राज़ी : फिल्म समीक्षा

सत्तर बरस से ज्यादा हो गए बंटवारे को, लेकिन अभी भी फिल्मेमकर्स तथा कहानीकारों के पास भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव और संबंध को लेकर बहुत कुछ कहने को है। मेघना गुलजार द्वारा निर्देशित फिल्म 'राज़ी' हरिंदर सिक्का की किताब 'कॉलिंग सेहमत' पर आधारित है और इसमें भी इसी तनाव की आग में जूझती एक जासूस लड़की की कहानी है।

फिल्म 1971 में सेट है जब ईस्ट पाकिस्तान में मुजीबुर रहमान की गतिविधियों के कारण भारत-पाकिस्तान के संबंध तनावपूर्ण हो गए थे। तब दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाली सेहमत खान (आलिया भट्ट) को पाकिस्तान जासूस बनाकर भेजा जाता है। सेहमत के पिता हिदायत खान (रजित कपूर) उसकी शादी पाकिस्तानी आर्मी ऑफिसर इकबाल सईद (विक्की कौशल) से करा देते हैं जिसके परिवार के अन्य लोग भी पाकिस्तानी आर्मी में हाई रेंक ऑफिसर्स हैं।

शादी के पहले सेहमत को ऐसी ट्रेनिंग दी जाती है कि खून देख चक्कर खाने वाली सेहमत वक्त आने पर किसी इंसान को मारने से भी नहीं चूकती। पाकिस्तान जाकर सेहमत अपना काम शुरू कर देती है।

सेहमत से एक भारतीय ऑफिसर पूछता है कि तुम यह सब करने के लिए क्यों राजी हुईं? तो वह इसका जवाब देती है कि वह मुल्क और खुद को अलग करके नहीं देखती। वह खुद को ही मुल्क मानती है। यह संवाद सेहमत के किरदार को इतने ठोस तरीके से परिभाषित करता है कि दर्शकों को यकीन हो जाता है कि यह लड़की देश के लिए कुछ भी कर सकती है।

शुरुआत के कुछ मिनटों में भारत-पाक के तनावपूर्ण रिश्ते, सेहमत की ट्रेनिंग और उसकी शादी दिखाई गई है। इसके बाद फिल्म पूरी तरह से सेहमत पर शिफ्ट हो जाती है। सेहमत के लिए यह सब आसान नहीं था। वह एक परिवार का हिस्सा होकर उनकी ही जासूसी करती है। उसके परिवार में रिश्ते बन जाते हैं। लगाव पैदा हो जाता है। सेहमत जानती हैं कि उसका पति, ससुर, जेठ सभी अपने मुल्क (पाकिस्तान) के लिए काम कर रहे हैं और वह अपने मुल्क (भारत) के लिए, इसलिए उसे किसी की गलती नजर नहीं आती। मोहब्बत से ज्यादा मान वे देश को देती है, लेकिन कहीं ना कहीं उसके दिल पर चोट भी लगती है कि वह अपने परिवार के साथ विश्वासघात कर उन्हें मुसीबत में डाल रही है।

सेहमत के दिमाग में चल रही इस उथलपुथल को निर्देशक ने बेहतरीन तरीके से दर्शाया है। उन्होंने पाकिस्तानियों को ऐसे पेश नहीं किया कि वे भारत या भारतीयों के खिलाफ खूब जुबां चला रहे हों। इसलिए वे विलेन नहीं लगते और इससे दर्शक सेहमत की मानसिक स्थिति को गहराई के साथ समझते हैं।

'राज़ी' बताती है कि सरहद पर सेना के जवान तो अपना काम बखूबी कर रहे हैं, लेकिन कई गुमनाम एजेंट्स ऐसे काम कर जाते हैं जिनको वाहवाही भी नहीं मिलती। सेहमत अपने देश के लिए तन-मन-धन तक न्यौछावर कर देती है। सेहमत का जब राज खुलता है तो उसका पति पूछता है कि क्या वह कभी 'सच' भी थी। उसका इशारा उन अंतरंग क्षणों की ओर था कि क्या वह बिस्तर पर भी ड्यूटी निभा रही थी? सेहमत के पास इसका कोई जवाब नहीं होता।

सेहमत को आखिर में अहसास होता है कि उसका जंग में सब कुछ लूट गया और उसे कोई फायदा नहीं हुआ। वह अपने बेटे को भारतीय सेना का हिस्सा बनाती है जिसका पिता पाकिस्तान सेना में था। इस तरह बातें जहां सोचने पर मजबूर करती हैं, कई तरह के सवाल पैदा करती हैं, वहीं स्पाय ड्रामा पूरी तरह बांध कर रखता है।

फिल्म की कहानी और प्रस्तुतिकरण इतना सशक्त है कि आप फिल्म में डूबे रहते हैं। सेहमत के खुफिया जानकारी जुटाने वाले सीन इतने बेहतरीन तरीके से फिल्माए गए हैं कि आप पलक भी नहीं झपक सकते। भवानी अय्यर और मेघना गुलजार द्वारा लिखा गया स्क्रीनप्ले कई टर्न्स और ट्विस्ट्स लिए हुए है और फिल्म सरपट गति से भागती है।

निर्देशक के रूप में मेघना गुलजार की इस बात के लिए तारीफ करनी होगी कि इस जासूसी ड्रामे को उन्होंने रियल रखने की कोशिश की है। आमतौर पर फिल्मों में जिस तरह से जासूस का ग्लैमराइज्ड वर्जन दिखाया जाता है उससे यह फिल्म कोसों दूर है। मेघना ने फिल्म में बेहतरीन तरीके से थ्रिल पैदा किया है जिसे हम उनकी पिछली फिल्म 'तलवार' में भी देख चुके हैं। थ्रिल के साथ-साथ उन्होंने सेहमत के किरदार से दर्शकों को शानदार तरीके से कनेक्ट किया है जो कि आसान बात नहीं थी।

फिल्म में एक-दो बातें खटकती भी हैं जैसे इतने भरे-पूरे परिवार में सेहमत सारा काम बहुत आसानी से करती है। खुफिया जानकारियों वाली फाइल को घर के लोग बड़ी आसानी से टेबल पर ही रख देते हैं। कॉम्बेट ट्रेनिंग लेने वाली सेहमत स्टूल पर चढ़ने में लड़खड़ाती है। लेकिन फिल्म की पकड़ इतनी मजबूत है कि दर्शकों का ध्यान ग‍लतियों पर नहीं जाता।

एक और सवाल उठता है कि इतने हाई रेंक आर्मी ऑफिसर्स अपने परिवार की भारतीय बहू पर शक क्यों नहीं करते? दरअसल सेहमत अपनी मासूमियत से सभी का दिल जीत लेती हैं और जब तक वे उस पर शक करते वह अपना काम कर चुकी थी।

कई फिल्मों में दिखा चुकी हैं कि वे कितनी बेहतरीन एक्ट्रेस हैं। 'राज़ी' में वे अपने स्तर को और ऊंचा उठाती हैं। एक कठिन भूमिका को उन्होंने चैलेंज की तरह लिया और शानदार तरीके से अभिनीत किया। उन्होंने अपने किरदार को उतनी ही मासूमियत और मैच्योरिटी दी जितनी की जरूरत थी। कई दृश्यों में उनका अभिनय लाजवाब है।

विक्की कौशल, जयदीप अहलावत, रजत कपूर, शिशिर शर्मा, आरिफ ज़कारिया, सोनी राज़दान, अमृता खानविलकर सहित सारे कलाकारों का अभिनय बेजोड़ है। सिनेमाटोग्राफी और सम्पादन शानदार है।

राज़ी को जरूर देखा जाना चाहिए।

बैनर : जंगली पिक्चर्स, धर्मा प्रोडक्शन्स
निर्माता : विनीत जैन, करण जौहर, हीरू यश जौहर, अपूर्वा मेहता
निर्देशक : मेघना गुलज़ार
संगीत : शंकर-एहसान-लॉय
कलाकार : आलिया भट्ट, विक्की कौशल, जयदीप अहलावत, रजत कपूर, शिशिर शर्मा, आरिफ ज़कारिया, सोनी राज़दान, अमृता खानविलकर
सेंसर सर्टिफिकेट : यूए * 2 घंटे 20 मिनट
रेटिंग : 4/5

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

गोल्ड : फिल्म समीक्षा

गोल्ड : फिल्म समीक्षा
रीमा कागती द्वारा निर्देशित फिल्म 'गोल्ड' में आधी हकीकत और आधा फसाना को दर्शाया गया है। ...

सत्यमेव जयते : फिल्म समीक्षा

सत्यमेव जयते : फिल्म समीक्षा
मिलन मिलाप ज़वेरी ने 'सत्यमेव जयते' नामक फिल्म उस दर्शक वर्ग के लिए बनाई है जो बड़े परदे ...

अटलजी ने यह फिल्म देखी थी 25 बार

अटलजी ने यह फिल्म देखी थी 25 बार
भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को फिल्म देखने का शौक था। जब भी मौका मिलता ...

बड़ा फैसला, सलमान खान ने क्यों ठुकरा दी आदित्य चोपड़ा की ...

बड़ा फैसला, सलमान खान ने क्यों ठुकरा दी आदित्य चोपड़ा की 'धूम 4'
धूम 4 के लिए आदित्य ने सलमान को फाइनल किया, लेकिन सलमान ने यह फिल्म अब ठुकरा दी है। सलमान ...

सिज़लिंग सुरवीन चावला का एक और हॉट बिकिनी अवतार

सिज़लिंग सुरवीन चावला का एक और हॉट बिकिनी अवतार
सुरवीन चावला बॉलीवुड की कुछ बोल्ड एक्ट्रेसेस में से एक मानी जाती हैं। सुरवीन ने एक बार ...

जब आमिर खान को चढ़ा किरण राव का 'पहला नशा'

जब आमिर खान को चढ़ा किरण राव का 'पहला नशा'
आमिर की यह लव स्टोरी सामने आई है कि पहली पत्नी को तलाक देने के बाद कैसे आमिर को किरण राव ...

सारा अली खान ने इंस्टाग्राम पर अपनी पहली पोस्ट से जीता दिल

सारा अली खान ने इंस्टाग्राम पर अपनी पहली पोस्ट से जीता दिल
सारा अली खान ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट की शुरुआत 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ...

प्रियंका चोपड़ा 18 अगस्त को करने वाली हैं सगाई, चल रही हैं ...

प्रियंका चोपड़ा 18 अगस्त को करने वाली हैं सगाई, चल रही हैं तैयारियां!
निक जोनस को घुमाने के लिए प्रियंका चोपड़ा जब भारत लाई थीं तब ही खबरचियों ने सूंघ लिया था ...

भावुक हुए शाहरुख खान, इस तरह किया अटलजी को याद

भावुक हुए शाहरुख खान, इस तरह किया अटलजी को याद
नई दिल्ली। बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान ने गुरुवार को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ...

Box Office पर जॉन अब्राहम की 'सत्यमेव जयते' का कैसा रहा ...

Box Office पर जॉन अब्राहम की 'सत्यमेव जयते' का कैसा रहा दूसरा दिन
जॉन अब्राहम की फिल्म 'सत्यमेव जयते' का जब ट्रेलर रिलीज हुआ था तब सिंगल स्क्रीन के ...