नंदिता दास ने सेंसर बोर्ड के सिद्धांतों को बताया खतरनाक


फिल्म 'पद्मावत' को लेकर जितने विवाद पिछले कुछ दिनों में हुए हैं उससे पता चलता है कि खुद सेंसर बोर्ड ही चीज़ों को समझ नहीं पा रहा है। पूर्व सेंसर बोर्ड अध्यक्ष पहलाज निहलानी पर भी फिल्मों को सर्टिफिकेट ना देने के आरोप लगाए गए, लेकिन नए अध्यक्ष प्रसून जोशी के आने के बावजूद ज़्यादा बदलाव नहीं हुआ है। इस बारे में फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े कई लोगों ने सेंसर बोर्ड के खिलाफ आवाज़ उठाई है। अब इस लिस्ट में एक्ट्रेस-प्रोड्यूसर का भी नाम जुड़ गया है।

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में नंदिता दास ने अपनी आने वाली फिल्म और सेंसर बोर्ड के बारे में बातें की। नंदिता दास का कहना है कि सेंसर बोर्ड के फिल्मों को सर्टिफकेट देने के नियमों में खामी हैं क्योंकि कुछ मुट्ठीभर लोग यह तय नहीं कर सकते कि पूरा देश क्या देखना चाहता है। यह खतरनाक है कि संस्कृति के कुछ स्व-घोषित संरक्षक, लोगों को यह बताते हैं कि क्या सही है और क्या गलत। कला को आगे बढ़ने के लिए आजादी की जरूरत होती है। सेंसर बोर्ड के सिद्धांत गलत हैं।

अपनी फिल्म 'मंटो' के बारे में उन्होंने बताया कि मैंने फिल्म का विषय मंटो का चुनाव उनके धर्म और राष्ट्रीयता की वजह से नहीं किया बल्कि लेखक किस चीज के लिए आवाज़ उठाते थे, इस वजह से किया है। मंटो खुद को राष्ट्रीयता और धर्म की पहचान से ऊपर का इंसान मानते थे। वे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बड़े हीरो थे। यह फिल्म मशहूर लेखक सआदत हसन मंटो
की बायोपिक है। इसमें मंटो के बारे में कुछ ऐसी बातें होंगी जो कुछ ने शायद सुनी होंगी और कुछ ने नहीं।

इस फिल्म में मंटो का किरदार नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी निभा रहे हैं। मंटो के किरदार के लिए नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी के चुनने के बारे में नंदिता ने कहा कि मैं एक ऐसा अभिनेता चाहती थी जो एक तरफ तो काफी अक्खड़ और स्वार्थी दिख सके, वहीं दूसरी तरफ संवेदनशील हो। जो आंखों के ज़रिये कई तरह के भावों को व्यक्त कर सकें। नंदिता, मंटो और नवाज़ुद्दीन के ग़ुस्से, हास्य और अहं भाव में समानता देखती हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

मुल्क : फिल्म समीक्षा

मुल्क : फिल्म समीक्षा
सभी मुस्लिम आतंकवादी नहीं होते। इस लाइन को अंडरलाइन करते हुए कई फिल्में बनी हैं। अनुभव ...

कारवां : फिल्म समीक्षा

कारवां : फिल्म समीक्षा
कहा जाता है कि एक यात्रा आपको दस किताबों जितना सिखा देती है। इस बात पर कई फिल्में बनी हैं ...

फन्ने खां : फिल्म समीक्षा

फन्ने खां : फिल्म समीक्षा
अच्छी फिल्मों का रीमेक बनाना आसान बात नहीं है और कई बार इनके बिगड़े रूप देखने को मिले ...

सनी लियोनी ने पहली बार एडल्ट फिल्म देखने के बाद किया था यह ...

सनी लियोनी ने पहली बार एडल्ट फिल्म देखने के बाद किया था यह काम
सनी लियोनी की फिल्में भले ही बॉक्स ऑफिस पर पिछले कुछ समय से कोई कमाल नहीं दिखा पाई हो, ...

रेड एंड व्हाइट बिकिनी में नेहा शर्मा ने ढाया गजब

रेड एंड व्हाइट बिकिनी में नेहा शर्मा ने ढाया गजब
एक्ट्रेस नेहा शर्मा ने मैक्जिम मैग्ज़ीन के कवर पेज के लिए फोटोशूट करवाया और वे बेहद हॉट लग ...

‘नमस्ते इंग्लैंड’ में क्या दिखेगा अर्जुन-परिणीति का ...

‘नमस्ते इंग्लैंड’ में क्या दिखेगा अर्जुन-परिणीति का ‘इशकजादे’ वाला जादू?
अर्जुन कपूर और परिणीति चोपड़ा की कैमिस्ट्री तो दर्शक उनकी पहली फिल्म 'इश्कज़ादे' में ही देख ...

प्रियंका ने बढ़ाया सलमान की तरफ दोस्ती का हाथ, लेकिन माफ ...

प्रियंका ने बढ़ाया सलमान की तरफ दोस्ती का हाथ, लेकिन माफ करने के मूड में नहीं सलमान
प्रियंका चोपड़ा जानती हैं कि उनसे गलती तो हो ही गई है। ऐन वक्त पर सलमान की फिल्म 'भारत' ...

बॉक्स ऑफिस पर गोल्ड V/s सत्यमेव जयते, कौन रहेगा भारी

बॉक्स ऑफिस पर गोल्ड V/s सत्यमेव जयते, कौन रहेगा भारी
परमाणु की कामयाबी के बाद जॉन अब्राहम में इतना आत्मविश्वास आ गया कि स्वतंत्रता दिवस पर जब ...

सिनेमाघरों में सन्नाटा, भीड़ लाने का जिम्मा अब अक्षय और जॉन ...

सिनेमाघरों में सन्नाटा, भीड़ लाने का जिम्मा अब अक्षय और जॉन के मजूबत कंधों पर
वर्ष 2018 बॉलीवुड के लिए बहुत अच्छा रहा। अधिकांश फिल्में मुनाफे का सौदा साबित हुईं। इस ...

अजय देवगन ने छोड़ी यह फिल्म, उनकी जगह दिखेगा ये स्टार

अजय देवगन ने छोड़ी यह फिल्म, उनकी जगह दिखेगा ये स्टार
अजय देवगन ने पिछले दिनों कुछ फिल्में साइन की हैं और वे भी अक्षय कुमार की राह पर चल पड़े ...