नरेंद्र दामोदरदास मोदी

WD|
नरेंद्र मोदी 7 अक्टूबर, 2001 से गुजरात के मुख्यमंत्री हैं, जो इस प्रांत के अभी तक के सबसे अधिक कार्यकाल वाले मुख्यमंत्री माने जाते हैं। भारतीय जनता पार्टी के राजनीतिक पटल में अपनी अलग पहचान रखने वाले मोदी वर्तमान में भाजपा के सशक्त नेता के रूप में जाने जाते हैं।

गुजरात के मेहसाणा जिले में स्थित वाड़नगर नामक कस्बे में 17 सितंबर, 1950 को जन्मे मोदी एक मध्यवर्गीय परिवार से संबंधित थे। अपनी युवावस्था में ही उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सदस्यता ले ली थी। तत्पश्चात वह पूर्ण रूप से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का हिस्सा हो गए। 1974 में राष्ट्रसंघ में प्रवेश करने के बाद 1980 के प्रारंभिक दशक में वह भाजपा का हिस्सा बन गए। 1988 में मोदी को भाजपा की गुजरात की इकाई का सचिव बनाया गया।
मोदी की पहचान हमेशा से ही एक कुशल प्रबंधक के रूप में रही मगर चुनाव के दौरान उन्होंने अपनी छवि हिंदुत्व के समर्थक के रूप में बनाई। 1995 में मोदी को भाजपा की मुख्य धारा में शामिल करते हुए देश के पाँच प्रमुख राज्यों का सचिव बनाया गया। मगर मोदी की सबसे बड़ी उपलब्धि 2001 रही, जब उन्होंने गुजरात में सत्ता में आई भाजपा सरकार का प्रतिनिधित्व किया और गुजरात के मुख्यमंत्री बने।
इस साल भूकंप की पीड़ा से गुजर रहे डाँवाडोल गुजरात को उनकी सरकार ने कुछ इस तरह संभाला कि का यहाँ के कुल घरेलू उत्पाद की विकास दर 10 प्रतिशत से भी अधिक बढ़ गई। मिली-जुली प्रतिक्रियाओं वाला मोदी का यह कार्यकाल जहाँ एक ओर इस राज्य के आर्थिक विकास का द्‍योतक रहा वहीं दूसरी ओर दंगों में मोदी की भूमिका काफी विवादास्पद रही।

कभी 'इंडिया टुडे' जैसी पत्रिका ने मोदी के कार्यकाल में गुजरात की आर्थिक सुदृढ़ता को देखते हुए उन्हें लगातार दो बार सर्वेश्रेष्ठ मुख्यमंत्री का सम्मान दिया, वहीं दूसरी ओर 2002 के गोधरा कांड और गुजरात में उठे दंगों में मोदी की भूमिका पर सवालिया निशान लगाए। कभी वीजा मामले में मोदी का नाम आया तो कभी उन्होंने आतंकवाद को लेकर वर्तमान प्रधानमंत्री पर कटाक्ष किए। मगर इतने के बाद भी गुजरात विधानसभा चुनाव मोदी की मजबूत स्थिति को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।


और भी पढ़ें :