बिग बॉस के 12वें खिलाड़ी हैं श्रीसंत

क्रिकेटर में 12वां खिलाड़ी ऐसा होता है जो टीम में होकर भी नहीं होता है। खिलाड़ियों को पानी पिलाना, कोई जरूरी मैसेज पहुंचाना, बैट देने जाना उसके मुख्य काम रहते हैं। यदि टीम का कोई खिलाड़ी मैदान से बाहर जाता है तो उसकी जगह वह फील्डिंग करता है, लेकिन बैटिंग या बॉलिंग नहीं कर पाता।

में पूर्व क्रिकेटर 12वें खिलाड़ी जैसा व्यवहार कर रहे हैं। बिग बॉस ने तो उन्हें टीम में शामिल किया है, लेकिन श्रीसंत 12वें खिलाड़ी बने रहना पसंद कर रहे हैं। वे कभी बीमार रहते हैं तो कभी पैर में चोट लग जाती है। उनके जैसा फिट खिलाड़ी जब इस हाल में दिखाई देता है तो लगता है कि अन्य हाउसमेट्स से बचने के लिए इस तरह के बहाने बना रहे हैं।

श्रीसंत कभी भी टास्क में हिस्सा नहीं लेते हैं। बचाव का हथियार हमेशा उनके पास मौजूद रहता है। ऐसा लगता है कि वे हारने से डरते हैं, इसलिए मुकाबले में ही नहीं उतरते। कभी-कभी लगता है कि वे अपने आपको बहुत बड़ा सेलिब्रिटी समझते हैं इसलिए अपने से कम लोकप्रिय लोगों से उन्हें हारना पसंद नहीं है।

वे अच्छे डांसर हैं, लेकिन बिग बॉस में उन्होंने कभी अपना ये हुनर नहीं दिखाया। कभी दर्शकों का मनोरंजन नहीं किया। कभी हंसाया नहीं। हमेशा लड़ने के लिए तैयार रहते हैं। झापट मार दूंगा जैसा जुमला अक्सर बोलते रहते हैं, लेकिन कभी किसी को मारा नहीं। मुंहजोरी भी ठीक से नहीं कर पाते। सिर्फ अपनी कहते हैं और दूसरों की तो सुनते भी नहीं हैं।

श्रीसंत जब बिग बॉस में आए थे तो उम्मीद थी कि वे क्रिकेट को लेकर कुछ रोचक किस्से बताएंगे। ड्रेसिंग रूम की बातें जो लोग नहीं जानते हैं उसके बारे में दर्शकों को जानकारी देंगे। उन पर जो दाग लगा था उसके बारे में चर्चा करेंगे, लेकिन अब तक उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया।

अलग-थलग पड़े रहते हैं। बात-बात पर उबलने लगते हैं। दीपिका, नेहा, सृष्टि जैसी लड़कियां उन्हें शांत रहने के लिए कहती है तो उन्हें यह अटेंशन अच्छा लगता है। इसलिए अपने इस व्यवहार को वे दोहराते रहते हैं।

श्रीसंत के इस अजीबो-गरीब व्यवहार को लेकर तक उन्हें टोक चुके हैं कि श्री यह एक गेम है जिसका लुत्फ उठाओ, लेकिन श्रीसंत को अभी तक यह बात पल्ले नहीं पड़ी है। शायद वे अपनी छवि सुधारने के लिए इस शो में आए थे, लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा है।


और भी पढ़ें :