FIFA WORLD CUP 2018 : रंगारंग कार्यक्रम के साथ फुटबॉल के महाकुंभ का आगाज

Last Updated: शुक्रवार, 15 जून 2018 (00:23 IST)
रूस में 21वें फीफा विश्व कप फुटबॉल शुरु हो चुका है। शानदार रंगारंग कार्यक्रम के साथ विश्व कप का आगाज हुआ। रंगारंग कार्यक्रम में रूस की सांस्कृतिक झलकियों के अलावा दुनिया के जाने-माने गायकों ने भी अपनी प्रस्तुति देकर उद्‍घाटन समारोह में चार चांद लगा दिए। उद्घाटन समारोह में करीब 500 कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियां दीं।

लिव इट अप से हुई शुरुआत : समारोह की शुरुआत में विश्व कप-2018 के आधिकारिक गाने 'लिव इट अप' से हुई। समारोह की शुरुआत में वीडियो द्वारा रूस के तमाम मैदानों व शहरों को दिखाया गया। इसके बाद ब्रिटिश सिंगर रॉबी विलियम्स की बेहतरीन गीतों के साथ हुई। इस दौरान उनका साथ रूसी ओपेरा सिंगर गरीफुल्लिना ने निभाया। दोनों की प्रस्तुतियों ने दर्शकों का मन मोहा।
प्रस्तुति के दौरान ही रूसी मॉडल विक्टोरिया लोपीरेवा मैदान पर आधिकारिक फुटबॉल को लाईं। महान ब्राजीली खिलाड़ी रोनाल्डो ने एक बच्चे के साथ गेंद को आधिकारिक शुभंकर जाबीकावा को पास किया और जाबीकावा ने गोल करके आरंभ का संकेत दिया।


रॉबी की प्रस्तुतियों ने मन मोहा : समारोह में इंग्लैंड के पॉप स्टार रॉबी विलियम्स के अलावा सिंगर जुआन डिएगो फ्लोरेज, स्पेन के ओपेरा सिंगर प्लासिडो डोमिगो और रूसी ओपेरा सिंगर गरीफुल्लिना ने भी अपनी प्रस्तुति दी। इसके बाद विश्व चैंपियन टीम जर्मनी ने प्रवेश किया। रॉबी ने अपनी आवाज से फिर से दर्शकों का मनोरंजन किया।

रॉबी की प्रस्तुति के बाद रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने समारोह को संबोधित किया और उसके बाद फीफा अध्यक्ष जियानी इंफेंटीनो ने फुटबॉल वर्ल्ड कप के शुरू होने की आधिकारिक घोषणा की। ब्राजील के महान फुटबॉलर पेले खराब स्वास्थ्य के कारण उद्घाटन समारोह में में शामिल नहीं हो सके। रूसी संगीतकार प्योत्र चाइकोवस्की की धुन पर पूरा स्टेडियम 'रशिया-रशिया' से गूंज उठा। पश्चिमी देशों से खराब रिश्तों और रूस को अलग-थलग करने के आरोप लगाने वाले पुतिन ने विश्व कप के लिए दुनियाभर का रूस में स्वागत किया।

पश्चिमी देशों ने नहीं भेजे प्रतिनिधि : पश्चिमी देशों ने मॉस्को में फीफा विश्वकप के उद्घाटन समारोह के लिए इस बार अपने सीनियर प्रतिनिधियों को नहीं भेजा है। वर्ष 1980 के मॉस्को ओलंपिक का पश्चिमी देशों ने बहिष्कार किया था जबकि रूस पर सरकार प्रायोजित डोपिंग के आरोप भी लगे हैं जिसके कारण कई रूसी एथलीट 2016 के रियो ओलंपिक में हिस्सा नहीं ले पाए थे। डोपिंग के आरोपों का वैश्विक स्तर पर सामना कर रहा रूस हालांकि इस समय दुनिया के सबसे बड़े खेल का आयोजन कर रहा है।

देश के उप प्रधानमंत्री और खेल मंत्री विताली मुत्को ने कहा कि शुरुआत से ही बहिष्कार के प्रयास रहे हैं लेकिन पश्चिमी राजनेता असल जिंदगी से दूर हैं।' यूक्रेन से चार वर्ष पूर्व जबरन क्रीमिया पर कब्जा करने के चलते पश्चिमी प्रतिबंध झेल रहे रूस के राष्ट्रपति लुज़निकी स्टेडियम में उद्घाटन समारोह का हिस्सा बने।

पुतिन को हाल ही में 18 वर्ष बाद फिर से देश का राष्ट्रपति चुना गया है। राष्ट्रपति ने रूस की मेजबानी में विश्वकप कराने के लिए एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय फुटबाल महासंघ (फीफा) का धन्यवाद किया है। उन्होंने कहा 'राजनीति को पीछे छोड़कर खेल भावना को बनाए रखने के लिए फीफा का धन्यवाद।'


और भी पढ़ें :