Widgets Magazine
Widgets Magazine

भैंस पालकों के महत्‍वपूर्ण सवाल और उनके जवाब

Author राकेश कुमार|
भैंस पालकों के महत्‍वपूर्ण सवाल और डॉक्टर द्वारा उनके जवाब हम इस लेख के जरिए आप तक पहुंचा रहे हैं, जो कि भैंस पालकों के लिए मददगार साबि‍त हो सकते हैं। पढ़िए... 
प्रश्‍न- भैंस खुलकर गर्मी में नहीं आती। गाभिन कराएं या नहीं?
उत्‍तर- भैंस में गर्मी के लक्षण बहुत हल्के होते हैं। उनकी तुलना गाय से नहीं करनी चाहिए। लक्षण यदि ठीक प्रकार से पहचान में नहीं आ रहे हैं तो डॉक्टर से जांच करा लें। इसके अलावा यदि डॉक्टर उपलब्ध नहीं है तो आप इस गर्मी को छोड़ भी सकते हैं, लेकिन इस गर्मी की तारीख कहीं पर लिखकर रख लें। 20-22 दिन बाद यदि ये लक्षण फिर आते हैं तो यह समझें कि भैंस निश्चित रूप से गर्मी में है। भैंस को अवश्य गाभिन कराएं।
  
प्रश्‍न- भैंस डोका करती है, पर बोलती नहीं। क्या करें?
उत्‍तर- कुछ भैंसों में शांत मद के कारण गर्मी के लक्षण स्पष्ट रूप से दिखार्इ नहीं देते हैं, परन्तु गर्मी में आने से 3-4 दिन पहले तक उसके थन दूध से भरे दिखार्इ देते हैं। इसे डोका कहते हैं। आमतौर पर डोका इस बात का सूचक माना जाता है कि भैंस गर्मी में आने वाली है। अत: डोका करने के 3-4 दिन बाद यदि भैंस तार देती है तो समझें कि भैंस गर्मी में है और गाभिन कराएं। यदि डोका लम्बे समय तक बना रहता है तो डॉक्टर द्वारा जांच करा लें कि कहीं डिंबग्रंथि में कोर्इ सिस्ट तो नहीं बना है और इलाज कराएं।
 
प्रश्‍न- भैंस गर्मी के लक्षण दिखाती है, परन्तु जब उसे झोटे के पास ले जाते हैं तो झोटा सूंघकर चला जाता है तथा ऊपर नहीं चढ़ता है, क्या भैंस गर्मी में नहीं होती?
उत्‍तर- नर भैंसा स्वभाव से सुस्त होता है तथा उसमें मैथून की इच्छा कम होती है। उस दिन झोटे ने पहले किसी और भैंस को गाभिन कर दिया है तो यह इच्छा और कम हो जाती है। उम्र बढ़ने के साथ कुछ झोटे तो भैंस में बिल्कुल भी रुचि नहीं दिखाते। सबसे अच्छा है कि आप भैंस को कृत्रिम गर्भाधान केंद्र पर ले जाकर डॉक्टर द्वारा जांच करवाकर भैंस को उच्च गुणवता वाले वीर्य से गाभिन कराएं।
 
प्रश्‍न- गर्मी में आने पर भैंस को कब गाभिन कराएं?
उत्‍तर- भैंस आमतौर पर 24 घंटे गर्मी में रहती है। इस दौरान उसे कभी भी गाभिन कराया जा सकता है, लेकिन वैज्ञानिक सलाह यह दी जाती है कि उसे गर्मी के अंतिम 12 घंटों में कभी भी गाभिन करा लें अर्थात गर्मी में आने के 10-12 घंटे बाद। कुछ किसान भाइयों की यह सोच है कि भैंस को तब गाभिन कराएंगे जब वह ठंडी हो जाएगी। गर्मी समाप्त होने पर भैंस को वह अगले दिन लाते हैं। यह सोच बिलकुल गलत है। इस स्थिति में भैंस के गाभिन होने की संभावना बहुत कम रह जाती है। अत: भैंस को समय पर गाभिन कराएं। आमतौर पर 12 घंटे के अंतराल पर दो बार गाभिन करवाना लाभप्रद रहता है।
 
प्रश्‍न- भैंस को गाभिन कराने के बाद क्या सावधानी रखें कि भैंस रूक जाए?
उत्‍तर- भैंस को गाभिन कराने के बाद अधिक दूर तक पैदल न चलाएं। उसे मारे-पीटे और भगाएं नहीं। गाभिन कराने के बाद उसे ठंडा पानी पिलाएं, खूब नहलाएं और कम से कम दो हफ्ते तक ठंडी जगह बांधें। भैंस को हरा चारा खिलाएं तथा प्रतिदिन ग्रोवेल का अमीनो पॉवर (Amino Power) अवश्य खिलाएं। गर्भाधान के 20-22वें दिन भैंस पर कड़ी नजर रखें कि दोबारा गर्मी में तो नहीं है। गर्भाधान के 2 महीने बाद गाभिन होने की जांच जरूर कराएं।
 
प्रश्‍न- भैंस को तीन-चार बार झोटे से मिलवाया है, परंतु हर 20-22 दिन बाद फिर गर्मी के लक्षण दिखाती है। कोर्इ उपाय बताएं?
उत्‍तर- कर्इ बार झोटे से मिलन के बावजूद भी यदि भैंस नहीं ठहरती है तो इसके कर्इ कारण हो सकते हैं, इसका इलाज भी कारण का पता चलने पर ही संभव है।
 
* संभव है कि झोटा ही नपुंसक अथवा कम जनन क्षमता वाला हो। इसका पता इस बात से चल सकता है कि उस झोटे से गर्भित होने वाली बाकी भैंसें गाभिन ठहरती हैं या नहीं। इसकी जांच कर लें। अधिकतर भैसें सर्दियों के मौसम में गर्मी में आती हैं, इससे झोटों पर अधिक दबाव रहता है। यदि झोटे में खोट है तो झोटा बदलकर देख लें अथवा कृत्रिम गर्भाधान ही कराएं।
 
* यदि कृत्रिम गर्भाधान कराने पर भैंस फिरती है तो हो सकता है कि गर्भाधान सही समय पर नहीं किया गया है, गर्भाधान विधि उचित नहीं  है या फिर हिमीकृत वीर्य की गुणवत्ता ठीक नहीं है। उसकी जांच करवाएं।
 
* कुछ भैंसों में हारमोनों के असंतुलन से अंडा सही समय पर नहीं छुटता है। इससे निषेचन पश्चात यदि भ्रूण बनता भी है तो उसके जिंदा रहने की संभावना बहुत कम रहती है। गर्भाधान के बाद यदि भ्रूण 15 दिन के अंदर ही मर जाता है तो भैंस 20-22 दिन बाद ठीक समय पर गर्मी में आती है, परंतु यदि भ्रूण की मृत्यु गर्भधारण के 16 दिन पश्चात् होती है तो भैंस पूरे चक्र (20-22 दिन) से अधिक समय बाद गर्मी के लक्षण दिखाती है।
 
* बच्चेदानी में संक्रमण होने से भी भैंस नहीं ठहरती है। इसका पता गर्मी के समय दिखार्इ देने वाले तार से चल सकता है। आमतौर पर यह तार शीशे/पानी की तरह साफ होना चाहिए। यदि इसमें सफेदी या कोर्इ छिछड़े हैं तो इसका तात्पर्य है कि बच्चेदानी में संक्रमण है। इस अवस्था में पहले र्इलाज कराकर ही भैंस को गाभिन कराने का प्रयास सफल रह सकता है।
 
* कुछ भैंसों में डिंबग्रंथि पर बनने वाला पीतपिंड पूर्ण रूप से विकसित नहीं हो पाता, जिससे वह पर्याप्त मात्रा में प्रोजेस्ट्रोन हारमोन पैदा नहीं कर पाता है। विकासशील भ्रूण को उपयुक्त वातावरण नहीं मिलने से उसकी मृत्यु हो जाती है। रोग निदान करने के बाद पशु चिकित्सक भैंस को गाभिन करवाने के 3-4 या 10-12 दिन बाद उपयुक्त हारमोन के टीके लगाते हैं। इससे पीतपिंड द्वारा प्रोजेस्ट्रोन उत्पादन बढ़ जाता है।
 
प्रश्‍न- किस नस्ल की भैंस सबसे अच्छी है तथा हमें किस नस्ल के झोटे/ वीर्य से भैंस को गाभिन कराना चाहिए?
उत्‍तर- संसार में सबसे अच्छी नस्लें मुख्य रूप से केवल भारत और पाकिस्तान में ही पाई जाती हैं। भारतीय नस्लों में मुर्रा, नीली-रावी, मेहसाना, सूरती, जाफराबादी, नागपुरी, पंढारपुरी तथा भदावरी प्रमुख हैं। हरियाणा राज्य की मुर्रा भैंस को दूध और सुंदरता के आधार पर सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है। भैंस को गाभिन कराने के लिए क्रमानुसार निम्न बातों को प्राथमिकता देनी चाहिए-
 
पहली : यदि आपकी भैंस किसी भी शुद्ध नस्ल की है तो सबसे अच्छा होगा कि आप उसी नस्ल के झोटे से भैंस को गाभिन कराएं।
दूसरी : यदि आपकी भैंस देशी या मिश्रित नस्ल की है तो उस क्षेत्र में पाई जाने वाली नस्ल के झोटे से भैंस को गाभिन कराएं।
 
तीसरी : यदि उस क्षेत्र की कोर्इ विशेष दुधारू नस्ल नहीं है और आप दुधारू नस्ल पैदा करना चाहते हैं तो उस भैंस को मुर्रा नस्ल के झोटे/ वीर्य से गाभिन कराएं।
 
प्रश्‍न- असली मुर्रा नस्ल की पहचान क्या है?
उत्‍तर- मुर्रा नस्ल की भैंस के सींग छोटे परंतु गोलार्इ में अन्दर की ओर कसकर मुड़े होते हैं। भैंस की त्वचा पतली व पूरा शरीर एकदम काला और पूंछ भी काले रंग की होती है। भैंस का सिर हल्का तथा गर्दन पतली होती है। इनका पिछला हिस्सा चौड़ा तथा अगला हिस्सा संकरा होता है। इनका अयन काफी विकसित होता है तथा दूध उत्पादन क्षमता 2000-3500 किग्रा प्रति ब्यांत होती है। सींगों का खुला होना, शरीर के बालों पर तांबे जैसी झलक दिखार्इ देना या सफेद बाल होना तथा पूंछ सफेद होने को नस्ल के मुख्य लक्षणों से विचलन मानते हैं। वैसे इस प्रकार की भैंसें भी मुर्रा ही हैं, परंतु प्रदर्शनी/प्रतियोगिता/प्रजनन के लिए चयन आदि में नस्ल के मुख्य शारीरिक लक्षणों को प्राथमिकता दी जाती है। आमतौर पर दूध की प्रतियोगिताओं में नस्ल विशेष के शारीरिक लक्षणों में कुछ विचलन होने पर समझौता करना पड़ता है, परंतु इस बात का अवश्य ध्यान रखा जाता है कि वह लक्षण किसी अन्य नस्ल का मुख्य लक्षण तो नहीं है तथा उस लक्षण की प्रतिशतता अधिक नहीं है। शारीरिक लक्षणों में मान्य विचलन के लिए अभी तक निश्चित मानदंड तय नहीं हैं। यह सब प्रतियोगिता/चयन के उद्देश्य तथा जज/चयनकर्ता के विवेक पर निर्भर करता है।
 
प्रश्‍न- हमारे पास 10-12 भैंसें हैं। हम यह चाहते हैं कि सभी भैंसें एक ही दिन गर्मी में आकर गाभिन हो जाएं। क्या कोर्इ उपाय है?
उत्‍तर- हां, बिलकुल है। आप पशु चिकित्सक से सम्पर्क करें। पशु चिकित्सक भैंस की जांच करके  उपयुक्त हारमोन के इंजेक्शन लगा देते हैं, जिसके बाद सभी भैंसें एक ही दिन गर्मी में आ जाती हैं। इसका एक लाभ यह भी है कि भैंस में गर्मी के लक्षण देखने की आवश्यकता नहीं रहती व टीके के निर्धारित समय पश्चात गर्भाधान किया जा सकता है। यह भी ध्यान रखें कि हारमोन का टीका हर पशु में हर समय काम नहीं करता। साथ ही गाभिन पशु में अत्यन्त सावधानी रखें क्योंकि कुछ टीके गर्भपात भी करवा सकते हैं।
 
प्रश्‍न- भैंस को कर्इ बार गाभिन कराया है, परन्तु अभी तक रूकी नहीं है। क्या भ्रूण प्रत्यारोपण द्वारा उसके अंदर भ्रूण रखकर गाभिन किया जा सकता है?
उत्‍तर- इसका उत्तर मोटे तौर पर नहीं है। इसका कारण यह है कि भ्रूण प्रत्यारोपण तकनीक बहुत ही महंगी है। अत: भ्रूण केवल उन्हीं मादा भैंसों में डालते हैं जो जनन की दृष्टि से सर्वश्रेष्ठ हैं तथा केवल एक बार वीर्य डलवाने पर गाभिन हो जाती हैं। गर्मी में न आने वाली, बार-बार फिरने वाली, जनन समस्याओं से ग्रसित भैंसें भ्रूण प्रत्यारोपण के लिए उचित नहीं होती। हां ऐसे पशु में कृत्रिम विधि से हारमोन के टीके लगवाकर दूध उत्पादन शुरू करवाया जा सकता है।
 
प्रश्‍न- भैंस के गर्मी में आने पर उसे वीर्य का टीका लगवा लिया। फिर डॉक्‍टर साहब ने कहा कि इसे झोटे से भी करा लेना, अच्छी गर्मी में है। उसे हमने झोटे से भी करा लिया। अब होने वाला बच्चा किसका होगा?
उत्‍तर- वीर्य का टीका लगवाने के बाद यदि किसी डॉक्टर ने ऐसा कहा है कि इसे झोटे से भी करा लेना तो यह बहुत ही अवैज्ञानिक तरीका है। इसकी जितनी भी निंदा की जाए कम है। किसान अपनी भैंस का कृत्रिम गर्भाधान इसलिए कराता है ताकि उसकी होने वाली नस्ल सुधार सके। यदि उसे झोटे से ही कराना होता तो वह गर्भाधान केन्द्र पर क्यों आता। ऐसी स्थिति में यह बताना तो निश्चित रूप से कठिन है कि बच्चा कृत्रिम गर्भाधान वाला होगा या प्राकृतिक गर्भाधान वाला, परन्तु यहां उन परिस्थितियों का जिक्र करना उचित होगा जब कृत्रिम गर्भाधानकर्ता ऐसी सलाह देता है :
 
* खराब गुणवत्ता वाला वीर्य : ऐसी स्थिति में कृत्रिम गर्भाधानकर्ता को ऐसे वीर्य से गर्भाधान करने की अपेक्षा साफ मना कर देना चाहिए कि वीर्य की गुणवत्ता सही नहीं है और आप कहीं दूसरी जगह गर्भाधान करा लें।
 
* नौसिखिया कृत्रिम गर्भाधानकर्ता : यदि गर्भाधानकर्ता नौसिखिया है तो अक्सर ऐसा कह देता है ताकि उसके द्वारा गर्भाधान दर अधिक हो जाए।
 
* गर्भाशय ग्रीवा की विकृति : कभी-कभी ऐसा भी होता है कि भैंस तो पूरी तरह गर्मी में होती है, परन्तु गर्भाशय ग्रीवा की विकृति के कारण कृत्रिम गर्भाधान नलिका गर्भाशय ग्रीवा में नहीं जा पाती। इस स्थिति में गर्भाधानकर्ता के पास कोर्इ विकल्प नहीं बचता और वीर्य को योनि में ही छोड़ना पड़ता है। जहां गाभिन रहने की संभावना बहुत ही कम होती है। भैंस इसी चक्र में गाभिन हो जाए और किसान को फिर से अगले मद चक्र का इंतजार न करना पड़े तो कृत्रिम गर्भाधानकर्ता उसे झोटे से गाभिन कराने की सलाह दे देता है।
 
कृत्रिम गर्भाधान कर्ता का कार्य संतोषजनक होने की संभावना यदि कम है तो बेहतर होगा कि आप अपनी भैंस को केवल झोटे से ही मिलवाएं अन्यथा पशु से बेकार छेड़छाड़ की जाएगी और अनुचित विधि द्वारा बच्चेदानी में व्यर्थ ही गर्भाधान नलिका डालने से संक्रमण की भी संभावना हो सकती है।
 
प्रश्‍न- बच्चा कटड़ा होगा या कटड़ी : क्या यह पूर्व नियोजित किया जा सकता है?
उत्‍तर- यह पूरी तरह से नर झोटे के ऊपर निर्भर करता है। झोटे के वीर्य में दो प्रकार के शुक्राणु होते हैं, इन्हें X – मादा तथा Y- नर शुक्राणु कहते हैं। ये दोनों शुक्राणु लगभग बराबर संख्या में होते हैं। मादा से निकलने वाला अण्डा केवल Y-प्रकार का होता है। निषेचन के समय यदि X -शुक्राणु मादा के X - अण्डे से मिलता है तो मादा भ्रूण बनता है, जबकि Y -शुक्राणु के मादा X -अण्डा से मिलने पर नर भ्रूण बनता है। X तथा Y शुक्राणु दोनों के पास मादा के X -अण्डा से मिलन के समान अवसर होते हैं। अत: प्रकृति में नर तथा मादा का अनुपात लगभग बराबर रहता है। अभी तक वैज्ञानिक इसके पूर्व नियोजन का उपाय नहीं ढूंढ पाए हैं जो कि हमेशा सफल रहे। हालांकि इस दिशा में सभी प्रयासरत हैं।
 
प्रश्‍न- क्या भैंसों में गर्भस्थ बच्चे का लिंग पता लगा सकते हैं?
उत्‍तर- हां, बिलकुल। भैंसों में गर्भस्थ बच्चे का लिंग अल्ट्रासांउड विधि द्वारा जान सकते हैं। गाभिन कराने के 55 दिन बाद यह तकनीक प्रयोग में लार्इ जा सकती है तथा लगभग तीन महीने तक के भ्रूण का लिंग आसानी से पता कर सकते हैं।
 
प्रश्‍न- भैंस ने जुड़वां बच्चे दिए हैं– एक  कटड़ा और एक कटड़ी। इनका जनन कैसा रहेगा?
उत्‍तर- आमतौर पर भैंस में जुड़वां बच्चे बहुत कम होते हैं, लेकिन जुड़वां में यदि एक कटड़ा और दूसरी कटड़ी है तो यह मानकर चलें कि कटड़ी बांझ रहेगी। आगे चलकर उसे निकाल दें। यदि जुड़वां में दोनों कटड़े हैं अथवा कटड़ी है, तो चिंता करने की कोर्इ बात नहीं। इन दोनों स्थितियों में बच्चों का प्रजनन सामान्य रहेगा।
 
प्रश्‍न- भैंस के ब्यांत के पूरे दिन हो गए हैं, परन्तु अभी तक बच्चा नहीं दिया है। कब तक इंतजार करें?
उत्‍तर- यह प्रश्न आमतौर पर काफी सुनने को मिलता है, परन्तु अधिकतर दशा में ऐसा देखा गया है कि किसान भार्इ भैंस के गाभिन कराने की तारीख कहीं भी नहीं लिखते और अक्सर भूल जाते हैं। भैंस लगभग 310-315 दिन बाद बच्चा देती है तथा इसमें 5-7 दिन ऊपर-नीचे हो सकते हैं। इसके बाद भी भैंस बच्चा नहीं देती है और गर्भाधान तिथि आपको निश्चित याद है तो पशु चिकित्सक से सम्पर्क करें। इस स्थिति से निबटने के लिए दवाइयां उपलब्ध हैं।
 
कभी–कभी ऐसा भी होता है कि भैंस को हल्के दर्द आते हैं परन्तु ब्याने के अन्य लक्षण जैसे थनों में दूध उतरना व पुठ्ठों का नीचे बैठना स्पष्ट होते हैं। किसान भ्रम की स्थिति में रहता है कि भैंस एक-दो दिन में बच्चा दे देगी। एक-दो दिन बाद भैंस में ये लक्षण समाप्त हो जाते हैं। ल्योटी सूख जाती है, पुठ्ठे सामान्य हो जाते हैं तथा भैंस सामान्य या बेचैन हो सकती है। इस स्थिति में तुरंत पशु चिकित्सक से सम्पर्क करें। क्योंकि हो सकता है कि बच्चा मर गया हो, बच्चा विकृत हो या बच्चेदानी में बल पड़ गया हो।
 
भैंस में यदि दर्द शुरू हो गए हैं तथा लगभग 4-6 घंटे की कोशिश के बाद भी बच्चा बाहर नहीं आ रहा है तो पशु चिकित्सक को तुरंत बुला लेना चाहिए।
 
प्रश्‍न- भैंस के ब्याने में अभी 10-15 दिन हैं। परन्तु उसके एक थन में सूजन आ रही है। क्या करें?
उत्‍तर- भैंस का पहले ब्यांत में दूध सुखाते वक्त यदि सही सावधानियां नहीं बरती गर्इ हैं तो अक्सर ऐसा हो जाता है। दूध, जीवाणु की वृद्धि के लिए बहुत अच्छा माध्यम है। अत: यदि ल्योटी में कुछ दूध रह गया है तो उसमें जीवाणु वृद्धि करने लगते हैं और थनैला रोग हो जाता है। इस स्थिति में जिस थन में भी सूजन है उसका पूरा दूध तुरंत खाली कर दें और पशु चिकित्सक से मिलकर उस थन में दवार्इ चढ़वा लें। यह क्रिया/इलाज 3-5 दिन तक जारी रखें।
 
प्रश्‍न- भैंस ब्याने में 4-5 दिन हैं। उसकी नाभि के पास पानी उतरा हुआ है क्या करें?
उत्‍तर- आमतौर पर ब्याने से पहले कुछ पशुओं में नाभि के आसपास पानी उतर आता है। यदि यह ज्यादा नहीं है तथा भैंस को उठने-बैठने में तकलीफ नहीं है तो ऐसे ही रहने दें। ब्याने के बाद यह स्थिति अपने आप ठीक हो जाती है। यदि यह बहुत ज्यादा है तो पशु चिकित्सक की सलाह लें।
 
प्रश्‍न- भैंस ने जेर नहीं गिरार्इ है। क्या बच्चे को दूध पिला सकते हैं?
उत्‍तर- बच्चे को दूध पिलाने के लिए जेर गिरने का इंतजार नहीं करना चाहिए। भैंस के अयन और पिछले हिस्से की सफार्इ करके, ब्याने के 1-2 घंटे के अंदर ही बच्चे को दूध पिला देना चाहिए। खीस में ऐसे तत्व होते हैं जो बच्चे को बीमारियों से लड़ने की शक्ति प्रदान करते हैं तथा उनका असर 1-2 घंटे के अंदर ही सबसे अधिक होता है। बच्चे को दूध पिलाने से भैंस में भी ऐसे हारमोन निकलते हैं जिससे जेर जल्दी बाहर आ जाती है।
 
प्रश्‍न- भैंस की जेर ब्याने के कितनी देर बाद बाहर निकलवानी चाहिए?
उत्‍तर- आमतौर पर ब्याने के 2-6 घंटे के अंदर जेर बाहर आ जाती है। परन्तु यदि यह जेर 12 घंटे तक भी पूरी तरह बाहर नहीं आती तो है इसे जेर रूकना कहते हैं। जेर रूकने पर, ब्याने के 24 घंटे बाद ही जेर निकलवानी चाहिए। इससे जेर की बच्चेदानी से चिपकन कम हो जाती है तथा जेर आसानी से निकल आती है। यदि कुछ जेर अंदर भी रह जाती है, तो चिंता की बात नहीं है। बेहतर हो कि जेर को बच्चेदानी के अंदर हाथ डालकर न निकाला जाए। जेर को योनि के बाहर से पकड़कर धीरे-धीरे खींचना चाहिए। यदि यह टूट जाए तो योनि के अन्दर कुछ दूरी तक हाथ डाल सकते हैं। परन्तु इस बात का ध्यान रहे कि हाथों में साफ दस्ताने पहने हों अन्यथा टीके द्वारा भी शेष भाग निकाला जा सकता है। भैंस का इलाज 3-5 दिन अवश्य कराएं। जेर अपने आप टूट-टूट कर बाहर निकल जाएगी।
 
प्रश्‍न- भैंस ने समय से पहले बच्चा फैंक दिया है। उसकी जेर बाहर नहीं निकली है। क्या करें?
उत्‍तर- आमतौर पर भैंस समय से पहले बच्चा दो कारणों से फैंकती है–
 
* प्रोजेस्ट्रोन हारमोन का पर्याप्त मात्रा में होना व जनन सम्बन्धी संक्रामक बीमारियां होना।
 
पहली अवस्था में भैंस, बार-बार बच्चा फैंकती है तथा उसमें संक्रमण  का कोर्इ लक्षण नहीं होता है। इस स्थिति में रोग निदान के बाद डॉक्टर द्वारा अगले ब्यांत में प्रोजेस्ट्रोन हारमोन के नियमित तौर से टीके लगवाऐ जाते हैं। दूसरी अवस्था में गर्भपात के बाद, बच्चे व जेर का अथवा मवाद का परीक्षण करके चिकित्सक इसके कारण का पता लगाते हैं, व उपयुक्त उपचार करते हैं। दोनों ही अवस्था में जेर नहीं गिरती क्योंकि इसका बच्चेदानी के साथ मजबूत बंधन बना रहता है। इसे खींचकर निकालने की कोशिश नहीं करें। आमतौर पर बच्चेदानी में 5-6 दिन तक जीवाणुनाशक दवा रखने से जेर अपने आप टूट-टूट कर बाहर आ जाती है। टूटी जेर निकालने के लिए टीके भी लगाए जा सकते है, जो बच्चेदानी का संकुचन कर जेर को बाहर फेंकने में सहायता करते हैं।
 
प्रश्‍न- ब्याने के बाद भैंस ने जेर खा ली है। क्या करें?
उत्‍तर- जेर एक तरह से मांस है, लेकिन भैंस एक शाकाहारी पशु है। इसलिए अगर भैंस जेर खा लेती है तो उसके पाचन तंत्र में गड़बड़ होना स्वाभाविक है। यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि भैंस ने जेर का कितना बड़ा हिस्सा खाया है। यदि छोटा टुकड़ा खाया है तो कोर्इ तकलीफ नहीं। यदि वह  ज्यादा या पूरा जेर खा गर्इ है तो अपचन, दस्त या कब्ज व भूख कम लगना और साथ-साथ दूध उत्पादन कम होना देखा गया है। भैंस सुस्त रहती है, बच्चे में भी कम ध्यान लगाती है। ऐसे में तुरन्त पशु चिकित्सक से इलाज करवाएं। भैंस की पाचन क्रिया को सामान्य करने के लिए ग्रोवेल का ग्रोलिव फोर्ट (Growlive Forte) प्रति दिन दस दिनों तक दें। यदि जरूरत पड़े तो कब्ज निवारण के लिए ग्रोलिव फोर्ट (Growlive Forte) आगे भी खिलातें रहें। वैसे भैंस आमतौर पर 2-3 दिन में ठीक हो जाती है। कुछ भैंसो में यह जेर का टुकड़ा पेट के एक हिस्से में अटक जाता है। जिससे उसमें अफारा हो जाता है। ऐसी स्थिति में शल्य चिकित्सा द्वारा पेट से जेर का अटका हुआ हिस्सा निकालने की नौबत भी आ सकती है।
 
प्रश्‍न- भैंस ने  मैला  नहीं  गिराया है, क्या करें?
उत्‍तर- भैंस ने यदि मैला नहीं गिराया है तो आमतौर पर बच्चेदानी में मवाद पड़ सकती है। उसकी पूंछ और योनि पर लाल या सफेद रंग का मवाद चिपका रहता है तथा मक्खियां भिनकती रहती हैं। इसका डॉक्टर से इलाज कराएं। यदि पूंछ और योनि पर मवाद नहीं चिपका है तथा मक्खियां नहीं भिनक रही तो समझें की भैंस बिलकुल ठीक है। कोर्इ इलाज की जरूरत नहीं है। कुछ भैंसो में मैला शरीर द्वारा सोख लिया जाता है जो हानिकर नहीं होता है। इलाज तभी कराएं जब मवाद दिखार्इ दे।
 
प्रश्‍न- क्या भैंस में दूध  निकालने  के  टीके  लगाने  का  जनन  पर  कोर्इ  कुप्रभाव है ? क्या इस प्रकार निकाला गया दूध मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है?
उत्‍तर- सामान्य तौर पर जब कटड़ा/कटड़ी भैंस के थनों को चूसती है या दूध निकालने के लिए थन साफ करके मसले जाते हैं तो दिमाग के निचले हिस्से में स्थित पिट्यूटरी ग्रंथि में से आक्सीटोसिन हारमोन निकलकर खून में घुल जाता है। यहां से यह हारमोन ल्योटी में पहुंचकर दूध की नलकियों का संकुचन करता है जिससे भैंस पावस जाती है। इस दौरान दूध को शीघ्रता से निकालते हैं, क्योंकि यह पावसन कुछ ही मिनटों का होता है। आक्सीटोसिन हारमोन शरीर में केवल कुछ मिनट तक ही टिक पाता है, खून में इसका विघटन बहुत जल्दी होने से यह निष्क्रिय हो जाता है। ऐसी भैंस जिसका बच्चा मर जाता है, किसान भार्इ आक्सीटोसिन का टीका लगाकर भैंस का दूध निकाल लेते हैं। अब यह टीका बाजार में इस उपयोग के लिए उपलब्ध नहीं है।
 
जहां तक इसके जनन पर प्रभाव का सवाल है, यदि भैंस गर्मी में है, उसे गाभिन करवाया गया है, वह कुछ दिन/महीनों की गाभिन है, इस टीके का भैंस जनन पर कोर्इ अहम प्रभाव नहीं है क्योंकि, दूध निकालने के लिए हारमोन की जो मात्रा प्रयुक्त की जाती है वह बहुत कम होती है। यदि यह हारमोन अधिक मात्रा में एक साथ लगाया जाए तो उसका कुप्रभाव जैसे भैंस का गाभिन न ठहरना व गर्भपात की आशंका होना आदि हो सकते हैं। 
 
क्योंकि आक्सीटोसिन हारमोन की मात्रा बहुत कम होती है तो यह दूध में भी मिश्रित नहीं होता है। यदि इसकी कोर्इ लघु मात्रा दूध में हो तो वह मानव की पाचन नली में पचने के कारण, संभवत: शरीर में कोर्इ नुकसान नहीं पहुंचाती, लेकिन भैंस को बार-बार टीका लगाना एक  क्रूर प्रक्रिया है। अत: भैंस में दूध लेने के लिए टीका लगाने की प्रवृत्ति को रोकना चाहिए।
 
प्रश्‍न- कुछ दिन पहले हमने एक भैंस खरीदी थी। उसकी त्वचा का रंग बिलकुल काला था, लेकिन उसका रंग अब तांबे की तरह लाल सा हो गया है। कुछ उपाय बताएं।
उत्‍तर- कुछ व्यापारी/पशु मेलों में भैंस के ऊपर कालिख पोतकर ले आते हैं। इसका पता लगाने के लिए भैंस के किसी हिस्से को अच्छी तरह धो लें अथवा गीले कपड़े से पोंछ लें। यदि कालिख की गर्इ है तो पता लग जाएगा।
 
दूसरे, भैंस को खरीदकर लाने के बाद उसे लगातार बंद कमरे के अंदर रख रहे हैं तो सूर्य के प्रकाश के अभाव में त्वचा का रंग लाल पड़ जाता है। सूर्य की किरणों में त्वचा के रंग का कालापन बनाए रखने की क्षमता होती है। अत: भैंस को सूर्य के प्रकाश में खुली छायादार जगह पर बांधे। कुछ ही दिनों में त्वचा का रंग काला हो जाएगा।
 
शीघ्र इलाज के लिए पशु चिकित्सक से सम्पर्क करें। पशु चिकित्सक इस स्थिति में भैंस को ग्रोवेल का ग्रोविट पॉवर (Grovit Power) व विटामिन ए, डी तथा र्इ के इंजेक्शन का टीका लगा देते हैं। टीका लगने से त्वचा में चमक आ जाती है तथा रंग भी काला हो जाता है।
Widgets Magazine
Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine