शुक्र हुए अस्त, 3 फरवरी 2018 तक निरस्त रहेंगे शुभ कार्य



15 दिसंबर को शुक्रास्त, 3 फरवरी तक नहीं होंगे विवाह
पौष कृष्ण प्रतिपदा के साथ ही पौष मास आरम्भ हो गया है। वहीं से हो गया है, जो को पश्चिम दिशा में उदित होगा। पौष मासारम्भ और के चलते अब से लेकर 3 फरवरी 2018 तक मुहूर्त नहीं बनेगा। विवाह मुहू्र्त में शुक्र का बहुत महत्व होता है। शुक्र को नैसर्गिक भोग-विलास एवं दाम्पत्य का स्थिर कारक माना जाता है। अत: विवाह वाले दिन शुक्र के तारे का उदित स्वरूप में होना आवश्यक होता है।
शास्त्रानुसार शुक्र के अस्त होने पर विवाह का निषेध बताया गया है। शुक्रास्त के समय विवाह करना दाम्पत्य सुख से वंचित कर सकता है। अत: शुक्र के उदय होने पर ही विवाह करना श्रेयस्कर होता है। पौष मास को भी विवाह के लिए अशुभ व निषिद्ध माना गया है। पौष मास में विवाह करना शुभ नहीं माना जाता। अत: पौष मास व शुक्रास्त के चलते आगामी 3 फरवरी 2018 तक विवाह मुहूर्त का निषेध रहेगा।
-ज्योतिर्विद् पं. हेमन्त रिछारिया
सम्पर्क: astropoint_hbd@yahoo.com

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :