दर्द को मिटाती है जगजीत की आवाज

जगजीतसिंह के जन्मदिन (8 फरवरी) पर विशेष

‘झुकी झुकी सी नजर’, ‘कागज की कश्ती’ और न जाने अपने कितने गीतों से श्रोताओं के दिल में बसने वाले गजल सम्राट ने सत्तर के दशक में संगीत की इस फीकी पड़ती विधा में नई जान फूंकी और बॉलीवुड में अपनी अलग पहचान बनाई।
उनकी आवाज का दर्द तन्हा दिलों का दर्द मिटाता। ‘ये जिंदगी किसी और की, मेरे नाम का कोई और है’, ‘होठों से छू लो तुम’, ‘तुम को देखा’, ‘हजार बार रुके हम, हजार बार चले’, जैसी हिट गजलें गाकर उन्होंने 70 के दशक में अपनी पहचान बनाई। यह वह दौर था जब गजल के आसमां पर नूरजहां, मल्लिका पुखराज, बेगम अख्तर, तलत महमूद और मेंहदी हसन जैसे स्थापित नाम थे।

उन कालातीत गजलों के पीछे की आवाज की प्रेरणा केएल सहगल, तलत महमूद, अब्दुल करीम खान, बड़े गुलाम अली खान और उस्ताद आमिर खान थे। अपने समय के सबसे सफल और चहेते गायकों में से एक जगजीत ने अपने पांच दशक के करियर में ढेरों गीत और गजलें गाईं। उनके 80 एल्बम भी आए।

अपने प्रशंसकों में ‘गजल सम्राट’ के तौर पर मशहूर जगजीत का जन्म राजस्थान के श्रीगंगानगर में आठ फरवरी 1941 को सरकारी कर्मचारी अमर सिंह धीमन और बचन कौर के यहां हुआ। उनकी चार बहनें और दो भाई थे। परिवार में उनका नाम जीत था। उनके जन्म के समय उनका नाम जगमोहन रखा गया था लेकिन उनके सिख पिता ने अपने गुरू की सलाह पर इसे बदलकर जगजीत कर दिया।

उनके पिता ने अपने पुत्र की प्रतिभा को सबसे पहले पहचाना। उन्होंने नेत्रहीन संगीत गुरु पंडित छगनलाल शर्मा के पास जगजीत को संगीत सीखने भेजा।
बाद में सैनिया घराने के उस्ताद जमाल खान से उन्होंने छह साल संगीत की तालीम ली और खयाल, ठुमरी और ध्रुपद का ज्ञान पाया। जगजीत का मानना था कि संगीत प्रेरणा की वस्तु है प्रतियोगिता की नहीं। उनका कहना था, ‘‘जैसे ही आप संगीत में प्रतियोगिता लाते हैं, उसकी आत्मा मर जाती है।’’ हालिया एक साक्षात्कार में उन्होंने संगीत में रियाज और समर्पण के कम होते जाने पर अफसोस जताया था।
उन्होंने कहा था, ‘‘संगीत एक व्यापक विषय है। संगीत में गणित और व्याकरण होता है। जब तक एक व्यक्ति सबकुछ जान नहीं लेता वह अच्छा गायक नहीं बन सकता। गजल गाने से पहले व्यक्ति को 15 वर्षों तक संगीत सीखना चाहिए।’’

उनके सबसे यादगार नगमों में ‘तुम इतना जो मुस्करा रहे हो’, ‘अपनी मर्जी से कहां अपने सफर के हम हैं’, ‘पहले हर चीज थी अपनी मगर अब लगता है अपने ही घर में किसी दूसरे घर के हम हैं’ थे। उनका आखिरी कंसर्ट 23 सितंबर को माटुंगा के षणमुखानंद हॉल में गुलाम अली के साथ होना था लेकिन उसी दिन वह बीमार पड़ गए। कुछ दिन पहले ही दोनों कलाकारों ने दिल्ली में प्रदर्शन किया था।
उन्होंने गुरुद्वारों में भजन गाकर अपने संगीत के सफर की शुरुआत की। उनके गले के जादू ने जालंधर के डीएवी कॉलेज में उनकी फीस माफ करा दी। आकाशवाणी ,जालंधर में उन्हें व्यावसायिक तौर पर गाने का मौका मिला, जहां उन्हें कम पैसों पर साल में छह सीधे प्रसारण का प्रस्ताव दिया गया।

लेकिन, सफलता सपने की तरह थी। पाश्र्वगायकी में अपने सपने को तलाशने वह 1961 में मायानगरी मुंबई पहुंचे लेकिन असफल प्रयासों ने उन्हें वापस जालंधर पहुंचा दिया। गजल सम्राट 1965 में फिर सपनों की नगरी में पहुंचे और इस बार एचएमवी ने उनकी दो गजलों को रिकॉर्ड किया। इसी वक्त उन्होंने अपने केश कटवाने और पगड़ी को हटाने का फैसला किया।
हालांकि, जगजीत सिंह का पाश्र्वगायिकी में संघर्ष जारी रहा और पैसे कमाने के लिए वह विज्ञापन फिल्मों और वृत्तचित्रों के लिए छोटे मधुर गीत तैयार करते रहे। ऐसी ही एक रिकॉर्डिंग के वक्त उनकी मुलाकात अपनी पत्नी चित्रा से हुई और 1970 में दोनों परिणय सूत्र में बंध गए जोकि उनकी जिंदगी का टर्निंग प्वायंट साबित हुआ।

बॉलीवुड में गजल गायिकी का फीका पड़ना जगजीत के सुनहरे करियर का कारण बना। 1975 में एचएमवी ने जगजीत को उनके पहले एल्बम ‘द अनफॉरगेटेबल्स’ का प्रस्ताव दिया जिसमें जगजीत-चित्रा की गजलें थीं।
पारंपरिक सारंगी और तबले के साथ आधुनिक वाद्य यंत्रों को गजल गायिकी में लाने का श्रेय भी जगजीत को जाता है। उनका अगला एल्बम पंजाबी में ‘बिरहा दा सुल्तान’ था। यह शिव कुकार बतालवी की लोकप्रिय कविताओं पर गाया गया था। इसके बाद चित्रा और जगजीत की जोड़ी का पहला एल्बम ‘कम एलाइव’ आया। इसके बाद दो और एल्बम आए और दोनों के कंसर्ट होने शुरू हो गए।

फिल्मों में भी उन्हें सफलता मिलनी शुरू हुई। 1980 में उन्होंने ‘साथ साथ’ फिल्म में जावेद अख्तर की गजलों और नज्मों को अपनी आवाज दी। उसी साल महेश भट्ट की फिल्म ‘अर्थ’ से जगजीत और चित्रा की प्रसिद्धि आसमान छूने लगी। फिल्म ने ‘तुम इतना जो मुस्करा रही हो’ जैसे सदाबहार गीत दिए।
जगजीत ने 1987 में ‘बियोंड टाइम’ रिकॉर्ड किया। यह किसी भी भारतीय संगीतकार की पहली डिजिटल सीडी थी। गुलजार के टीवी सीरियल ‘मिर्जा’ में उनका गाना एक और मील का पत्थर साबित हुआ। अपने पेशेवर जीवन में वह बुलंदियों को छू रहे थे लेकिन तभी उनकी जिंदगी की सबसे बड़ी त्रासदी हो गई जब 1990 में एक कार दुर्घटना में 18 साल का उनका इकलौता बेटा विवेक मारा गया।

दर्द ने मानो जिदंगी को घेरकर विराम लगा दिया। चित्रा ने अपनी आवाज खो दी और कभी स्टेज पर दोबारा नहीं लौटीं लेकिन जगजीत अपने अवसाद से लड़े। पुत्र की मौत के बाद सिख गुरूवाणी पर आधारित ‘मन जीते जगजीत’ उनका पहला एल्बम था।
पद्मभूषण से सम्मानित गायक एकमात्र ऐसे गायक हैं जिन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविताओं को अपने दो एल्बम नई दिशा (1999) और संवेदना (2002) में अपनी आवाज दी।

‘मिर्जा गालिब’ की सफलता को दोहराने के लिए वह एक बार फिर गुलजार के साथ एल्बम लाने की योजना बना रहे थे।


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

डेडपूल 2 : मूवी रिव्यू

डेडपूल 2 : मूवी रिव्यू
डेडपूल 2 पहली फ्रेम से दर्शकों को तैयार कर देती है कि आप अगले दो घंटे तक कैसी फिल्म देखने ...

ऐश्वर्या राय बच्चन के प्रेम प्रसंग!

ऐश्वर्या राय बच्चन के प्रेम प्रसंग!
खूबसूरत ऐश्वर्या राय बच्चन अब अभिषेक बच्चन की पत्नी बन कर खुशहाल जीवन जी रही हैं। बेटी ...

दुश्मनी हो तो ऐसी

दुश्मनी हो तो ऐसी
बॉलीवुड की एक कहावत है कि दो हीरोइन कभी आपस में दोस्त नहीं हो सकती। आइए बात करते हैं उन ...

सलमान खान की टॉप 10 फिल्में

सलमान खान की टॉप 10 फिल्में
इस समय निर्विवाद रूप से सलमान खान बॉलीवुड के सबसे बड़े स्टार हैं। उनके नाम से ही टिकट ...

सनी लियोनी का कहर ढाने वाला बिकिनी अवतार

सनी लियोनी का कहर ढाने वाला बिकिनी अवतार
सनी लियोनी ने हाल ही में इंस्टाग्राम पर अपनी कुछ तस्वीरें शेयर की है जिसमें वे बेहद हॉट ...

सलमान खान का दम, बीस लाख तो सभी को मिलेंगे

सलमान खान का दम, बीस लाख तो सभी को मिलेंगे
सलमान खान इस समय 'दस का दम' नामक टीवी शो की शूटिंग कर रहे हैं। यह शो पहले भी आ चुका है और ...

आगे बढ़ी '2.0', करना होगा अगले वर्ष तक का इंतज़ार

आगे बढ़ी '2.0', करना होगा अगले वर्ष तक का इंतज़ार
जितनी बड़ी फिल्म, उतना लंबा इंतज़ार और उतनी ही सारी मुसीबतें। कुछ समय पहले ही खबर आई थी कि ...

फिल्म एक्ट्रेस रिचा चड्ढा का ग्लैमरस अंदाज

फिल्म एक्ट्रेस रिचा चड्ढा का ग्लैमरस अंदाज
फिल्म एक्ट्रेस रिचा चड्ढा का ग्लैमरस अंदाज समय-समय पर देखने को मिलता रहता है। वे इस तरह ...

रेस 3 के साथ सनी देओल की इस फिल्म का ट्रेलर होगा रिलीज

रेस 3 के साथ सनी देओल की इस फिल्म का ट्रेलर होगा रिलीज
सलमान खान की फिल्म 'रेस 3' इस वर्ष 15 जून को रिलीज होने जा रही है। ईद वाले सप्ताह में ...

रितिक रोशन को लेकर कृष 4 और कृष 5 बाहुबली स्टाइल में ...

रितिक रोशन को लेकर कृष 4 और कृष 5 बाहुबली स्टाइल में बनाएंगे राकेश रोशन
राकेश का कहना है कि वे एक साथ कृष 4 और कृष 5 बनाएंगे। दोनों भागों की शूटिंग साथ में होगी ...