नोटबंदी के दौरान पांच लाख से अधिक रुपया जमा करवाने वालों की पहचान

नई दिल्ली| Last Updated: बुधवार, 1 फ़रवरी 2017 (11:10 IST)
Widgets Magazine
नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद बैंक खातों में पांच लाख रुपए से अधिक की राशि जमा कराने वाले ऐसे 18 लाख लोगों की पहचान की गई है, जिनका नकदी लेन-देन उनके करदाता प्रोफाइल से मेल नहीं खा रहा है। ऐसे लोगों को 10 दिनों में ई-सत्यापन कराना होगा नहीं तो उनके खाते सील कर दिए जाएंगे।
      
राजस्व सचिव हसमुख अधिया और केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के अध्यक्ष सुशील चंद्रा ने यहां चर्चा में यह जानकारी दी। अधिया ने कहा कि 9 नवंबर से 30 दिसंबर के बीच बैंक खातों में जमा कराई गई नकद राशि का ई-सत्यापन किया जा रहा है और इसके लिए सीबीडीटी ने अपने स्तर पर एक विकसित किया है।
 
उन्होंने कहा कि ने इस सॉफ्टवेयर पर आधारित 'स्वच्छ धन अभियान' शुरू किया है और इसी के तहत नोटबंदी के दौरान जमा नकद राशि की पहचान की जा रही है। इसके तहत करदाताओं के आयकर रिटर्न और नकदी लेन-देन का मिलान किया जा रहा है और उसी के आधार पर अधिक धनराशि जमा कराने वालों की पहचान की जा रही है। (वार्ता) 
Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।