि ...

बारिश में बिल्कुल न खाएं अंकुरित अनाज, जानिए कारण ...

बारिश में बिल्कुल न खाएं अंकुरित अनाज, जानिए कारण ...
वैसे तो अंकुरित अनाज सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है और इसे नियमित तौर पर अपनी डाइट में ...

वाजपेयीजी ऐसे राजनेता जिसे हम भूल नहीं सकते

वाजपेयीजी ऐसे राजनेता जिसे हम भूल नहीं सकते
अटलबिहारी वाजपेयी की पूरी जीवन यात्रा के मूल्यांकन के लिए कुछ आधार बनाना होगा। उनको ...

जो चाहें वो पाएं, ऐसे इस्तेमाल करें अपना 'सब कॉन्शस माइंड'

जो चाहें वो पाएं, ऐसे इस्तेमाल करें अपना 'सब कॉन्शस माइंड'
जीवन में हमारे साथ जो भी घटित होता है उसमें असल खेल तो हमारे 'सब कॉन्शस माइंड' का होता है ...

माखन-मिश्री के सेहत से जुड़े ये 6 मीठे फायदे आप भी जानिए...

माखन-मिश्री के सेहत से जुड़े ये 6 मीठे फायदे आप भी जानिए...
माखन मिश्री भगवान श्रीकृष्ण का प्रिय भोग है। यह स्वाद में जितना मधुर लगता है, उतने ही ...

ईद-उल-अजहा को क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए

ईद-उल-अजहा को क्यों कहते हैं ईदे कुरबां, जानिए
ईद-उल-अजहा मुस्लिम भाइयों का एक महत्वपूर्ण त्योहार है। कुरबानी से जुड़ी होने की वजह से इसे ...